इंदौर

मध्यप्रदेश के इस गाँव में लगा 'मुस्लिम व्यापारियों का प्रवेश निषेध' का बैनर, दिग्विजय ने साधा शिवराज पर निशाना

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:21 AM GMT
मध्यप्रदेश के इस गाँव में लगा मुस्लिम व्यापारियों का प्रवेश निषेध का बैनर, दिग्विजय ने साधा शिवराज पर निशाना
x
मध्यप्रदेश के एक गाँव में 'मुस्लिम व्यापारियों के प्रवेश निषेध' के बैनर लगाए गए हैं. जिस पर पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस नेता दिग्विजय सिं

एक तरफ पूरा विश्व कोरोना संक्रमण से लड़ रहा है। वहीं देश में कुछ लोग कोरोना को धार्मिक रंग में रंगने से बाज नहीं आ रहें हैं। मध्यप्रदेश के एक गाँव में 'मुस्लिम व्यापारियों के प्रवेश निषेध' के बैनर लगाए गए हैं। जिस पर पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने चुटकी लेते हुए सूबे के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह एवं देश के प्रधानमन्त्री से सवाल पूंछे हैं। ऐसे में सवाल है कि क्या वाकई मध्यप्रदेश के किसी गांव में ऐसे पोस्टर लगाए गए हैं। दिग्विजय सिंह ने जो पोस्टर शेयर किए हैं, उसमें गांव का नाम पेमलपुर लिखा है। दिग्विजय सिंह ने लिखा कि क्या यह कृत्य प्रधानमंत्री मोदी जी की अपील के विरुद्ध नहीं है?

अगस्त से शुरू होगा कॉलेजों में पुराने छात्रों के लिए Academic Session, लॉकडाउन के चलते UGC के आदेश

क्या यह कृत्य हमारे कानून मे दंडनीय अपराध नहीं है। मेरे ये प्रश्न मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और मध्यप्रदेश पुलिस से हैं। समाज में इस प्रकार का विभाजन-बिखराख देश हित में नहीं है।

कहां पड़ता है यह गांव

जानकारी के अनुसार यह पेमलपुर गांव इंदौर जिले में ही हैं, यह उज्जैन के बड़नगर तहसील के करीब है। बड़नगर तहसील में कोरोना का कहर है। यहां दर्जन से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हैं।

जानकारी के अनुसार गांव के कुछ युवक ने 3-4 दिन पहले यह पोस्टर लगाया था। लेकिन बाद में ग्रामीणों ने हटा दिया।

क्यों किया ऐसा

स्थानीय लोगों के अनुसार गांव में बड़नगर से कुछ मुस्लिम सब्जी बेचने आते थे। उनमें से एक कोरोना से संक्रमित हैं। साथ ही बड़नगर में कोरोना कहर भी बरपा रहा है। ऐसे में डर से गांव के युवकों ने ऐसा कर दिया। हालांकि ग्रामीणों ने इसे बाद में हटा दिया।

MP: सरकार ने जारी किया टोल फ्री नंबर, बाहर फंसे छात्र, मजदूर कर सकेंगे शिकायत

हालांकि अब ये पोस्टर सियासी रंग ले लिया है। वहीं, इसकी कोई शिकायत अभी प्रशासन तक नहीं पहुंची है।

हटा दिया गया है पोस्टर

अब गांव के बॉर्डर पर लगे इस पोस्टर को हटा दिया गया है। लेकिन अभी भी कुछ लोग इसे अलग रंग देने की कोशिश कर रहे हैं। गांव के लोगों को गलती का अहसास हो गया है।

[signoff]
Next Story