NEWS/lockdown Rewa.jpg

Lockdown तोड़ने पर Rewa पुलिस ने दी ऐसी सजा कि लोगो ने कहा- इसे कहते हैं 'संस्कारी सजा'

RewaRiyasat.Com
Shashank Dwivedi
17 May 2021

देश में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के बीच राज्य की कई सरकारों ने लॉकडाउन (Lockdown) लगाने का निर्णय लिया है. जिसके बाद कोरोना एक्टिव केसो में कमी भी आई है. ऐसे में कुछ लोगो के घर से बेवजह निकलने के कारण संक्रमण बढ़ने का खतरा बढ़ता जा रहा है. ऐसे में मध्यप्रदेश के रीवा (Rewa) जिले की पुलिस ने लॉकडाउन (Lockdown) तोड़ने वालो को एक अनोखी सजा दी है. 

रीवाः मध्यप्रदेश में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए शिवराज सरकार हर तरह के जोखिम उठा रहे है. बावजूद इसके लॉकडाउन (Lockdown) लगने के बाद भी लोग नियम तोड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है. लॉकडाउन लगने के बाद भी लोग घरो से बाहर किसी न किसी बहाने से निकल रहे है. जिससे कोरोना संक्रमण बढ़ने का खतरा बढ़ता जा रहा है. नियम तोड़ रहे लोगो को देश के अलग-अलग शहरों में अलग-अलग सजा दी जा रही है. इस बीच मध्यप्रदेश के रीवा शहर में भी Lockdown तोड़ रहे लोगो को पुलिस ने अनोखी सजा दी. आपको बता दे की वीडियो वायरल होने पर लोगों ने मजाकिया लहजे में इसे 'संस्कारी और धार्मिक सजा' बताया.

कोरोना का भय / अस्पताल में युवक ने खुद को मारा चाकू, हो गई मौत, कुछ घंटे बाद रिपोर्ट निगेटिव आई

पहनाई फूल-माला और तिलक भी लगाया 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक वायरल वीडियो में रीवा के सिरमौर चौक पर अमहिया थाना पुलिस तैनात थी. इस दौरान घर से निकलकर बेवजह घूमने वालो को पुलिस ने पकड़ लिया और इसके बाद सभी को पहले फूल-माला पहनाई, फिर उनका तिलक किया और आरती करते हुए उनका वीडियो भी बनाया. पुलिस के इस कारनामे की हर जगह तारीफ हो रही है. वही कुछ लोग पुलिस की आलोचना भी कर रहे है. 

LIVE: देश के इस राज्य में एक्टिव हैं 16 तरह के Corona Virus वेरिएंट

ये है वजह 

जानकारी के मुताबिक देश के अलग-अलग हिस्सों से पुलिस के बारे में नकारात्मक खबरे आ रही थी. बताया जाता है की पुलिस के ऊपर मास्क न लगाने और लॉकडाउन तोड़ने वालो पर जोर-जबरजस्ती और मारपीट जैसे गंभीर आरोप लगते रहे है. इस बीच रीवा रियासत न्यूज़ पोर्टल ने जब रीवा यातायात थाना प्रभारी मनोज वर्मा से बात की तो उन्होंने बताया की जैसा की आप जानते है  बताया कि उच्च न्यायालय व मानवाधिकार आयोग ने निर्देश जारी किया है कि लॉकडाउन तोड़ने वालों को मारा-पीटा न जाए. उन्हें ऐसी सजा दी जाएं की वो खुद शर्मिंदा हो जाये। ऐस में हमने इस तरह की सजा देना उचित समझा. गौरतलब है की लोगो को खुद  शर्मिंदगी महसूस होगी और वो कभी नियम नहीं तोड़ेंगे। 

 

Comments

Be the first to comment

Add Comment
Full Name
Email
Textarea
SIGN UP FOR A NEWSLETTER