IPL खिलाड़ी पर दर्ज हुआ अपहरण का मामला, सभी आरोपी फरार1 min read

Sports

भोपाल: आईपीएल खिलाड़ी मोहनीश मिश्रा और उसके साथियों पर एक युवती का अपहरण करने का मामला भोपाल के एमपी नगर थाने में दर्ज किया गया है. अपहृत युवती मोहनीश के दोस्त की परिचित बताई जा रही है. आरोप है कि मोहनीश और उसके दोस्तों ने कार से युवती का अपहरण किया और उसे रेलवे ट्रैक ले गए. वहां उसके साथ मारपीट की और कपड़े फाड़े और गला दबाकर मारने की कोशिश की. इसके बाद आरोपी फिर कोचिंग पहुंचे और कोचिंग के वाइस प्रेसिडेंट से जमकर मारपीट की. वारदात के बाद आरोपी घर पर ताला लगाकर फरार हैं.

युवती ने लगाए मारपीट और अपहरण के आरोप
बताया जा रहा है कि केरल निवासी 27 वर्षीय युवती एमपी नगर जोन-2 स्थित एक कोचिंग में अकाउंटेंट है. एसआई एमपी नगर करिश्मा राजावत ने बताया कि युवती शुक्रवार शाम करीब 6 बजे थाने पहुंची थी. उसने पुलिस को बताया कि वह कोटरा में मां और बहन के साथ रहती है. शुक्रवार दोपहर करीब साढ़े 12 बजे कोचिंग में ड्यूटी पर थी. तभी उसके दोस्त आशीष सिंह ने फोन करके उसे बाहर बुलाया. बाहर आते ही उसे वे जबरन कार में बैठाकर एक सुनसान रेलवे ट्रैक के पास ले गए. युवती के अनुसार, कार में आशीष के अलावा रिंकू, गोलू, मोहनीश समेत पांच- सात लोग थे.

युवती के कोचिंग संचालक से दोस्ती से हुए नाराज
युवती ने पुलिस को बताया कि वहां पर आशीष ने कहा कि तुम विक्रम (कोचिंग संचालक) के साथ बहुत घूम रही हो. तुम्हारे बीच क्या चल रहा है. इतना पूछने के साथ ही आरोपियों ने युवती के साथ मारपीट शुरू कर दी. युवती ने बताया कि वहां मदद के लिए एक बाइक सवार आया, तो उसे भी धमकाकर भगा दिया. बाद में युवती ने वहां से अपनी कोचिंग में फोन किया. आरोपी वारदात के बाद कोचिंग गए और वहां वाइस प्रेसिडेंट विक्रम सिंह से मारपीट की. युवती ने कोचिंग पहुंचकर प्रबंधन को इसके बारे में बताया. शाम को उन्होंने थाने पहुंचकर इसकी शिकायत की.

आरोपी को चार साल से जानती है युवती
युवती ने पुलिस को बताया कि वह आरोपी आशीष को बीते चार साल से पहचानती है. वे अच्छे दोस्त थे. इसी को लेकर वह ज्यादा करीब आने का प्रयास करने लगा था. उसे शक था कि उसका विक्रम से कुछ चल रहा है. इसी कारण उसने इस तरह की वारदात को अंजाम दिया.

करीब 5 से 7 मिनट तक कोचिंग में की तोड़फोड़
कोचिंग के वाइस प्रेसिडेंट विक्रम सिंह ने बताया, “शुक्रवार दोपहर करीब एक बजे कुछ लोग ऑफिस में घुस आए. ऑफिस स्टाफ से बदसलूकी करने लगे. मैं बीच-बचाव के लिए आया तो उन्होंने मारपीट शुरू कर दी. करीब पांच से सात मिनट तक कोचिंग के अंदर तोड़फोड़ और गाली-गलौच करते रहे. ऑफिस के कर्मचारियों ने बताया कि आरोपियों के पास पिस्टल और छुरी थी. हालांकि मैंने किसी के पास हथियार नहीं देखा. आरोपियों के नाम आशीष, गोलू, मोहनीश और गोलू है. इसके अलावा दो से तीन और लोग उनके साथ थे. मैंने अकाउंटेंट के साथ मिलकर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है.”

Facebook Comments