MP: नाराज CM SHIVRAJ ने हटाया कलेक्टर को, मामला चौका देगा

CM SHIVRAJ का बड़ा बयान: जारी रहेगा LOCKDOWN लेकिन ये होंगे बदलाव

मध्यप्रदेश

CM SHIVRAJ का बड़ा बयान: जारी रहेगा LOCKDOWN लेकिन ये होंगे बदलाव

भोपाल. CM SHIVRAJ ने कहा है कि LOCKDOWN जारी रहेगा, लेकिन नए स्वरूप में इसे आगे बढ़ाया जाएगा। किसानों को इसमें छूट दी जाएगी। नया स्वरूप क्या होगा इसकी जानकारी जल्द ही दे दी जाएगी। उन्होंने कहा कि अभी LOCKDOWN हटाना अच्छा नहीं है। प्रदेश की जनता इससे प्रभावित है। जनता की जिंदगी की कीमत पर समझौता नहीं किया जा सकता। CM SHIVRAJ ने ये बात रविवार दोपहर वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए पूरे प्रदेश के पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही।  

MP में स्कूलों ने जबरन फीस मांगी तो खैर नहीं, पढ़िए पूरी खबर

CM SHIVRAJ ने कहा इंदौर में लोगों की मौत का आंकड़ा इसलिए वढ़ा की अधिकतर लोग ऐसी स्थिति में आए जब उनकी बीमारी बढ़ गई। कोरोना खतरनाक नहीं है, समय रहते लोग इलाज कराएं तो ये ठीक हो सकता है। अगर से फैफड़ों में पहुंच जाए तो व्यक्ति का बचना मुश्किल हो जाता है। इंदौर में यही हुआ, जब तक लोग अस्पताल पहुंचे संक्रमण उनके फैफड़ों तक पहुंच गया था। इसी वजह से लोगों की असमय मौत हो गई। 

KATNI जंक्शन में TRAIN चलाने को लेकर हो रही इस तरह तैयारी, पढ़िए !

बेहतर इलाज के लिए चार स्तरीय योजना

CM SHIVRAJ ने कहा कि कोरोना संक्रमण से ग्रस्त लोगों के बेहतर उपचार के लिये चार-स्तरीय योजना बनाई गई है। भोपाल एवं इंदौर को अलग-अलग कई जोन में बांटा गया है। प्रदेश को कोरोना से मुक्त करने के लिये जिला-स्तरों पर राज्य-स्तरीय क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप बनाये गये हैं। डेटा के आधार पर कोरोना प्रभावित हॉट-स्पॉट को चिन्हित कर उन्हें कंटेनमेंट एरिया में तब्दील कर दिया गया है। सभी जिलों में लॉक-डाउन का सख्ती से पालन सुनिश्चित किया गया है। इंदौर, भोपाल और उज्जैन में सामुदायिक संक्रमण को रोकने के लिये टोटल लॉक-डाउन किया गया है। माइक्रो मैनेजमेंट प्लान तैयार कर कोरोना के मरीजों की पहचान करने, उन्हें ट्रेस करने और उसके बाद परीक्षण और इलाज की समुचित व्यवस्था की जा रही है।

टेली-मेडिसीन केन्द्र बनाये गये हैं

CM SHIVRAJ ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिये हाई रिस्क क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन में तब्दील किया जा रहा है। आवश्कयता अनुसार संदिग्ध मरीजों को तत्काल प्रभाव से उसी क्षेत्र में क्वारेंटाइन और आइसोलेट किया जा रहा है। होम क्वारेंटाइन किये गये लोगों को घरों से सीधे संवाद करने के लिये सभी जिलों में टेली-मेडिसीन केन्द्र बनाये गये हैं। वीडियो कॉलिंग के माध्यम से प्रभावित व्यक्ति से चिकित्सक सीधे संवाद कर सकते हैं। क्वारेंटाइन किये गये व्यक्तियों की निगरानी के लिये ‘सार्थक” एप विकसित किया गया है। इसमें फोटो बेस्ड टेगिंग पद्धति से मरीजों की निगरानी की जा रही है।

Nizamuddin से आए 122 लोगो ने JABALPUR को डाला खतरे में, पढ़िए !

107 अस्पतालों को मरीजों के उपचार

उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोविड-19 वायरस की टेस्टिंग के समुचित प्रबंध कर लिये गये हैं। इंदौर, भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर, रीवा और सागर के शासकीय चिकित्सा महाविद्यालयों के साथ ही 8 निजी चिकित्सा महाविद्यालयों और निजी क्षेत्र के 107 अस्पतालों को मरीजों के उपचार के लिये चिन्हित किया गया है। विशेषत: कोविड-19 के उपचार के लिये 23 अस्पताल चिन्हित किये गये हैं। प्रदेश में प्रतिदिन एक हजार टेस्ट की क्षमता प्राप्त की जा चुकी है। वर्तमान में प्रदेश में पर्याप्त मात्रा में पीपीई किट्स हैं, जो आवश्यकतानुसार संभागीय मुख्यालयों पर पहुंचा दिये गये हैं। हाईड्रो क्लोरोक्वीन गोलियों की मात्रा भी पर्याप्त है। इसके अतिरिक्त, एन-95 मॉस्क वितरित किये जा रहे हैं। नर्सों तथा पैरामेडिकल स्टॉफ को निरंतर प्रशिक्षण उपलब्ध कराने के लिये डब्ल्यूएचओ तथा यूनिसेफ के माध्यम से प्रशिक्षण मॉड्यूल तैयार कर जूम एप द्वारा प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

एसएमएस मिलने पर ही किसान आएं फसल बेचने

CM SHIVRAJ ने कहा कि कोरोना संकट के समय बिना भीड़भाड़ के, पूरी सोशल डिस्टेंसिंग के साथ फसल के उपार्जन के लिए ज़िलों में अधिक से अधिक उपार्जन केन्द्र बनाए जाएं। किसानों को स्पष्ट रूप से यह संदेश दिया जाए कि एसएमएस मिलने पर ही किसान अपनी फसल बेचने उपार्जन केन्द्र पर आएं। CM SHIVRAJ को बताया गया कि इस प्रकार की व्यवस्था की जा रही है कि एक दिन में औसतन 10 किसान फ़सल बेचने आएं। इसके लिए किसानों को दिनांक व पारी का एसएमएस किया जाएगा। इस बार प्रतिदिन दो पारियों में खरीद होगी। वे नियत दिनांक व पारी पर ही उपार्जन केंद्र पर आएंगे। भोपाल, इंदौर एवं उज्जैन को छोड़कर शेष ज़िलों में 15 अप्रैल से उपार्जन प्रारम्भ होगा।

Facebook Comments