रीवा : उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ल ने किया शुभारम्भ, अब आप घर बैठे ले सकते है इसका लाभ1 min read

Rewa

रीवा। .. लोगों तक सुख-दुख का संदेश तथा मनीआर्डर पहुंचाने वाले डाकिये अब घर बैठे बैंकिंग की सुविधा देंगे। डाक विभाग ने पूरे देश में एक सितम्बर से इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक का शुभारंभ हुआ है। रीवा में उद्योग तथा खनिज मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कृष्णा राजकपूर आडिटोरियम में आयोजित समारोह में इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक का शुभारंभ किया। अब डाकिये के माध्यम से घर बैठे राशि प्राप्त हो जायेगी। पूरी व्यवस्था पेपरलेस है। केवल मोबाइल नम्बर तथा आधार नम्बर के आधार पर एक मिनट में बैंक खाता खुल जायेगा। इसके माध्यम से एक लाख रूपये तक की राशि जमा हो सकती है। देश में एक लाख 55 हजार डाकघरों में दिसंबर माह तक इस इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक की सुविधा उपलब्ध हो जायेगी। अब ग्रामीण क्षेत्र की दूर-दराज आबादी तक बैंकिंग सुविधा सरलता से पहुंचेगी। बैंकिंग सेवा के विस्तार से डाक विभाग को भी नया जीवन मिलेगा।

इस अवसर पर उद्योग मंत्री ने कहा कि डाकिये वर्षों तक पत्र पहुंचाते रहे। समय के साथ इसमें परिवर्तन हुआ। पत्र ई-मेल से और संदेश मोबाइल पर आने लगे। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 15 अगस्त 2014 के लाल किले से संबोधन में इस समस्या के समाधान के लिये सुझाव दिया। उन्होंने नई तकनीक को ही हथियार बनाकर डाक विभाग को नया जीवन दिया। अब डाकिया पत्र के साथ बैंकिंग सुविधा लायेगा। इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक की सुविधा डाकघर के इतिहास की सबसे बड़ी छलांग है।
उद्योग मंत्री ने कहा कि अब मजदूर को मनरेगा की मजदूरी तथा गरीब वृद्ध को पेंशन राशि के लिये बैंकों के चक्कर नहीं लगाने पडेंगे। केवल अंगूठा लगाने से बैंक खाता खुल जायेगा और डाकिया घर बैठे रूपया दे जायेगा। सीमित संसाधनों के कारण काफी बड़े ग्रामीण क्षेत्र में बैंकों की पहुंच नहीं थी। डाकघरों के माध्यम से अब हर गांव, हर बस्ती में बैंकिंग सुविधा उपलब्ध हो जायेगी। इस ऐतिहासिक उपलब्धि के लिये प्रधानमंत्री जी बधाई के पात्र हैं। उद्योग मंत्री ने समारोह में इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के शुभारंभ अवसर पर जारी डाक टिकट का विमोचन किया। मंत्री श्री शुक्ल ने स्वयं खाता खुलवाकर बैंक शुभारंभ किया। उन्होंने मौके पर खाता खुलवाने वाले ग्राहकों को क्यू आर कार्ड प्रदान किया।

कार्यक्रम में डाक विभाग के संभागीय प्रबंधक एके जैन ने इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि देश के ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकों की 49 हजार शाखाएँ हैं जबकि डाक विभाग की एक लाख 55 हजार शाखाएँ हैं। केवल मोबाइल तथा एक अन्य उपकरण से डाकिया चलता फिरता बैंक बन गया है। बैंक खाता खुलते ही खाता धारक को क्यू आर कार्ड दिया जायेगा। इसी के माध्यम से खाता संचालित होगा। पैसे-रूपये निकालने के लिये न फार्म भरना होगा, न एटीएम लगेगा, न पासवर्ड याद रखने की जरूरत होगी। यह बैंक शत-प्रतिशत सरकार के नियंत्रण तथा अधीन है। इस बैंक से ऋण देने की सुविधा नहीं है लेकिन पंजाब नेशनल बैंक से अनुबंध करके आवश्यक होने पर ग्राहक को ऋण सुविधा भी दी जायेगी। समारोह में पूर्व कुलपति श्री रहस्यमणि मिश्रा ने भी अपने विचार व्यक्त किये। समारोह में महापौर श्रीमती ममता गुप्ता, विधायक सिरमौर श्री दिव्यराज सिंह, पार्षद श्री शिवदत्त पाण्डेय, अपर कलेक्टर श्रीमती इला तिवारी, डाक विभाग के अधिकारी-कर्मचारी एवं बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित रहे। समारोह में दिल्ली के ताल कटोरा स्टेडियम से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के शुभारंभ समारोह के उद्बोधन का सीधा प्रसारण दिखाया गया।

Facebook Comments