अध्यात्म

शादी के लिए करना होगा इंतजार, गाजे बाजे बंद, अब 2021 लगने के तीन माह बाद बजेगी शहनाई

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:40 AM GMT
शादी के लिए करना होगा इंतजार, गाजे बाजे बंद, अब 2021 लगने के तीन माह बाद बजेगी शहनाई
x
वर्ष 2020 समाप्त होने वाला है कुछ ही दिन शेष बचे हैं। लेकिन शुभ लग्न का के दिन तो वर्ष समाप्त होने के पहले ही खत्म हो रहे हैं। जानकारों की

शादी के लिए करना होगा इंतजार, गाजे बाजे बंद, अब 2021 लगने के तीन माह बाद बजेगी शहनाई

वर्ष 2020 समाप्त होने वाला है कुछ ही दिन शेष बचे हैं। लेकिन शुभ लग्न का के दिन तो वर्ष समाप्त होने के पहले ही खत्म हो रहे हैं। जानकारों की माने तो पता चलता है कि 11 दिसम्बर 2020 के बाद कोई भी शुभ लग्न नही हेाने से शादी की शहनाई नही सुनाई देगी। अब विवाह के लिए 2021 नया वर्ष लगने के बाद लगभग तीन माह का इंतजार करना होगा।

शादी के लिए करना होगा इंतजार, गाजे बाजे बंद, अब 2021 लगने के तीन माह बाद बजेगी शहनाई

ऐसे में वह जोडे जिनकी अभी-अभी शादी तय हुई है वह अभी और इंतजार करेंगे गाजे बाजे बंद रहेंगे। ऐसे में कोरोना से घबराई सरकार को जहां शादी के मौके पर भीड की वजह से कोरोना रेगियों मे ंइजाफा होने की आशंका थी। अब चैन की संास ले सकेगी। प्रशासन रात-रात घूमकर भीड न बढाने की चेतावनी शदियों में जाकर दे रहे थे।

विवाह के लिए अप्रैल का इंतजार

2021 लगने के बाद तीन माह तक कोई शुभ मुहूर्त नही है। या ये कहें कि जनवरी, फरवरी और मार्च तो पूरी तरह से खाली हैं कोई भी लग्न न होने से बैड बाराती सभी अप्रैल का ही इंतजार करेंगे। बताया जाता है 24 अप्रैल से विवाह के शुभ मुहूर्त है। वहीं 2021 में कुल 97 दिन ही शहनाई बजेगी। बताया जाता है कि पौष महीने को खरमास माना जाता है। इस खरमास के कारण विवाह के मुहूर्त नहीं रहते हैं। पौष का महीना 15 दिसंबर से शुरू हो रहा है।

शुभ लग्न के लिए गुरु और शुक्र का उदय जरूरी

किसी भी विवाह आदि शुभ कार्य के लिए ग्रहों की दशा का काफी महत्व होता है। बताया जाता है कि ग्रहों का उदय रहना जारूरी है। अगर ग्रह अस्त रहते है तो उस समय शुभ कार्य नही किये जाते हैं। और अगर कोई ऐसा करता है तो उसके कार्य पूर्ण सफल नही होते हैं।

जानकरी के अनुसार 17 जनवरी को गुरु अस्त हो जाएंगे और फिर 14 फरवरी को उदय होंगे। इसी तरह 9 फरवरी को शुक्र अस्त होंगे और 18 अप्रैल को उदय होंगे। विवाह कार्य के लिए गुरु और शुक्र दोनों का उदय होना अति जरूरी हैं।

Next Story
Share it