सिंगरौली

विंध्य में मिला दुनिया का 9वां अजूबा, वह भी ऐसा जिसे देखकर हैरत में पड़ जाते हैं लोग...

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:03 AM GMT
विंध्य में मिला दुनिया का 9वां अजूबा, वह भी ऐसा जिसे देखकर हैरत में पड़ जाते हैं लोग...
x
Get Latest Hindi News, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar, Today News in Hindi, Breaking News, Hindi News - Rewa Riyasat

सिंगरौली। हम आपको ऐसे हुनर से परिचित कराने जा रहे है जिसकी कल्पना आपने कभी नहीं की होगी। यह हुनर देख आप कह उठेंगे अद्भुत, अकल्पनीय और अविश्वसनीय। भले ही यह हुनर देश में चर्चा का विषय अभी नहीं बना बन पाया हो पर इसके कायल विदेशी जरूर हैं वे इसे विश्व का 9वां अजूबा कहते हैं। यहां बात हो रही है देश की ऊर्जाधानी सिंगरौली मध्यप्रदेश के छोटे से गांव बुधेला के वीणा वादिनी पब्लिक स्कूल की। सबसे अधिक हैरानी की बात तो यह है कि एक दशक से भी पहले लायंस क्लब इंटरनेशनल के तत्कालीन चेयरमैन जेनिस रोज ने सिंगरौली भ्रमण के दौरान इस अदभुत दृश्य को देखा था तो देखते रह गए थे। कम्प्यूटर से भी तेज रफ्तार उन्होंने इन बच्चों को दुनिया का नौंवा अजूबा बता दिया था। लेकिन यह बात दुनिया के फलक तक नहीं पहुंची।

वर्तमान में विद्यालय में अध्ययनरत करीबे दो सौ बच्चे दोनों हाथ से एक साथ लिखने की कला में पारंगत हो चुके हैं। कम्प्यूटर के की बोर्ड से भी तेज रफ्तार से उनकी कलम चलती है। जिस कार्य को सामान्य बच्चे आधे घंटे में पूरा कर पाते उसे वह मिनटों में निपटा देते हैं। दो भाषाओं में एक साथ लेखन दिमाग और नजरों से इतने मजबूत हैं कि दोनों हाथ से हिन्दी-अंग्रेजी या उर्दू-रोमन अर्थात दो भाषाओं में एक साथ लिखकर हैरत में डाल देते हैं। जबकि ऊर्जाधानी का यह गांव पहाड़ों से घिरा है। कोयले के अकूत भंडार के बाद भी इलाके का पिछड़ापन देखकर अच्छी शिक्षा की कल्पना नहीं की जा सकती है। गरीबी से जकड़े इस इलाके में मेधा का यह भंडार आश्चर्य में डालने वाला है।

बच्चों को है 6 भाषाओं का ज्ञान स्कूल में कक्षा 1 से 8 तक की पढ़ाई होती है। नन्हें हाथ देवनागरी लिपि, उर्दू, स्पेनिस, रोमन, अंग्रेजी सहित छह भाषाओं में लिखते हैं। दोनों हाथों से लिखने का कम्पटीशन होता है जिसमे ये बच्चे 11 घंटे में 24000 शब्द लिखने की क्षमता रखते हैं। इतना ही नही ये बच्चे 45 सेकंड में उर्दू में गिनती, 1 मिनट में रोमन में गिनती, 1 मिनट में देवनागरी लिपि में गिनती, 1 मिनट में देवनागरी लिपि में पहाड़ा और 1 मिनट में दो भाषाओं के 250 शब्दों का ट्रांसलेशन कर देते हैं। वीणा वादिनी स्कूल में आसपास से पोड़ी, बुधेला, पिपरा झांपी, नौगई, डिग्घी, बिहरा, राजा सर्रई आदि गांव के बच्चे यह कला सीख रहे हैं।

