विश्व

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के घर में छापा पड़ गया! 13 घंटे तक जांच चली

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के घर में छापा पड़ गया! 13 घंटे तक जांच चली
x
US President Joe Biden's house raided: US प्रेसिडेंट Joe Biden के घर में सरकारी जांच एजेंसी ने रेड डाल दी

US President Joe Biden's house raided: क्या ऐसा हो सकता है कि किसी देश के राष्ट्रपति के घर में ही छापा पड़ जाए? आखिर दुनिया के सबसे ताकतवर देश के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति के घर में रेड डालने की जुर्रत कौन कर सकता है? लेकिन ऐसा हुआ है, अमेरिकी प्रेसिडेंट जो बाइडन के साथ. मामला 20 जनवरी का है. Joe Biden और उनकी पत्नी घर में मौजूद नहीं थे. तभी बिना कोई नोटिस दिए जांच टीम अपने देश के राष्ट्रपति के घर में घुस गई और छानबीन करने लगी.

यह छापा वाइट हॉउस में नहीं राष्ट्रपति के निजी घर में डाला गया. और तो और छापा मारने वाली टीम वो वो सबूत भी मिल गए जिनकी उन्हें तलाश थी. जो बाइडन के घर में 13 घंटे तक छानबीन चली और जांच टीम को 6 ख़ुफ़िया फाइल्स मिल गईं जो रहनी तो राष्ट्रपति के ही पास चाहिए मगर White House से बाहर ले जाने की इजाजत किसी को नहीं है.

जो बाइडन के घर में छापा क्यों पड़ा

Why was Joe Biden's house raided: मामला USA की गोपनीय फाइलों के वाइट हॉउस से गायब होने का है. जिन सीक्रेट फाइलों को कभी वाइट हॉउस से बाहर नहीं ले जाया जा सकता वह अमेरिकी राष्ट्रपति के घर से बरामद हुई हैं. ये बात अलग है कि इन फाइलों के बारे में अमेरिका के राष्ट्रपति बनने वाले हर व्यक्ति को बताया जाता है मगर कोई भी इनका स्थान परिवर्तन नहीं कर सकता. लेकिन जो बाइडन ने अपने ही वाइट हॉउस के नियमों को तोड़ दिया और जांच एजेंसी उनके घर में छापा मारने के लिए चली गई.

दूसरी बार छापा पड़ा है

रेड में जिन फाइलों को बरामद किया गया है उनमे से कुछ उस वक़्त की हैं जब बाइडन सीनेटर हुआ करते थे. कुछ फाइलें तब की हैं जब बाइडन उपराष्ट्रपति थे. सबसे ज़्यादा हैरानी की बात ये है कि यह दूसरी बार है जब बाइडन के घर में छापा मारा गया है. पहले वाली रेड में कुछ नहीं मिला था मगर 20 जनवरी को जब दूसरी रेड मारी गई तब सभी गायब हुई फाइलें मिल गईं। अमेरिका के जस्टिस डिपार्टमेंट ने बाइडन के घर में रेड मारी है.

बाइडन बोले- कोई अफ़सोस नहीं

छापा पड़ने के एक दिन पहले जो बाइडन ने कहा था- की उन्हें फाइलें मिलने का कोई अफ़सोस नहीं है. "जैसे ही हमें पता चला कि कुछ फाइलें गलत जगह पर हैं, हमने उन्हें आर्काइव सेक्शन और जस्टिस डिपार्टमेंट को सौंप दिया."



Next Story