सिंगरौली

जिला पंचायत सीईओ ने स्कूल से गायब रहने पर महिला सहायक अध्यापक समेत दो को किया सस्पेंड

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 5:59 AM GMT
जिला पंचायत सीईओ ने स्कूल से गायब रहने पर महिला सहायक अध्यापक समेत दो को किया सस्पेंड
x
Get Latest Hindi News, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar, Today News in Hindi, Breaking News, Hindi News - Rewa Riyasat

सिंगरौली(वैढ़न): महिला सहायक अध्यापक समेत एक अध्यापक को स्कूल से गायब रहना महंगा पड़ गया है। जिला पंचायत सीईओ प्रियंक मिश्रा ने शासकीय कर्तव्यों के निर्वाहन में शिक्षकों की घोर लापरवाही पाए जाने पर महिला सहायक अध्यापक समेत एक अध्यापक को निलंबित कर दिया है। सीईओ ने इन्हें निलंबित करते हुए जनपद शिक्षा केन्द्र में अटैच किया है। इस निलंबन की अवधि में सहायक अध्यापक रोशनी नागवंशी और अध्यापक पुराने साथ पैकरा को जीवन निर्वाहन भत्ते की पात्रता होगी।

निरीक्षण में पाई गईं थी नदारद बीआरसी द्वारा सहायक अध्यापक रोशनी नागवंशी के लगातार स्कूल से गायब रहने की रिपोर्टिंग की गई थी। औचक निरीक्षण में पाया गया कि सहायक अध्यापक 19 जून से बगैर सूचना एवं अनुमति के बिना स्कूल से गायब हैं। इस सबंध में उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था, लेकिन सहायक अध्यापक ने जवाब नहीं दिया। सीईओ ने शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत सहायक अध्यापक के अनुपस्थित रहने पाठक्रम के पूर्ण नहीं होने और कदाचरण का दोषी पाते हुए शिक्षिका रोशनी नागवंशी को निलंबित कर दिया है।

10 दिन तक गैरहाजिर था अध्यापक शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला के औचक निरीक्षण में यह पाया गया कि अध्यापक पुराने साथ पैकरा पिछले 10 दिनों से स्कूल से गायब है। इसके साथ ही पैकरा को लापरवाही, उदासीनता और वरिष्ठ अधिकारियों के आदेश की अवहेलना का दोषी पाते हुए सीईओ ने उन्हें निलंबित कर दिया है।

प्रधानाध्यापक वेतन कटौती के आदेश यह शिकायत श्यामलाल पनिका ने सीएम हेल्पलाइन में दर्ज कराते हुए आरोप लगाया था कि प्राथमिक जमगढ़ी प्रधानाध्यापक स्कूल से दोपहर में ही रवागनी डाल लेते हैं। इसके चलते बच्चों का भविष्य खराब हो रहा है। शिकायत की जांच में प्रधानाध्यपक को दोषी पाया गया। जिला परियोजना समन्वयक ने लापरवाही पर उनकी एक दिन की वेतन कटाने के निर्देश दिए हैं।सहायक अध्यापक रोशनी नागवंशी और अध्यापक पुराने साथ पैकरा को जीवन निर्वाहन भत्ते की पात्रता होगी।

Aaryan Dwivedi

Aaryan Dwivedi

    Next Story