स्कूल से निकले बच्चे कर रहे हैं बड़ी कामयाबी की तैयारी अभावों में पलती प्रतिभा संसाधनों के हिसाब से दिल्ली, लखनऊ सहित देश के किसी भी महानगर के पब्लिक स्कूल का यह विद्यालय मुकाबला चाहे भले नहीं कर पाए। पर यहां की प्रतिभा सभी को मात दे रही है। यहीं के छात्र रहे आशुतोष शर्मा ने सिंगरौली के उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में नौवीं कक्षा पढ़ाई करते हुए गणित में 100 में से 99 अंक अर्जित किए, जो रिकार्ड है। दिल्ली में रहकर आईएएस की तैयारी आशुतोष की तरह ही बुधेला के इस विद्यालय में आठवीं तक पढ़ाई करने वाले दिलीप कुमार शर्मा और रीता शाह भी नाम रोशन कर रहे हैं। यहां से निकलने के बाद आगे की पढ़ाई में भी लोहा मनवाया और इस समय दिलीप और रीता दिल्ली में रहकर यूपीएससी की तैयारी कर रहे हैं। वे जब भी छुट्टियों में आते हैं तो विद्यालय आकर बच्चों को प्रेरित जरुर करते हैं।

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद से मिली दोनों हाथों से लिखने की प्रेरणा आपको ये जानकर हैरानी होगी कि वीणा वादिनी पब्लिक स्कूल सरकारी नहीं है। न ही सरकार से कभी कोई सहायता मिली है। इस विद्यायल की नींव एक सोच पर रखी गई है। दरअसल बैढऩ शहर से करीब 20 किमी. दूर स्थित बुधेला गांव के निवासी वीरंगद शर्मा, जो जबलपुर में आर्मी की ट्रेनिंग कर रहे थे। एक दिन रेलवे स्टेशन पर एक पुस्तक में उन्होंने पढ़ा कि देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद दोनों हाथ से लिखते थे। वीरंगद शर्मा को इस बात में काफी इंट्रेस्ट आया और इसी बात ने उन्हें विद्यालय की नींव रखने की प्रेरणा दी। हालांकि उन्होंने खुद भी दोनों हाथों से लिखने की कोशिश की, लेकिन वे इसमें अधिक सफल नहीं हो पाए। इसके बाद उन्होंने यही प्रयोग बच्चों पर आजमाया जो कि इस कला को आसानी से सीख गए। कुछ वर्षों के प्रयास के बाद अब सभी छात्रों की दोनों हाथ से एक साथ लिखने की कला विशेषज्ञता बन गई है।

32000 शब्द लिखने की क्षमता विकसित करना है लक्ष्य वीरंगद को विद्यालय के संचालन के दौरान पता चला कि नालंदा विश्वविद्यालय के छात्र औसतन प्रतिदिन 32000 शब्द लिखने की क्षमता रखते थे। इस पर पहले भरोसा करना कठिन था लेकिन इतिहास को खंगाला तो कई जगह इसका उल्लेख मिला। इसी से सीख लेकर बच्चों की लेखन क्षमता बढ़ाने का प्रयास शुरु किया और अब आलम यह है कि 11 घंटे में बच्चे 24 हजार शब्द लिख डालते हैं। वीरगंद शर्मा ने देश के पुराने इतिहास को वर्तमान में सार्थक करने की ठान ली है। जो पूरा होता नजर आ रहा है।

बच्चों पर बोझ न बने, इसलिए धीरे धीरे सिखायी लिखने की कला वीरंगद बताते हैं कि बच्चों पर ज्यादा बोझ नहीं पड़े और रुचि भी बनी रहे, इसलिए पहले धीरे-धीरे दोनों हाथों से लिखने की कला सिखायी। वह घर जाते तो चर्चा करते। अभिभावक आते तो उनको समझाना पड़ता। कुछ ही सालों में क्षेत्र के लोग इस कला को लेकर आकर्षित हो गए। इस सत्र में अध्ययनरत करीब 200 बच्चे इस हुनर में माहिर हो चुके हैं। जेनिस रोज ने कहा था इसे 9वां अजूबा लायंस क्लब के अंतर्राष्ट्रीय चेयरमैन जेनिस रोज 2004-05 में बुधेला गांव अमेरीका से अपने जापानी मित्रों के साथ पहुंचे थे। तीन दिन रहने के बाद बच्चों को अपने साथ बनारस ले गए थे। जहां एक समारोह में इन बच्चों के हुनर को दिखाया गया। समारोह को संबोधित करते हुए जेनिस रोज ने कहा था कि भारत में दुनिया का यह 9वां अजूबा है।

Aaryan Dwivedi

Aaryan Dwivedi

    Next Story