उत्तरप्रदेश

VIDEO : 'डालना चाहती थी BJP को वोट, जबरदस्ती डलवा दिया कांग्रेस को'

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:06 AM GMT
VIDEO : डालना चाहती थी BJP को वोट, जबरदस्ती डलवा दिया कांग्रेस को
x
Get Latest Hindi News, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar, Today News in Hindi, Breaking News, Hindi News - Rewa Riyasat

अमेठी : लोकसभा चुनाव के लिए पांचवें चरण का मतदान सोमवार (6 मई) को जारी है। इस में 7 राज्यों की 51 सीटों पर वोटिंग हो रही है। इस चरण में कई हाई प्रोफाइल सीटें हैं। इनमें अमेठी सबसे बड़ी हॉट सीट हैं क्योंकि यहां से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी चुनाव मैदान में हैं जबकि मोदी सरकार के मंत्री स्मृति ईरानी बीजेपी उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रही हैं। इसी बीच यहां एक वूथ पर जरबदस्ती वोटिंग कराने का मामला सामने आया है। बीजेपी उम्मीदवार स्मृति ईरानी ने भी आरोप लगाया है कि बूथ कैप्चरिंग का आरोप लगाते हुए कहा कि 316 नंबर बूथ कैप्चर किया गया है।

अमेठी में एक बुजुर्ग महिला ने जबरदस्ती वोटिंग कराने का आरोप लगाया। महिला का आरोप है कि बूथ पर चुनाव अधिकारी ने उनसे जबरदस्ती कांग्रेस के चुनाव चिन्ह पंजे पर वोट दिलवा दिया जबकि वह बीजेपी को वोट करने वाली थीं। उसने कहा कि हाथ पकड़कर जबरदस्ती पंजा पर धर दिहिन हम देहे जात रहिन कमल पर (कमल पर देना चाहती थी, जबरदस्ती पंजा पर डलवा दिया) यह मामला गौरीगंज के गूजरटोला बूथ नंबर 316 का है जहां पीठासीन अधिकारी ने जबरदस्ती कांग्रेस को डलवा दिया। नीचे वीडियो में सुनिए उसने क्या कहा...

स्मृति ईरानी ने सोमवार को आरोप लगाया कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बूथ कैप्चरिंग करा रहे हैं। स्मृति ने आज एक ट्वीट कर कहा ''एलर्ट ईसीआईएसवीईईपी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बूथ कैप्चरिंग करा रहे हैं।' उन्होंने एक ट्वीट को टैग किया जिसमें एक वीडियो में एक बुजुर्ग महिला जबरदस्ती कांग्रेस के पक्ष में मतदान कराने का आरोप लगा रही है। वीडियो में कथित महिला कह रही है 'हाथ पकड़ कर जबरदस्ती पंजा पर धर दिहिन, हम देहे जात रहिन कमल पर।' इस मामले में अभी तक कोई लिखित शिकायत चुनाव अधिकारियों को नहीं मिली है।

कांग्रेस अध्यक्ष और वर्तमान सांसद राहुल गांधी लगातार चौथी बार अमेठी से लोकसभा चुनाव जीतने की कोशिश में हैं। उनका मुकाबला केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से है। साल 2014 में भी स्मृति ईरानी यहां से चुनाव लड़ी थी लेकिन वह राहुल से कुछ वोटों से चुनाव हार गई थीं।

Next Story
Share it