सतना

सतना निवासी रत्नेश के हौसलें को सलाम, हिमालय के 20 हजार फिट ऊंचाई पर 25 दिव्यांगो को लेकर चढ़े

Viresh Singh Baghel
13 Oct 2021 9:22 AM GMT
सतना निवासी रत्नेश के हौसलें को सलाम, हिमालय के 20 हजार फिट ऊंचाई पर 25 दिव्यांगो को लेकर चढ़े
x
सतना शहर के पर्वतारोही रत्नेश पांडेय ने दिव्यांग बच्चो को लेकर ऊंची चोटी पर चढ़े।

सतना (Satna) कहते है न बेहतर जज़्बा ही सफलता की उड़ान भरता है। ऐसा ही कुछ कर दिखाया सतना शहर के रहने वाले पर्वतारोही रत्नेश पांडेय ने। वे 25 दिव्यांग सहित 75 बच्चो को 20 हजार से ज्यादा हिमायल के ऊंचाई पर लेकर पहुचने में सफल रहे है। दरसअसल उन्होंने हरियाणा सरकार के स्कूली शिक्षा विभाग द्वारा आयोजित माउंट यूनाम के पर्वतारोहण अभियान के तहत दिव्यांगों को हिमालय के शिखर पर चढ़ाया है। पर्वतारोहण अभियान में 25 बालक, 25 बालिका और 25 दिव्यांगजनों को मिलाकर कुल 75 बच्चों ने हिस्सा लिया था।

10 दिन में पूरा किया सफर

पर्वतरोहण का यह अभियान उन्होने 10 दिनों में पूरा किया है। इस दौरान वे 20,300 फीट ऊंचे माउंट यूनाम पर्वत को चढ़ते हुए यह सफलता हासिल की है। इसमें हरियाणा के शिक्षक संदीप आर्य भी शामिल रहें।

हरियाणा के स्कूल विभाग ने किया था हायर

दरअसल रत्नेश पांडेय देश-विदेश के पर्वतों में पहुच कर अपनी पहचान पर्वतारोही के रूप में बनाई है। यही वजह है कि हरियाणा सरकार की स्कूली शिक्षा विभाग ने इस कार्य के लिए उनसे संपर्क किया था।

30 सितंबर को हुए थे रवाना

जानकारी के तहत बच्चों को पहले पर्वत पर चढ़ने के लिए प्रशिक्षण दिया गया और फिर उनका स्वास्थ परीक्षण कराने के बाद यह दल 30 सिंतबर को रवाना हुआ था, जबकि 1 अक्टूबर से हिमालय पर्वत में चढ़ना शुरू किया था। बच्चो का यह दल अपने गाइड के अनुसार पूरे जोश के साथ चढ़ता हुआ 6 अक्टूबर को माउंट यूनाम पर्वत पर पहुंचा और भारत का तिरंगा लहराया। इसके बाद 10 अक्टूबर तक पर्वतारोहण दल यात्रा पूरी कर हिमालय के नीचे उतर आया।

किन्नरों के दल को भी चढ़ा चुके रत्नेश

रत्नेश के मुताबिक वे बीते वर्ष 2020 के अहिंसा दिवस पर 25 किन्नरों के ​दल को हिमालय के शिखर पर चढ़ाया था। इस वर्ष 2021 में 25 ​दिव्यांगों को सफलता पूर्वक पर्वतारोहण कराया है।

Next Story
Share it