सीधी : 10 हजार की रिश्वत लेते धरी गई महिला बाल विकास अधिकारी, रीवा लोकायुक्त की दूसरी बड़ी कार्यवाही

सीधी : 10 हजार की रिश्वत लेते धरी गई महिला बाल विकास अधिकारी, रीवा लोकायुक्त की दूसरी बड़ी कार्यवाही

मध्यप्रदेश सीधी

10 हजार की रिश्वत लेते धरी गई महिला बाल विकास अधिकारी, रीवा लोकायुक्त की दूसरी बड़ी कार्यवाही

सीधी : सीधी जिले के मझौली जनपद परिसर मझौली में रीवा लोकायुक्त टीम द्वारा एक पखवाड़े के अंदर दूसरी बड़ी कार्यवाही की गई हैं, जिसमें महिला बाल विकास परियोजना अधिकारी ललिता मिश्रा को परियोजना कार्यालय में ही 10 हजार रुपए कि रिश्वत लेते रंगे हाथों दबोची गई।प्राप्त जानकारी के मुताबिक शिकायतकर्ता अरुणा साहू ग्राम पंचायत धनौली के आंगनवाड़ी केंद्र क्रमांक 04 में बतौर आगनवाड़ी कार्यकर्ता के रूप में पदस्थ है एवं उसी ग्राम में शिकायतकर्ता की दूसरी बहन और मौसी भी कार्यकर्ता के रूप में कार्य कर रही हैं, शिकायतकर्ता के परिजनों द्वारा स्व सहायता समूह के माध्यम से आंगनबाड़ी केंद्रों में सांझा चूल्हा योजना के तहत खाना.नाश्ता देने की जिम्मेवारी भी सौंपी गई है।

यह भी पढ़े : सीधी : एक वर्ष पूर्व हुए 15 लाख के विद्युत उपकरण की चोरी का हुआ खुलासा

इसी बात को लेकर परियोजना अधिकारी द्वारा बार.बार दबाव बनाया जाता रहा कि एक ही परिवार से तुम तीनो आंगनवाड़ी कार्यकर्ता हो और सांझा चूल्हा का भी लाभ ले रहे होए इसलिए प्रत्येक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से 2-2 हजार के मान से 6 हजार एवं सांझा चूल्हा के नाम पर 4 हजार कुल 10 हजार रुपए प्रतिमाह देने का दबाव बनाया जाता रहा है,जिससे व्यथित होकर शिकायतकर्ता ने रीवा लोकायुक्त कार्यालय में शिकायत किए और उसी के आधार पर लोकायुक्त टीम प्रमुख प्रवीण सिंह परिहार डीएसपी व डी एस मरावी निरीक्षक सहित 16 सदस्यीय टीम द्वारा मझौली परियोजना कार्यालय के अंदर आज दोपहर 12 बजे के लगभग मझौली महिला बाल विकास परियोजना अधिकारी को रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया गया है।

कारनामो से चर्चित रहीं सीधी की महिला बाल विकास अधिकारी

सीधी : 10 हजार की रिश्वत लेते धरी गई महिला बाल विकास अधिकारी, रीवा लोकायुक्त की दूसरी बड़ी कार्यवाही

लगभग 2 वर्षो से मझौली मे पदस्त महिला बाल विकास अधिकारी ललिता मिश्रा अपने शुरूआती समय से ही आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं व समूह संचालकों को बेवजह दवाब बनाने व पैसे के लेन.देन को लेकर सुर्खियों मे रही हैं, यह अलग बात है की कोई भी उनके मनमानी पर अंकुश लगाने की हिम्मत नही जुटा पायाए लेकिन कहते हैं कि अति का अंत एक दिन जरूर होता हैंए शिकायत कर्ता आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के इस साहसिक कदम ने अन्य प्रताड़ित लोंगों को आईना दिखाने का कार्य किया हैं।

यहाँ क्लिक करे : Amazon Hot Deals :

क्या बोली आंगनवाड़ी कार्यकर्ता

महिला बाल विकास विभाग कि परियोजना अधिकारी से परेशान आंगनवाड़ी महिला कार्यकर्ता ने बताया कि परियोजना अधिकारी मैम द्वारा हम लोगों के ऊपर इस बात पर दबाव बनाया जाता था कि तुम्हारे एक ही परिवार से 3 लोग आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हैं जो गलत है इसलिए रिश्वत देना पड़ेगा, नहीं तो नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा, इसी से परेशान होकर मैंने लोकायुक्त की मदद ली।-अरुणा साहू शिकायत कर्ता

अन्य खबरे :

सीधी : सप्लायर के यहां GST का छापा, सामने आई TAX चोरी की बड़ी रकम

सीधी : 5 हजार रूपये की रिश्वत लेते हुए पंचायत सचिव ट्रेप, यह था मामला…

यहाँ क्लिक कर RewaRiyasat.Com Official करिये Facebook Page Like

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

 Facebook WhatsApp Instagram Twitter Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *