उत्तरप्रदेश

रीवा: ये है दुनिया का अजूबा बच्चा, जिसने ​लिया दोबारा जन्म, सच पता करने गए माता-पिता को आज भी नहीं हो रहा यकीन

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:08 AM GMT
रीवा: ये है दुनिया का अजूबा बच्चा, जिसने ​लिया दोबारा जन्म, सच पता करने गए माता-पिता को आज भी नहीं हो रहा यकीन
x
Get Latest Hindi News, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar, Today News in Hindi, Breaking News, Hindi News - Rewa Riyasat

इस लड़के ने प्रजापिता ब्रह्माकुमारी आश्रम में बता दी अपने पुनर्जन्म की कहानी, सच निकल गई सारी बात

रीवा। आपने कहानी-किस्सों में जरुर सुना होगा कि कई बार ऐसा होता है कि व्यक्ति जन्म लेता है और उसको पुराना जन्म याद होता है। उसे ज्ञात होता है कि वह पहले कहां जन्मा था और उसके साथ ऐसा क्या हुआ था। आप बेशक इस बात पर यकीन न करें लेकिन धर्म भी इसे सच बताता है और अब तो विज्ञान भी इसे सही मानने लगा है। तो पुनर्जन्म के बारें में आगे कुछ जानने से पहले हम आपको बताते हैं पुनर्जन्म की एक सच्ची घटना के बारे में, जो एक साल पहले रीवा में घटित हुई है।

दरअसल, इलाहाबाद के आनापुर गांव में जन्मे कार्तिकेय की बातें न केवल उनके माता-पिता बल्कि दूसरों को भी यह मानने को मजबूर करती हैं कि, कार्तिकेय का पुनर्जन्म हुआ है। 11 फरवरी 2018 को रीवा के प्रजापिता ब्रह्माकुमारी आश्रम में पहुंचे कार्तिकेय के पुनर्जन्म की बात यहीं चर्चा में आई।

माउंट आबू में याद आई पुनर्जन्म की बात बताया गया है कि, महज 9 वर्ष की आयु में कार्तिकेय का अध्यात्म की ओर भारी झुकाव है। ईश्वर को ही महज एक सत्य मानते हैं। कार्तिकेय राजस्थान में स्थित उस स्थान की ओर ज्यादा आकृष्ट होते हैं, जहां पिछले जीवन में उन्होंने ज्यादा वक्त बिताया और जहां उनकी एक दुर्घटना में मौत हो गई थी। कार्तिकेय के पुनर्जन्म की बातों को राजस्थान के माउंट आबू में स्थित प्रजापिता ब्रह्माकुमारी आश्रम मधुबन के लोगों ने सबसे पहले महसूस किया।

राजस्थान में मौत और उत्तर प्रदेश में पुनर्जन्म दरअसल महाराष्ट्र जलगांव निवासी सुनील चौधरी वहीं आश्रम में ही रहा करते थे। करीब 10 वर्ष वहां रहने के बाद सुनील की एक भवन निर्माण के दौरान दुर्घटना में मौत हो गई। उसके बाद सुनील ने कार्तिकेय के रूप में इलाहाबाद के आनापुर गांव में जन्म हुआ। यह बात कार्तिकेय के कई आचार-विचार व बातों से साबित हुआ है। कार्तिकेय की मां नीलम के मुताबिक कई बार कार्तिकेय को पिछले जन्म की बातें याद आ जाती हैं।

पहचान लिया पूर्व जन्म की मां को कार्तिकेय के पिता शिव प्रताप बताते हैं कि करीब चार वर्ष पहले उस समय कार्तिकेय के पुनर्जन्म की बात सच साबित हो गई। जब उसने अपने पिछले जन्म की मां को पहचानते हुए पिता का हाल पूछा। शिव प्रताप के मुताबिक वह बच्चे की जिद पर ही दूसरी बार माउंट आबू के मधुबन आश्रम गए। वहां आश्रम वालों ने मृतक सुनील की मां को बुलवाया। सुनील की मां को देखने के बाद कार्तिकेय न केवल उनके पास दौड़ कर गया। बल्कि यह भी बोला कि आयी कैसी हो और बाबा कैसे हैं। बच्चे के मुख से यह बात सुनकर सुनील के मां की आंखों में आंसू आ गए और उन्होंने बच्चे को गले से लगा लिया।

महाराष्ट्र में बोलते हैं आयी-बाबा यहां इस बात का जिक्र करना जरूरी है कि कार्तिकेय इलाहाबाद का रहने वाला है। इससे पहले कार्तिकेय के मुख से कभी आयी व बाबा जैसे शब्द नहीं निकले। क्योंकि इलाहाबाद जैसे क्षेत्र में माता-पिता को मम्मी-पापा या अम्मा-पिता जैसे शब्दों से पुकारा जाता है। जलगांव व आस-पास के क्षेत्र में माता-पिता को आयी-बाबा कहकर पुकारा जाता है। इसके अलावा कार्तिकेय वहां मधुवन में उन स्थानों से ज्यादा लगाव रखता रहा है, जहां सुनील अक्सर समय बिताता था।

Next Story
Share it