मुख्यमंत्री ने रेडियो श्रोताओं को बताया ‘अटल दृष्टि पत्र’ के बारे में1 min read

Chhattisgarh

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आकाशवाणी से आज प्रसारित अपनी मासिक रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ की 37वीं कड़ी में ‘अटल दृष्टिपत्र’ के बारे में श्रोताओं को विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा- विगत 15 वर्षों में छत्तीसगढ़ ने पिछड़ेपन का चोला उतार फेंक दिया है और विकसित राज्यों की दौड़ में मजबूत कदमों से शामिल हो गया है। वर्ष 2025 में छत्तीसगढ़ अपनी रजत जयंती वर्ष में कैसा होगा, इसके लिए हमने कुछ लक्ष्य निर्धारित किए हैं और कुछ कदम उठाएं हैं। अब सिर्फ प्रदेशवासियों को ही नहीं देश और दुनिया को भी छत्तीसगढ़ से बड़ी उम्मीदें हैं। इसलिए हमने अटल दृष्टिपत्र बनाने की शुरुआत की है, जिसे नवा छत्तीसगढ़ 2025 कहा गया है। वर्ष 2025 तक छत्तीसगढ़ एक स्मार्ट, हरित राज्य होगा, जहां प्रत्येक नागरिक सशक्त, समृद्ध एवं खुशहाल होगा। जहां तरक्की और सामाजिक न्याय एक दूसरे के पूरक होंगे। जहां प्रौद्योगिकी ना सिर्फ आम जनता का जीवन संवारने का माध्यम बनेगी बल्कि पारदर्शी और सहभागी सरकार चलाने में भी प्रौद्योगिकी की बड़ी भूमिका होगी।

वर्ष 2025 तक छत्तीसगढ़ का जी.एस.डी.पी. दोगुना होगा

    मुख्यमंत्री ने कहा- हम ऐसे तरीके अपनाएंगे जिसमें मानवीय श्रम और प्रौद्योगिकी के संगम से हर व्यक्ति को गरिमापूर्ण जीवन मिले। वर्ष 2025 तक प्रदेश का जी.एस.डी.पी दोगुना हो जायेगा, प्रति व्यक्ति आय के मामले में छत्तीसगढ़ भारत के शीर्ष पांच राज्यों में से एक होगा। किसानों की आय वर्ष 2022 तक दोगुनी कर उन्हें सशक्त बनाएंगे और आधुनिक तकनीक के उपयोग से उत्पादकता बढ़ाएंगे। प्रत्येक नागरिक को गुणवत्तापूर्ण एवं किफायती स्वास्थ्य देखभाल का अधिकार होगा। सभी छत्तीसगढ़ वासियों के लिए अपने घर का सपना तो हम वर्ष 2022 तक ही पूरा कर देंगे। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की व्यवस्था छत्तीसगढ़ की खास पहचान होगी। वर्ष 2025 तक छत्तीसगढ़ शिक्षा की गुणवत्ता में देश के शीर्ष पांच राज्यों में से एक होगा। हर बच्चा स्कूल में पढ़ रहा होगा। प्रदेश में शत प्रतिशत साक्षरता होगी। वर्ष 2025 तक 15 प्रतिशत से कम लोग गरीबी रेखा के नीचे होंगे। वर्ष 2030 तक हम गरीबी का संपूर्ण उन्मूलन करने में सफल होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी नागरिकों के लिए शुद्ध पेयजल, दूरभाष संपर्क, बेहतर स्वच्छता एवं अपशिष्ट निपटान की बेहतर सुविधाएं होंगी। सौ प्रतिशत आंगनबाड़ियों और स्कूलों में शुद्ध पेयजल उपलब्ध होगा। वर्ष 2025 में छत्तीसगढ़ की पहचान शानदार सड़कों, पर्याप्त रेलवे नेटवर्क, विमानन सुविधाओं से होगी, जिसके लिए प्रमुख शहरों में हवाई सुविधा सहित बेहतर क्षेत्रीय संपर्क, दस हजार किलोमीटर की अतिरिक्त सड़कें एवं तेरह सौ किलोमीटर का अतिरिक्त रेलवे नेटवर्क होगा। छत्तीसगढ़ भारत में निवेश एवं उद्यमिता के लिए सबसे पसंदीदा राज्य होगा और अग्रणी निर्यात केंद्रों में से एक होगा। छत्तीसगढ़ वर्ष 2025 तक देश का अग्रणी, हरित पर्यावरण मित्र राज्य होने के कारण देश के प्रमुख पर्यटन गंतव्यों में भी शामिल होगा। छत्तीसगढ़ की महिलाएं सुरक्षित, अधिकार संपन्न, शिक्षित, स्वतंत्र, बराबरी के अवसरों से युक्त होंगी और राज्य के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे रही होंगी। यह एक अवधारणा है जिसके आधार पर काम किया जा रहा है। डॉ. सिंह ने प्रदेशवासियों से कहा-नवा छत्तीसगढ़ 2025 की तैयारी में आप लोगों को भी जुटना होगा क्योंकि हम सब मिलकर जब छत्तीसगढ़ की रजत जयंती मनाएंगे, तो वह हमारी अस्मिता का महान उत्सव, आनंद और गौरव का नया एहसास होगा।

Facebook Comments