अध्यात्म

Braj Holi 2021 : ब्रज में होती है में 40 दिवसीय होली, शुरूआत गुलाल होली से..

Aaryan Dwivedi
18 Feb 2021 9:17 AM GMT
Braj Holi 2021 : ब्रज में होती है में 40 दिवसीय होली, शुरूआत गुलाल होली से..
x
ब्रज में होती है में 40 दिवसीय होली, शुरूआत गुलाल होली से.. मथुरा / Braj Holi Festival : देश के हर प्रांत में बसंत पंचमी का त्यौहार बडे ही धूम-धाम से मनाया जाता है। लेकिन ब्रजवासियो के लिए बसंत पंचमी का त्यौहार कुछ खास रहता है। हो भी क्यो न बसंत पंचमी से ब्रज में होली की शुरूआत हो जाती है। बताया जाता है कि ब्रज में 40 दिवसीय होली मनाई जाती है। इसकी शुरूआत बसंत पंचमी से हो जाती है। बसंत पंचमी के दिन भगवान ठाकुर जी महराज को गुलाल लगाकर होली की शुरूआत होती हैं।  मदिरों में फाग का गायन शुरू हो जाता है। ठाकुरजी महराज को छपपन भोग लगया जाता है और सभी भक्तों को प्रसाद वितरित होता है। 

Braj Holi 2021 : ब्रज में होती है में 40 दिवसीय होली, शुरूआत गुलाल होली से ..

मथुरा / Braj Holi Festival : देश के हर प्रांत में बसंत पंचमी का त्यौहार बडे ही धूम-धाम से मनाया जाता है। लेकिन ब्रजवासियो के लिए बसंत पंचमी का त्यौहार कुछ खास रहता है। हो भी क्यो न बसंत पंचमी से ब्रज में होली की शुरूआत हो जाती है। बताया जाता है कि ब्रज में 40 दिवसीय होली मनाई जाती है। इसकी शुरूआत बसंत पंचमी से हो जाती है। बसंत पंचमी के दिन भगवान ठाकुर जी महराज को गुलाल लगाकर होली की शुरूआत होती हैं। मदिरों में फाग का गायन शुरू हो जाता है। ठाकुरजी महराज को छपपन भोग लगया जाता है और सभी भक्तों को प्रसाद वितरित होता है।


भगवान ठाकुर जी की कृपा से ब्रजवासियों में हर वर्ष की भाति इस बसंत पंचमी से होली की शुरूआत होती हैं। ब्रजवासी इसका इंतजार करते हैं। ब्रज की होली वैसे भी देश के साथ ही विदेशों में प्रशिद्ध है। बरसाने में होली खेलने बहर-बहर से लोगों का आन होता हैं। भारी भीड एकत्र होती है। ब्रज का पूरा वातावरण भक्तिमय हो जाता है।

वसंत पंचमी से शुरू होगया त्यौहार

ब्रज में होली की शुरूआत जहां बसंत पंचमी से हो जाती है। 16 फरवरी बसंत पंचमी पर बाकेबिहारी मंदिर में गुलास से होली खेलकर इसकी शुरूआत की जाती हैं। वहीं 16 मार्च को रमणरेती आश्रम में रंग गुलाल की होली होती हैं। 22 को बरसाना में लड्डू होली, 23 मार्च को बरसाना में लट्ठमार होली, 24 मार्च को नंदगांव में लट्ठमार होली, 25 मार्च श्रीकृष्ण जन्मस्थान पर होली, 27 मार्च को गोकुल में छड़ी मार, 29 मार्च को चतुर्वेदी समाज का डोला तथा 31 मार्च को बलदेव दाऊजी में हुरंगा होली खेली जाती है।

यह भी पढ़े : पति-पत्नी वाद-विवाद / जानें बेड-रूम में झगड़ा होने के प्रमुख ज्योतिषिय कारण

Next Story
Share it