शिवराज के दो मंत्रियों ने मंत्री पद से दिया इस्तीफा, कहा ज्यादा आंकड़ें के साथ जीत दर्ज कर बनूंगा दोबारा मंत्री

शिवराज के दो मंत्रियों ने मंत्री पद से दिया इस्तीफा, कहा ज्यादा आंकड़ें के साथ जीत दर्ज कर बनूंगा दोबारा मंत्री

भोपाल मध्यप्रदेश

शिवराज के दो मंत्रियों ने मंत्री पद से दिया इस्तीफा, कहा ज्यादा आंकड़ें के साथ जीत दर्ज कर बनूंगा दोबारा मंत्री

भोपाल। शिवराज के दो मंत्रियों ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया हैं। यह मंत्री तुलसी सिलावट एवं गोविंद सिंह राजपूत है। दोनों मंत्रियों ने 21 अप्रैल को कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली थी। अब उनका 6 माह का कार्यकाल पूरा हो गया है। लिहाजा दोनों ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया हैं। मंत्री पद से इस्तीफा देते ही इनकी सभी सुविधा छिन गई है। ये दोनों नेता अब अपने-अपने विधानसभा से एक बार फिर चुनावी मैदान में हैं।

लिहाजा दोनों अपने-अपने चुनावी कार्यक्रम में व्यस्त हो गए हैं। गोविंद सिंह सुरखी विधानसभा एवं तुलसी सिलावट सांवेर विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के रूप में मैदान में है। बता दें कि अगले माह 3 नवम्बर को प्रदेश के 28 विधानसभा में चुनाव होने हैं। मार्च माह में 25 कांग्रेस विधायक भाजपा में शामिल हो गए थे।

प्रदेश की शिवराज सरकार को हाईकोर्ट से तगड़ा झटका,14 मंत्रियो समेत जिम्मेदारों को नोटिस

जिसमें से कई लोगों को भाजपा में मंत्री पद दिया गया था। मंत्री बने हुए इन्हें 6 माह का समय पूरा हो रहा है। गैर विधायक के रूप सभी 6 माह तक मंत्री रह सकते है। अब इनका 6 माह का कार्यकाल पूरा हो रहा है। जिसके चलते उन्होंने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है।

पद मेरे के लिए महत्पूर्ण नहीं

मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद मीडिया से चर्चा करते हुए तुलसी सिलावट बोले, मंत्री पद मेरे लिए महत्वपूर्ण नहीं है। मैंने पहले भी कांग्रेस में मंत्री पद एवं विधायकी छोड़ी हैं। लिहाजा मुझे पद से मोह नहीं है। मेरे के लिए सबसे महत्वपूर्ण है जनता की सेवा एवं प्रदेश का विकास। जो मैं हमेशा करता रहूंगा। मेरे के लिए सबसे जरूरी है क्षेत्र का विकास। जो मैं बिना मंत्री पद में भी रहते हुए करता रहूंगा।

फिर से जीतूंगा चुनाव

गोविंद सिंह राजपूत ने मंत्री पद से इस्तीफा देते हुए कहा कि यह एक संवैधानिक प्रक्रिया है। कोई भी गैर विधायक 6 माह से ज्यादा मंत्री नहीं रह सकता है। मेरा मंत्री पद का कार्यकाल 21 अक्टूबर से 6 महीना पूरा हो जाएगा। जिसके चलते मैंने अपना इस्तीफा राज्यपाल को दे दिया है। गोविंद सिंह ने कहा कि सुरखी की जनता का आर्शिवाद मेरे साथ है। उनके आर्शिवाद से मैं दोबारा जीतूंगा। उन्होंने कहा कि इस बार का आंकड़ा पहले से ज्यादा होगा। मुझे अपने क्षेत्र के लोगों पर पूरा भरोसा। वह मुझसे बहुत प्यार करते हैं।

ये छिनी सुविधाएं

शिवराज के दोनों मंत्रियों द्वारा इस्तीफा दिए जाने के बाद उनकी मंत्री पद की सभी सुविधाएं तुरंत छिन गई है। जिसमें 1000 किलोमीटर का ईधन, मकान किराया 15 हजार रूपए, 3000 सत्कार भत्ता, मंत्री के रूप में दिया जाने वाला 13500 मानदेय एवं 7500 अन्य शामिल है। इसके अलावा ड्राइवर, गनमैन, मंत्री को मिलने वाले 8 तरह के भत्ते एवं वाले मानदेय, ओएसडी पीए, 6 सदस्यीय स्टाफ, सरकारी बंगला, सरकारी दफ्तर आदि शामिल है।

इमरती देवी ने कहा कमलनाथ और अजय सिंह पर FIR दर्ज हो नहीं तो..

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *