बड़ी खबर : 24 घन्टो में रीवा सहित 20 जिलो में भारी बारिश की चेतावनी , पढिये1 min read

Madhya Pradesh Rewa

भोपाल। बुंदेलखंड में बारिश अब आफत बन गई है। बीते तीन दिन से यहां जारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। वहीं मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों में प्रदेश के 20 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी दी है। बीते दो दिन से जारी बारिश से टीकमगढ़ और दतिया जिला सबसे ज्यादा प्रभावित रहा है। ओरछा में बेतवा नदी उफान पर है।

यहां बहुत भारी बारिश की चेतावनी

भिण्ड, मुरैना, श्योपुर, गुना, ग्वालियर, दतिया, अशोकनगर, शिवपुरी, टीकमगढ़, छतरपुर, पन्ना, दमोह, सतना, रीवा, सीधी, सिंगरौली, शहडोल, राजगढ़, नीमच एवं मंदसौर जिलों में भारी बारिश की चेतावनी दी है।

24 घंटों में कहां कितनी बारिश

श्योपुर 41.0, नौगांव 37.2, सतना 25.1, दतिया 18.0, टीकमगढ़ 08.0, ग्वालियर 12.4, खजुराहो 22.0, इंदौर 10.6 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है।

तीन दिन की बारिश से सब अस्त-व्यस्त

ओरछा में पिछले तीन दिन से हो रही बारिश के कारण बेतवा-जामनी व सातार नदी उफान पर हैं। पर्यटन नगरी ओरछा के पश्चिम में बबीना रोड स्थित घुरारी नदी का पुल डूबने से व उत्तर में ओरछा झांसी मार्ग पर सातार नदी के रिपटे पर करीब 10 फीट पानी होने से ओरछा 8 घंटे के लिए टापू में तब्दील हो गया। बेतवा में उफान आने से नदी किनारे बने तीन सितारा होटल की दीवार ढहने से होटल में पानी भर गया। कलेक्टर अभिजीत अग्रवाल के अनुसार माताटीला बांध में अधिक पानी आने के कारण शनिवार शाम को चार लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया हैं। बेतवा नदी के तटवर्ती क्षेत्र में अलर्ट जारी करते हुए प्रशासन ने पुलिस बल को सतर्क कर दिया हैं।

नॉटघाट पुल और मंदिरों तक पहुंचा पानी

बेतवा में बढ़ते जलस्तर के कारण नॉटघाट पुल के पास करीब 10 साल बाद पानी पहुंचा है। ओरछा बेतवा नदी के किनारे स्थित तीन सितारा होटल रिसोर्ट की दीवार टूट गई और पानी होटल के अंदर भर गया। राहत की बात यह रही कि जिस वक्त होटल में पानी भरा उस समय होटल में सैलानी नहीं थे। नदी किनारे स्थित पर्यटन पुलिस चौकी में पानी घुस गया। जिसके चौकी प्रभारी अंकित दुबे को स्टाॅप के साथ चौकी खाली कर दूसरी जगह जाना पड़ा। इसके अलावा पानी के तेज बहाव से बेट्वेश्वर महादेव मन्दिर, मनसापूरण हनुमान मन्दिर के अंदर पानी करीब पांच फीट पानी भर गया। चौकी मन्दिरों व तीन सितारा होटल में एकायक पानी भरने से अफरा-तफरी मच गई, लेकिन प्रशासन की मुस्तैदी के कारण किसी भी प्रकार की जनहानि नहीं हुई।

Facebook Comments