vindhyacoronabulletin/tiger .jpg

Umaria News : बाघ की मौत से सकते में आया बांधवगढ़ रिजर्व टाइगर का महकमा

RewaRiyasat.Com
Saroj Kumar Tiwari
13 Apr 2021

उमरिया। बांधवगढ़ रिजर्व टाइगर में घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। एक के बाद एक जंगली जानवरों की मौत हो रही हैं। सोमवार को फिर एक बाघ की मौत होने जानकारी मिली है। बाघ की मौत किन हालातों में हुई किसी को पता नहीं है। बांधवगढ़ रिजर्व टाइगर में लगातार हो रही घटनाओं से प्रबंधन सहित पूरा अमला सकते आ गया है। यहां एक बात गौर करने योग्य है कि बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व पार्क में लगातार घटनाएं हो रही हैं लेकिन पार्क प्रबंधन घटनाओं पर पर्दा डालने में जुटा है और जानवरों के मौत का असली कारण सामने नहीं आ पा रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मानपुर के बफर जोन में एक बाघ मृत पाया गया है। बाघ का शव क्षत-विक्षत हालत में देखा गया है। शव को देखकर अनुमान लगाया गया है कि बाघ की मौत दो दिन पहले हुई है। तो वहीं बाघ के शरीर में आग से जलने के निशान भी पाये गये हैं। बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व पार्क प्रबंधन पूरे मामले की जांच में जुटा है।

एक सप्ताह में चार जानवरों की मौत

आपको बता दें कि अप्रैल माह के 1 से 12 तारीख के बीच चार जानवरों की मौत हो चुकी है। जिनमें दो बाघ और दो तेंदुआ शामिल हैं। जिस तरह से पार्क में जंगली जानवरों की मौत हो रही है, यदि यही क्रम चलता रहा और हालातों पर काबू नहीं पाया गया तो पार्क को जानवरों से वीरान होने में ज्यादा देर नहीं लगेगी।

कहीं प्रबंधन की लापरवाही तो नहीं

लगातार जानवरों की मौत से पार्क प्रबंधन पर सवाल उठना स्वाभाविक है। पिछले दिनों जंगल में कई दिनों तक आग धधकती रही है। इस घटना में बांधवगढ़ पार्क प्रबंधन लगातार पर्दा डालने का काम करता रहा है। लगातार बयान दिये जा रहे थे कि पार्क में आग से कोई नुकसान नहीं हुआ। लेकिन इसके बाद एक जानवर मृत मिला जो आग से पूरी तरह झुलसा हुआ था जिससे अनुमान लगाया गया है कि जानवर जंगल में लगी आग में झुलसकर मर गया है। अब फिर एक बाघ मृत मिला है और उसके शरीर में आग से जलने के निशान पाये गये हैं। ऐसे में बाघ की मौत किन हालातों में हुई यह जांच का विषय है।

SIGN UP FOR A NEWSLETTER