REWA: 7400 क्विंटल चना दो महीनों से राशन की दुकानों पर नही पहुचा जिला प्रशासन की बड़ी लापरवाही सामनें आई

REWA: 7400 क्विंटल चना दो महीनों से राशन की दुकानों पर नही पहुचा जिला प्रशासन की बड़ी लापरवाही सामनें आई

रीवा

REWA: 7400 क्विंटल चना दो महीनों से राशन की दुकानों पर नही पहुचा जिला प्रशासन की बड़ी लापरवाही सामनें आई

REWA: कोरोनकाल में प्रधानमंत्री ने निःशुल्क खाद्यान्न वितरण के लिए योजना बनाई थी। जिसे प्रदेश सरकार लागू कर जिले के जिम्मे सौप दिया था। जिले में खाद्यान्न वितरण की व्यवस्था भगवान भरोसे चल रही है। अफसरों की अनदेखी इस कदर है कि जिले में अभी तक जुलाई माह का पीडीएस का खाद्यान्न वितरण नहीं हो सका है। हैरान करने वाली बात तो यह कि लॉकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत जुलाई और अगस्त माह में वितरण के लिए गेहूं, चावल व चना दुकानों पर अभी तक नहीं पहुंचा है। प्रत्येक पात्र परिवार के प्रति सदस्यों के मान से पांच-पांच किलो खाद्यान्न मुफ्त में देने के लिए आवंटन जारी हो गया है। वितरण करना तो दूर अभी तक खाद्यान्न दुकानों पर गेहूं, चावल व चना नहीं पहुंचा है। जिससे खाद्यान्न वितरण की व्यवस्था सवालों के घेरे में है।

नगर पालिका के अध्यक्ष CORONA पॉजिटिव, भोपाल में हुए आइसोलेट : Maihar News

प्रत्येक सदस्य को 5-5 किलो खाद्यान्न

केन्द्र सरकार ने लॉकडाउन के दौरान प्रत्येक गरीब परिवार के सदस्यों को प्रधानमंत्री कल्याण गरीब योजना के तहत पांच-पांच किलो खाद्यान्न मुफ्त में वितरण के लिए आवंटन दिया है। लेकिन, अभी तक दुकानों पर जुलाई और अगस्त माह का खाद्यान्न ही नहीं पहुंचा है। प्रत्येक परिवार के प्रति सदस्यों की दर से एक किलो चावल व चार किलो गेहूं मिलाकर पांच-पांच किलो दिया जाना है। अभी तक दुकानों पर नहीं पहुंचा है। अधिकारियों का दावा है कि अप्रैल, मई और जून माह में चावल के साथ दाल का वितरण कर दिया गया है। जून माह की दाल जुलाई में प्रत्येक परिवार को एक-एक किलो की दर से वितरण की गई है। अभी जुलाई और अगस्त माह का चना दुकानों पर नहीं पहुंचा है। जिससे वितरण प्रभावित है।

शासन ने जुलाई-अगस्त माह का जारी किया आवंटन

जुलाई व अगस्त माह में 7400 क्विंटल चना भी नहीं पहुंचा जिले में जुलाई और अगस्त माह का आवंटन शासन से जारी हो गया है। लेकिन, अभी तक राशन दुकानों पर खाद्यान्न नहीं पहुंचा है। रेकार्ड के अनुसार जुलाई माह में 3800 क्विंटल और अगस्त में 3600 क्विंटल चना का आवंटन आया है। अभी तक वितरण नहीं किया गया। जुलाई बीत गया। अभी अगस्त बाकी है।

जोश में आए Rewa के अतिथि विद्वान, कॉलेज पर लगाया चौका देने वाला आरोप…

त्योथर में 12 हजार परिवारों को नहीं मिला खाद्यान्न

नागरिक आपूर्ति निगम व जिला खाद्य नियंत्रक कार्यालय के अफसरों की मनमानी इस कदर है कि जुलाई माह में पीडीएस का खाद्यान्न 31 जुलाई तक दुकानों पर नहीं पहुंचाया गया। जिससे जुलाई माह में वितरण बंद होने के बाद भी अभी 12 हजार परिवारों को खाद्यान्न नहीं मिला है। क्षेत्र की राशन दुकान चौरा नानकार में 272 कार्डधारी हैं। वितरण मजह 16 परिवारों का हुआ है। डीह में 509 पात्र परिवार है। 27 को राशन मिला है। यही नहीं अव्यवस्था का आलम यह है कि कलवारी में 659 कार्डधारी हैं, जिसमें महज एक परिवार को राशन मिला है। पीओएसा मशीनों के रेकार्ड के अनुसार त्योंथर में कुल 34 परिवार हैं। इनमें 22 हजार परिवारों को खाद्यान्न वितरण किए जाने का दावा किया गया है। शेष 12 हजार परिवारों को आज दिनांक तक खाद्यान्न नहीं मिला है।

मध्यप्रदेश: Indore से चलेंगी 3 Private Trains, ये है रुट और टाइम..

हर माह 90 हजार क्विंटल जारी किया खाद्यान्न

पीएमजीकेवाई के तहत 90 हजार क्विंटल हर माह आवंटन लॉकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (पीएमजीकेवाई) प्रति परिवार के सदस्यों के मान से चार किलो गेहूं व एक-एक किलो चावल का आवंटन जुलाई और अगस्त में दिया गया है। लेकिन, खाद्यान्न दुकानों पर पीडीएस के अलावा जुलाई और अगस्त माह में गरीबों को पांच-पांच किलो खाद्यान्न नहीं दिया जा रहा है। नान रेकार्ड के अनुसार पीडीएस के अलावा पीएमजीकेवाई का 72 हजार क्विंटल गेहूं व 18 हजार क्विंटल चावल की सप्लाई राशन दुकानों पर की गई है। जुलाई और अगस्त को मिलाकर एक लाख लेकिन, वितरण नहीं किया गया।

[रीवा से विपिन तिवारी की रिपोर्ट]

मध्यप्रदेश के छात्रों के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी, पढ़िए पूरी खबर

[signoff]