इंदौर

कोरोना ने ली इतनी जान की इंदौर के मुक्तिधाम में भी नहीं बची जगह, पढ़िए पूरी खबर

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:33 AM GMT
कोरोना ने ली इतनी जान की इंदौर के मुक्तिधाम में भी नहीं बची जगह, पढ़िए पूरी खबर
x
कोरोना ने ली इतनी जान की इंदौर के मुक्तिधाम में भी नहीं बची जगह, पढ़िए पूरी खबर इंदौर लगातार चौथी बार स्वच्छता में नम्बर 1 पर रहने वाला शहर अब

कोरोना ने ली इतनी जान की इंदौर के मुक्तिधाम में भी नहीं बची जगह, पढ़िए पूरी खबर

इंदौर (विपिन तिवारी ) । लगातार चौथी बार स्वच्छता में नम्बर 1 पर रहने वाला शहर अब चिंताओं से घिर गया है। कोरोना की वजह से शव जलाने तक के लिए जगह नही बची है।मध्य प्रदेश में कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे हैं।मंगलवार को जारी बुलेटिन में संक्रमण के 2544 नए मामले सामने आए। साथ ही प्रदेश में कुल संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 10 हज़ार 711 पहुँच गया है।
मध्य प्रदेश मंत्रिपरिषद के दो सदस्य जिनमें महेन्द्र सिंह सिसोदिया और हरदीप सिंह डंग की कोरोना रिपोर्ट भी मंगलवार को पॉजिटिव आई है। 24 घंटों के दौरान प्रदेश में 28 संक्रमितों की मौत की पुष्टि हुई है। इसके बाद प्रदेश में मृतकों की कुल संख्या 2035 हो गई है। ऐसे में संक्रमण के इस दंश के साथ कई शहरों में एक और बड़ा संकट खड़ा हो गया है और वो संकट है । अंतिम संस्कार के लिए मुक्तिधामों की कमी पड़ने लगी है।

सिंगरौली में हड्डाकीट का कहर, दंश से 2 मासूम की मौत, 2 बच्चियों की हालत गंभीर

सनद रहे कि, प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में अंतिम संस्कार के लिए 9 मुक्तिधाम हैं। यानी शहर भर के लोगों के अंतिम संस्कार इन्हीं मुक्तिधामों में किये जाते हैं। हालांकि, कोरोना काल में इन मुक्तिधामों के हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं। बीती 1 सितंबर से 20 सितंबर के बीच के हेल्थ बुलेटिन पर ही गौर करें तो इन 20 दिनों में शहर में 1306 चिताएं जलीं। यानी रोजाना औसतन 65 लोगों की जान गई। जबकि, सामान्य दिनों में यहां मरने वालों का आंकड़ा 20 से 30 होता था।
इस भयावय महामारी में इंदौर शहर एक साथ दो चुनौतियों का सामना कर रहा है। एक तरफ तो कोरोना के चलते लोगों को अपनी जान गवानी पड़ रही है। वहीं, दूसरी ओर कोरोना के चलते दूसरी बीमारियों के इलाज के अभाव में भी लोग दम तोड़ रहे हैं। क्योंकि, कोई भी अस्पताल दूसरी बीमारियों का इलाज करने को तैयार ही नहीं है, जिसके चलते मौतों का आंकड़ा इस हद पार कर गया है।
शहर में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण से मौतों से लोग घबराए हुए हैं। वहीं, उससे ज्यादा घबराहट वाली स्थिति ये है कि कोरोना की मौतों के साथ-साथ ज्यादा दूसरी बीमारियों के चलते इलाज के अभाव में लोग परलोक सिधार रहे हैं। आलम यह है कि हाल के 20 दिनों में ही शहर में 1306 चिताएं जल चुकी हैं, वहीं शमशान में भी पहले आओ-पहले पाओ वाली स्थिति बन चुकी है। पश्चिम क्षेत्र स्थित पंचकुइया मुक्तिधाम पर शवों के अंतिम संस्कार का इतना दबाव पड़ने लगा है कि, कई दफा तो श्मशान के कर्मचारियों को मुक्तिधाम में जगह खाली नहीं होने के कारण शवों को दूसरे मुक्तिधामों को लिए भेजना पड़ रहा है।

सतना में एक साथ मिले कोरोना के 22 पॉजिटिव केस, पढ़िए

पंचकुइया मुक्तिधाम में सबसे ज्यादा चिताएं जली

सितंबर के ही 20 दिनों में शहर के 4 शमशान घाटों में 851 चिताएं जलीं। पंचकुइया मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार का आंकड़ा 322 पर पहुंच गया। वहीं, मालवा मिल मुक्तिधाम में भी इसी अवधि में 153 लोगों की चिताएं जलीं। इसके अलावा रामबाग मुक्तिधाम में 162 तो रीजनल पार्क में 214 लोगों का अंतिम संस्कार किया गया। इन मौतों के अलावा इस अवधि में कब्रिस्तान में भी सैकड़ों लोगों को दफनाया गया है।।
लगातार बढ़ रहे आकड़े बता रहें हैं। इंदौर की हालत चिंताजनक है।

रीवा: मुख्यमंत्री शिवराज करेंगे 30 सितम्बर को सुपर स्पेशलिटी अस्पताल का लोकार्पण

[signoff]
Next Story
Share it