टेक और गैजेट्स

India में 5G सर्विस को लेकर आई सबसे बड़ी खबर, तुरंत पढ़िए

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:22 AM GMT
India में 5G सर्विस को लेकर आई सबसे बड़ी खबर, तुरंत पढ़िए
x
India में 5G सर्विस को लेकर आई सबसे बड़ी खबर, तुरंत पढ़िए5G in India: इन्सान की जिंदगी का ऐसा कोई पहलू नहीं है जहां कोरोना वायरस

India में 5G सर्विस को लेकर आई सबसे बड़ी खबर, तुरंत पढ़िए

5G in India: इन्सान की जिंदगी का ऐसा कोई पहलू नहीं है जहां कोरोना वायरस का असर न पड़ा हो। अब देश में 5G सर्विस भी देरी से आएगी और इसका जिम्मेदार भी कोरोना संक्रमण ही है। खबर है कि केंद्र सरकार का दूरसंचार विभाग (डीओटी) 5G रेडियोवेव के बगैर टेलीकॉम स्पेक्ट्रम नीलामी की प्रक्रिया पर आगे बढ़ने का मन बना चुका है।

Airtel, BSNL, Idea-Vodafone या Jio, कौन दे रहा है सबसे बेहतरीन Prepaid Plan

सूत्रों के हवाले से खबर है कि नीलामी इस साल अक्टूबर से पहले शुरू हो जाएगी। 22 मई तक उस कंपनी का चयन कर लिया जाएगा, जो नीलामी का मैनेजमेंट और उसके लिए सॉफ्टवेयर तैयार करेगी। इसके बाद ही नीलामी की तारीख तय हो पाएगी। सूत्रों के अनुसार, 4 कंपनियां तकनीकी चरण में योग्य पाई गई हैं। इनमें 2 के पास स्पेक्ट्रम नीलामी का अनुभव है। अगर इन दोनों में से किसी कंपनी का चयन हुआ तो स्पेक्ट्रम नीलामी प्रक्रिया दो माह बाद शुरू हो जाएगी। वहीं अगर ऐसा नहीं हुआ तो प्रक्रिया 3 महीने बाद शुरू होगी। माना जा रहा है कि इस कारण देश में अगले दो साल 5G सर्विस उपलब्ध नहीं हो पाएगी।

LOCKDOWN के बीच मात्र 3 मिनट में बिक गए 70 हजार फ़ोन

डीओटी ऐसी स्पेक्ट्रम नीलामी प्रक्रिया की मंजूरी चाहता है, जिसमें 3,300-3,600 मेगाहर्ट्ज बैंड का स्पेक्ट्रम शामिल न हो। इसी रेडियोवेव स्पेक्ट्रम का इस्तेमाल 5G के लिए होना है। बता दें, रक्षा विभाग ने 5G रेडियोवेव्स में से 100 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की मांग रखी है। उसके बाद DoT के पास नीलामी के लिए सिर्फ 175 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम बच जाता है। इस मुद्दों पर दोनों मंत्रालयों के बीच बात चल रही है।

मुंबई से लौटा पति तो पत्नी ने बंद कर लिया दरवाजा, फिर हुआ कुछ ऐसा…

वहीं भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया के कई लाइसेंस नवीनीकरण के लिए आ रहे हैं। इन कंपनियों को संबंधित क्षेत्रों में मोबाइल सेवा जारी रखने के लिए बोली प्रक्रिया में शामिल होना होगा। इसलिए DoT चाहता है कि 5G स्पेक्ट्रम को शामिल किए बगैर नीलामी प्रक्रिया पर आगे बढ़ा जाए।
अब तक की प्लानिंग के अनुसार 8,000 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की नीलामी होनी है। इसमें 700, 800, 900, 1800, 2100, 2300 तथा 2500 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम बैंड शामिल हैं। इनका कुल मूल्य करीब तीन लाख करोड़ रुपए है। [signoff]
Next Story
Share it