वाराणसी

बनारस में Tattoo गुदवाने वाले दर्जनों लोग हुए HIV पॉजिटिव, लेकिन कैसे?

बनारस में Tattoo गुदवाने वाले दर्जनों लोग हुए HIV पॉजिटिव, लेकिन कैसे?
x
Banaras Tattoo HIV positive: यूपी के वाराणसी में टैटू गुदवाने से दर्जनों लोग HIV+ हो गए हैं

Tattoo Banaras HIV positive: उत्तर प्रदेश के वाराणसी में बड़ी हैरान करने वाली घटना सामने आई है, जहां दर्जनों लोग टैटू गुदवाने के बाद HIV पॉसिटिव हो गए हैं. पता चला है कि बनारस में जितने लोगों की रिपोर्ट HIV+ आई है उन्होंने कहीं ना कहीं Tattoo गुदवाया है. ऐसे में अपने शरीर में टैटू गुदवाने का शौख रखने वालों में हड़कंप मच गया है.

बनारस स्वास्थ्य विभाग को आशंका है कि टैटू बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाली सुई का यपयोग बार-बार किया गया है, एक ही सुई का इस्तेमाल करके एक से अधिक व्यक्ति के शरीर में उस सुई को डाला गया जिससे यह संक्रमण कई लोगों तक फ़ैल गया.

वाराणसी में टैटू बनवाने से फ़ैल रहा HIV संक्रमण

वाराणसी में दो दर्जन से ज़्यादा लोग HIV Positive पाए गए हैं. इतनी बड़ी संख्या में संक्रमितों के मिलने के बाद जब स्वास्थ्य विभाग की ओर से काउंसलिंग और जांच पड़ताल की गई तो इसकी वजह भी सामने आ गई.. जिन युवाओं में एचआईवी संक्रमण मिला सभी ने कहीं न कहीं अपने शरीर में टैटू बनवाए थे. ऐसे में स्वास्थ्य विभाग को यही आशंका है कि ये सभी मरीज संक्रमित सुई से टैटू बनवाने के कारण HIV की चपेट में आए हैं.

टैटू बनवाने से HIV हो जाता है?

एंटी रेट्रो वायरल ट्रीटमेंट सेंटर की काउंसलर सुषमा तिवारी ने बताया है कि Tatto बनाने वाली सुई काफी महंगी मिलती है. इसलिए टैटू बनाने वाले टैटू आर्टिस्ट अपना पैसा बचाने के लिए एक ही सुई से कई लोगों का टैटू बना देते हैं. ऐसे में अगर किसी एक व्यक्ति को भी एचआईवी संक्रमण है तो बाकी सभी दूसरे लोगों को उसी सुई से संक्रमण पहुंच जाता है. ऐसे में लोगों से अपील है कि टैटू बनवाते वक्त सुई का ध्यान दें. टैटू आर्टिस्ट से कहें की वह नई सुई का इस्तेमाल करे

Next Story