अध्यात्म

चाणक्य नीति: इस तरह के धन की कभी नहीं करना चाहिए कामना, जानिए धन को लेकर क्या कहते हैं आचार्य

Manoj Shukla
15 March 2021 3:08 PM GMT
चाणक्य नीति: इस तरह के धन की कभी नहीं करना चाहिए कामना, जानिए धन को लेकर क्या कहते हैं आचार्य
x
चाणक्य नीति: जीवन को किस तरह से जीना चाहिए, किस तरह के धन की मनुष्य को इच्छा रखना चाहिए। किस तरह से धन अर्जन करना चाहिए। आचार्य चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र में सभी बातों पर विस्तार से चर्चा की है। आचार्य बताते है कि जीवन में धन कमाने के कई रास्ते हैं।

चाणक्य नीति: जीवन को किस तरह से जीना चाहिए, किस तरह के धन की मनुष्य को इच्छा रखना चाहिए। किस तरह से धन अर्जन करना चाहिए। आचार्य चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र में सभी बातों पर विस्तार से चर्चा की है। आचार्य बताते है कि जीवन में धन कमाने के कई रास्ते हैं। लेकिन मेहनत से कमाया हुआ ही धन जीवन में तरक्की देता हैं। तो चलिए धन को लेकर क्या कहते हैं आचार्य।

आचार्य चाणक्य का धन को लेकर मत है कि जो धन दूसरों को दुख एवं हानि पहुंचाकर कमाया जाता है, शत्रु के सामने गिड़गिड़कर प्राप्त किया जाता है, धर्म के विरूद्ध जाकर कमाया जाता है, इस तरह का धन किसी के पास न ही आए तो अच्छा हैं। आचार्य का मत है कि इस तरह का धन जीवन में कभी कल्याणकारी नहीं हो सकता है। मनुष्य को सदैव परिश्रम एवं अच्छे उपायों से ही धन का अर्जन करना चाहिए।

आचार्य कहते है कि जिस घर में मुर्खो का सम्मान नहीं होता है, बल्कि बुद्धजीवियों का सम्मान होता है वहां धन की कमी कभी नहीं आती हैं। इसी तरह जिस घर में अन्न का अपमान नहीं होता है वहां भी धन की कभी कमी नहीं होती हैं। अक्सर उस घर में सुख एवं समृद्धि बनी रहती हैं। आचार्य कहते है कि मेहनत से कमाया हुआ धन ही सुरक्षित एवं संचित किया जा सकता हैं।

जो धन बिना मेहनत के अर्जित होता है वह कई प्रकार से दुखों का कारण भी बनता हैं। इसलिए धन को हमेशा मेहनत से ही कमाने की कोशिश करनी चाहिए। जो धन गलत तरीके से कमाया जाता है उसका या तो नाश हो जाता है या फिर वह मनुष्य के दुखों का कारण बनता हैं। गलत तरीके से कमाया हुआ धन थोड़े समय के लिए अच्छा तो जरूर लगता है, लेकिन इससे कभी जीवन में तरक्की नहीं की जा सकती हैं। इसलिए हमेशा मेहनत एवं सही तरीके से ही धन अर्जन करना चाहिए।

Next Story
Share it