खेल

T20 में मैच के बीच बदल सकेंगे खिलाड़ी: रिप्लेसमेंट प्लेयर को भी बैटिंग-बॉलिंग का अधिकार, अक्टूबर से लागू होगा नियम

impact player rule in cricket
x

impact player rule in cricket

टी20 मैचों में अब 4 सबस्टीट्यूट खिलाड़ी रखे जाने का नियम आ रहा है. इसके साथ ही मैच के बीच खिलाड़ी को बदला जा सकता है और रिप्लेसमेंट प्लेयर मैच में बैटिंग-बॉलिंग भी कर सकेगा.

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) T20 मैचों में बड़ा बदलाव करने जा रहा है. मैचों में अब 4 एक्स्ट्रा प्लेयर्स को रखने का ऑप्शन टीम के पास होगा, ताकि मैच के दौरान Playing XI में बदलाव किया जा सके. यही नहीं अब तक रिप्लेसमेंट प्लेयर को सिर्फ फील्डिंग ही मिलती थी. इस इम्पैक्ट प्लेयर नियम (Impact Player Rules) के लागू होने के बाद रिप्लेसमेंट प्लेयर्स को बॉलिंग-बैटिंग मिलने लगेगी.

BCCI इस नियम को प्रयोग के तौर पर सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी (Syed Mushtaq Ali Trophy 2022) से लागू करने जा रहा है. यह टूर्नामेंट 11 अक्टूबर से शुरू हो रहा है. सूत्रों के मुताबिक़ बीसीसीआई ने सभी स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन को इस सम्बन्ध में सर्कुलर भेज दिया है.

लागू होने वाले इम्पैक्ट प्लेयर नियम को ऐसे समझिये

  • नए नियम के मुताबिक टॉस होने के पहले टीमों को अपने अपने 11 प्लेयर्स के साथ 4 एक्स्ट्रा प्लेयर्स का नाम देना होगा. टीमें यह जानकारी फील्ड और फोर्थ अंपायर दोनों को देंगी.
  • मैच के दौरान सस्पेंड किए गए प्लेयर की जगह इम्पैक्ट प्लेयर का इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा.
  • दोनों पारी के 14वें ओवर से पहले इंपैक्ट खिलाड़ी का उपयोग किया जा सकेगा.
  • जिस खिलाड़ी को इम्पैक्ट प्लेयर से रिप्लेस किया जाएगा वह दुबारा मैदान में आने का अधिकार खो देगा. उसे अतिरिक्त खिलाड़ी के तौर पर फील्डिंग का भी अधिकार नहीं होगा.
  • नए नियम के मुताबिक़, बल्लेबाजी के दौरान विकेट गिरने या मैच में ब्रेक के दौरान ही इम्पैक्ट प्लेयर का इस्तेमाल किया जा सकता है. लेकिन जिस खिलाड़ी के बदले वह मैच में शामिल होगा,
  • यदि किसी ऐसे गेंदबाज के बदले किसी इम्पैक्ट प्लेयर को लाया जाता है, जो मैच में अपने 4 ओवर पूरे कर चुका है इसके बावजूद भी इम्पैक्ट प्लेयर को गेंदबाजी के पूरे 4 ओवर फेंकने का मौक़ा मिलेगा.

अभी क्या नियम है

अभी टी20 क्रिकेट में सिर्फ 12वे प्लेयर का नाम दिया जाता है, जिसका उपयोग किसी रिप्लेसमेंट वाले खिलाड़ी के तौर पर होता है. 12वें प्लेयर को बैटिंग, बॉलिंग और विकेटकीपिंग का अधिकार नहीं होता है. वह सिर्फ मैच में फील्डिंग कर सकता है.

Next Story