बड़ी खबर : सवर्णों की रैली पर दलितों ने बरसाए पत्थर, हालत काबू से बाहर, मची भगदड़, 1

बड़ी खबर : सवर्णों की रैली पर दलितों ने बरसाए पत्थर, हालत काबू से बाहर, मची भगदड़,

Madhya Pradesh

ग्वालियर/शिवपुरी। जिले की लुकवासा तहसील में दलित और सवर्णों के बीच जनकर पत्थरबाजी हुई है। दलित और सवर्णों के बीच हुए इस पथराव ने एससीएसटी एक्ट के विरोध में चल रहे भारत बंद में की आग में घी का काम कर दिया है। जिस कारण शिवपुरी में माहौल बिगडऩे की संभावना है। बताया गया है कि सवर्णों की बाइक रैली लुकवासा में जाटवों के मुह्ल्ले से निकल रही थी। तभी वहां रहने वाले जाटव समाज के लोगों ने सवर्णों पर पथराव शुरू कर दिया। अचानक से पथराव शुरू होने के बाद सवर्णों ने भी जाटवों पर जमकर पथराव शुरू कर दिया।

डंडे से जाटवों पर हमला कर दिया। देखते ही देखते मामला बढ़ गया तभी किसी ने लुकवासा पुलिस चौकी में घटना की जानकारी दे दी। जानकारी मिलते ही भारी मात्रा में पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों समाज के लोगों को अलग किया। लोगों को शांत करा घरों में जाने को कहा।

एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के खिलाफ गुरुवार को शिवपुरी शहर सहित जिला पूरी तरह से बंद रहा। इस बंद को सफल बनाने में व्यापारी वर्ग सहित सभी वर्गों ने अपना पूर्ण समर्थन दिया। लेकिन शुक्रवार को अल सुबह से ही बंद के दौरान अग्रसेन चौक के पास कुछ युवाओं रैली निकालते हुए आरक्षण और मुख्यमंत्री मुर्दाबाद के नारे भी लगाए। इस दौरान पुलिस हर तरफ अलर्ट रही और मोबाइल ने लगातार भ्रमण कर हालातों की मॉनीटरिंग की।

पूर्व घोषित भारत बंद के चलते सुबह से ही शिवपुरी शहर का मुख्य बाजार कोर्ट रोडसहित कमलागंज, पुरानी शिवपुरी, फिजीकल क्षेत्र की दुकानें पूर्णत: बंद रहीं। इतना ही नहीं पेट्रोल पंप से लेकर पान की दुकानें तक बंद रहीं। हर दिन सुबह नाश्ते के लगने वाले ठेले भी आज नहीं खुले। चूंकि पुलिस ने सुरक्षा के मद्देनजर अलसुबह से ही शहर के चौराहों-तिराहों पर पुलिस जवान तैनात कर दिए थे, इसलिए कहीं भी विवाद की स्थिति निर्मित नहीं हुई।

बाजार बंद के दौरान आधा दर्जन से अधिक युवाओं ने अग्रसेन चौक के पास सडक़ पर खड़े होकर आरक्षण मुर्दाबाद व शिवराज सिंह चौहान मुर्दाबाद के नारे लगाए। नारेबाजी करने के बाद ये युवा बाजार में निकल गए। बाजार बंद किसी के दवाब में न करते हुए व्यापारी वर्ग ने स्वयं की इच्छा से अपने प्रतिष्ठान बंद रखकर एक्ट में किए गए संशोधन का विरोध जताया।

दलित और सवर्णों के बीच जमकर हुआ पथराव, जाटव मुहल्ले से निकल रही थी सवर्णों की रैलीशिवपुरी जिले की ग्राम पंचायत बामौरकलां में भारत बंद पूर्णत: रहा
बामौरकलां के व्यापारी मंडल अध्यक्ष इन्द्रसेन जैन ने बताया कि समस्त व्यापारी गणों ने अपनी स्वेक्षा से अपने प्रतिष्ठान बंद रखे। आज सभी लोंगो ने जिस तरह पार्टी व राजनीति से ऊपर उठकर जो माहौल बनाया है, वह वास्तव में आने वाले भविष्य के लिए एक सुखद संकेत है। बामौरकलां के सभी संस्थान चाहे वह दुकाने हों, कोचिंग संस्थान, स्कूल या किसी भी तरह का कोई भी व्यापार हो, सभी ने एकता का प्रदर्शन करते हुए शांतिपूर्ण माहौल में अपने प्रतिष्ठान बंद रख विरोध जताया। पुलिस प्रशासन ने भी शांति बनाएं रखने में अपनी भूमिका निभाई और सुबह से ही निश्चित अंतराल में पेट्रोलिंग करती नजऱ आई।

वहीं भिंड में स्थानिय विधायक नरेंद्र कुशवाह के पुत्र पुष्पेंद्र कुशवाह को नारेबाजी करने के विरोध में पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया। जिसके बाद से भिंड में हालात बिगड़ गए। विधायक समर्थकों ने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करना शुरू कर दिया और टायर की दुकान में आग लगी दी। समर्थक कहने लगे की या तो हमें भी गिरफ्तार करो या फिर विधायक पुत्र को छोड़ दो……

मुरैना में सवर्णों ने सिंधिया और सीएम शिवराज के पोस्टर में आग लगाई है। विरोध करने के लिए लोगों ने सरकार के खिलाफ जी भर के नाराबाजी की है। वहीं पुलिस पूरे घटना क्रम में नजर बनाए हुए है।

बड़ी खबर : सवर्णों की रैली पर दलितों ने बरसाए पत्थर, हालत काबू से बाहर, मची भगदड़, 2

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •