लोकसभा चुनाव 2019: इन तारीखों में हो सकते हैं चुनाव, लगने वाली है आचार संहिता

Madhya Pradesh

भोपाल। 17वीं लोकसभा के लिए दो माह बाद होने जा रहे आम चुनाव की आचार संहिता एक सप्ताह में कभी भी लग सकती है। मध्यप्रदेश में राजनीतिक दल चुनाव प्रचार में लग गए हैं, हालांकि अब तक कांग्रेस ने ही कुछ प्रत्याशियों के नाम तय किए हैं।

देश में 17वीं लोकसभा के लिए होने जा रहे आम चुनावी की तिथियों का ऐलान एक सप्ताह के भीतर हो सकता है। लोकसभा चुनाव के लिए मध्यप्रदेश में राजनीतिक दलों के साथ ही आम लोग भी बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 8 मार्च से 20 मार्च होली के पहले कभी भी आचार संहिता लग जाएगी। चुनाव आयोग कभी भी चुनाव की तारीखें घोषित कर सकता है। तारीखें घोषित होते ही पूरे देश में चुनाव की आचार संहिता लग जाएगी। इसके साथ ही मध्यप्रदेश में भाजपा, कांग्रेस, बसपा और समाजवादी पार्टी चुनाव प्रचार में कूद जाएंगी।

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा थोड़े दिन पहले ही कह चुके हैं कि देश में चुनाव तय समय पर ही कराए जाएंगे। यह बात उन्होंने भारत पाक के मध्य बढ़े तनाव के बीच कही थी। इससे पहले चुनाव आयोग की एक टीम ने कश्मीर के हालातों का जायजा लिया। इसके बाद अब कयास लगने लगे हैं कि एक से दो सप्ताह के मध्य कभी भी चुनाव की तारीखें घोषित कर दी जाएगी।

क्या कहते हैं लोग
भोपाल के हरद्वारीलाल शर्मा कहते हैं कि चुनाव की तारीखें जल्द ही घोषित हो जाना चाहिए, जिससे हम अपने अन्य कार्यक्रम तय कर सकें। शर्मा का कहना है कि चुनाव आयोग को जल्द ही तारीखें घोषित कर देना चाहिए।
-भोपाल के संतोष नायडू कहते हैं कि हमें परिवार के साथ ही मई माह में घूमने का कार्यक्रम बनाना है, रिजर्वेशन आदि करना है।

कब लग सकती है आचार संहिता
-जिस दिन चुनाव आयोग तारीखों की घोषणा करेगा, उसी दिन से चुनाव की आचार संहिता मानी जाती है।
-2014 के लोकसभा चुनाव के लिए 5 मार्च को तिथियो की घोषणा हुई थी।
-सूत्रों के मुताबिक सभी परिणाम तीन जून तक आ जाएंगे।
-सूत्रों के मुताबिक माना जा रहा है कि इस बार भी पूरे देश में 9 चरणों में चुनाव संपन्न कराए जा सकते हैं। क्योंकि पिछली बार भी 9 चरणों में चुनाव कराए गए थे।

कब हुए थे पिछले चुनाव
-पिछले चुनाव 7 अप्रैल से 12 मई तक नौ चरणों में कराए गए थे।
-रिजल्ट 16 मई को आ गए थे।
-पहले चरण के मतदान की अधिसूचना 14 मार्च को जारी हुई थी।
-मोदी सरकार ने 26 मई को सत्ता ग्रहण की थी।
-पिछले चुनाव में उत्तर प्रदेश और बिहार में 6 चरणों में चुनाव हुए थे।
-पश्चिम बंगाल और जम्मू-कश्मीर में 5 चरणों में चुनाव हुआ था।

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •