रीवा

रीवा : पिकनिक मनाने खंधो गए 3 युवकों की कुंड में डूबने से मौत

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:34 AM GMT
रीवा : पिकनिक मनाने खंधो गए 3 युवकों की कुंड में डूबने से मौत
x
रीवा। तीन युवकों के डूबने से मौत हो गई है. तीनों युवक पिकनिक मनाने के लिए खंधो गए हुए थें. सभी युवक रीवा शहर के बिछिया के निवासी बताए जा रहें हैं.

रीवा। तीन युवकों के डूबने से मौत हो गई है. तीनों युवक पिकनिक मनाने के लिए खंधो गए हुए थें. सभी युवक रीवा शहर के बिछिया के निवासी बताए जा रहें हैं.

मिली जानकारी के अनुसार गुरुवार को गोविंदगढ़ थानांतर्गत पर्यटक स्थल खंधो में पिकनिक मनाने गए तीन युवकों की बावली में डूबने से मौत हो गई है. मृतक युवक आयुष कनौजिया, अभय केसरी एवं अतुल रीवा शहर के बिछिया के निवासी बताए जा रहें है.

दो गुना कीमत में तैयार होता है गरीब परिवार का निवाला, अजब एमपी की गजब है कहानी

तीनों ही नहाते समय खंधो के गहरे कुंड में समा गए. कोई मदद कर पाता इसके पहले ही तीनों की जल समाधि हो गई. आसपास के लोगों की मदद से कुंड से शव निकाल लिए गए हैं. घटनास्थल में पुलिस पहुँच चुकी है एवं मर्म की कायमी कर शवों को पोस्टमार्टम के लिए रीवा भेज दिया है.

खंधो कुंड, गोविंदगढ़, रीवा

जानलेवा है कुंड, नहीं है कोई सुरक्षा

इसके पहले भी खंधो के इसी कुंड में कई लोगों की मौत हो चुकी है. बावजूद प्रशासन ने सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं किए. गहरे कुंड में नहाने के लिए अक्सर लोग उतर जाते हैं.

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

Facebook, Twitter, WhatsApp, Telegram, Google News, Instagram

दो गुना कीमत में तैयार होता है गरीब परिवार का निवाला, अजब एमपी की गजब है कहानी

रीवा (वीरेश सिंह) । एमपी के गरीब परिवार का निवाला दो गुना कीमत में तैयार होता है। दरअसल सरकार के द्वारा बनाई गई व्यवस्था गरीबो के सस्ते आनाज को लेकर है। जंहा गरीब परिवार दो गुना कीमत चुका कर अपनी रोटी तैयार कर रहा है। उसे सस्ते दर पर गेहू तो मिल रहा है लेकिन गेहू की पिसाई उसे गेहू की खरीदी से दो गुना ज्यादा देनी पड़ रही है।
इस तरह मंहगा हुआ निवाला
MP: अच्छे-अच्छो की आंखो से आसू निकाल रही है प्याज, जाने क्या है वजह

प्रदेश के करोड़ो गरीब परिवार को सरकार के द्वारा एक रूपये किलों की कीमत से गेहू बिक्री की जा रही है। उसकी खरीदी करने के बाद गरीब परिवार पिसाई कराने के लिए उसे चक्की में लेकर पहुचता है तो उसे दो गुना यानि की दो रूपये किलो के हिसाब से गेहू की पिसाई देनी पड़ रही है। यानि की एक रूपये में खरीदा गया गेहू दो रूपये किलो के हिसाब से पिस कर आटा के रूप में तैयार होता है। जिसके बाद आटा की रोटी गरीब परिवार तैयार कर पाता है। गेहू से मंहगी पिसाई होने के कारण गरीब परिवार का निवाला दो गुना मंहगा हो रहा है।

रीवा: चोरी करने के आरोपी की कोर्ट ने जमानत रद्द कर भेजा जेल

सरकारी राशन दुकान में बिकता है सस्ता गेहू

प्रदेश सरकार गरीब परिवार को सस्ते दर पर आनाज उपलब्ध करा रही है। सरकारी राशन दुकान के माध्यम से एक व्यक्ति को प्रति माह 5 किलो गेहू का आनाज दिया जा रहा है। उससे गेहू की कीमत एक रूपये किलो के हिसाब से वसूल की जाती है। यानि के एक परिवार में अगर 05 लोग है तो उन्हे 25 किलो गेहू सरकार के द्वारा 25 रूपये में बिक्री किया जा रहा है। उस गेहू को तैयार करके गरीब परिवार चक्की में लेकर पहुचता है तो दो गुना 50 रूपये उसे पिसाई देनी पड़ रही है। यानि की दो गुना कीमत निवाला तैयार करने में वह खर्च कर रहा है।

Next Story
Share it