रीवा

रीवा के Google Boy यशस्वी मिश्रा ने बनाए तीन वर्ल्ड रिकार्ड, वाकई यह 16 माह का बच्चा अद्भुत है

रीवा के Google Boy यशस्वी मिश्रा ने बनाए तीन वर्ल्ड रिकार्ड, वाकई यह 16 माह का बच्चा अद्भुत है
x
रीवा के गूगल बॉय यशस्वी मिश्रा को हार्वर्ड वर्ल्ड रिकॉर्ड एवं इंटरनेशनल बुक ऑफ रिकार्ड ने किया सम्मानित

रीवा। जिस 16 महीने की उम्र में बच्चे स्पष्ट भाषा नही बोल पाते उस उम्र में रीवा के यशस्वी एस. मिश्रा रिकार्ड पर रिकार्ड बनाते जा रहे हैं। उनकी मेमेरी पॉवर का लोहा अब हर कोई मानने लगा है। इसे बालक की छमता कहा जाए या उपर वाले का करिश्मा, लेकिन रिकार्ड पर रिकार्ड बनाकर यशस्वी 'रिकार्ड बालक' बनते जा रहे है। लोग यशस्वी को रीवा का गूगल बॉय कहते हैं.

इन संस्थाओं ने किया सम्मानित

यशस्वी के घर वालों ने बताया कि 16 महीने के यशस्वी की मेमोरी अद्रभुद है और वह जो कुछ भी पढ़ता है मानों उसकी मेमोरी में फिट हो गया हो। उसकी इस प्रतिभा के लिए हार्वर्ड वर्ल्ड रिकॉर्ड एवं इंटरनेशनल बुक ऑफ रिकार्ड ने उन्हें सम्मानित किया है।


हाल ही में 195 देशो के राष्ट्रीय घ्वज की पहचान करने में एस यशस्वी मिश्रा को सम्मानित किया गया है।

ऐसा करने वाला सबसे कम उम्र का बच्चा

बताया जाता है कि इंटरनेशनल बुक ऑफ रिकार्ड ने सबसे कम उम्र में ये कारनामा करने वाले बच्चे का खिताब रीवा के यशस्वी संजय मिश्रा को मिला है


गौरतलब है कि इससे पहले 14 माह में 26 देशों के ध्वज पहचानकर यशस्वी ने वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड लंदन में अपना नाम दर्ज करा चुके हैं. और अब दो और रिकॉर्ड बनाकर इन्होंने कुल 3 रिकॉर्ड अपने नाम कर लिये हैं जो कि इतनी कम उम्र में अपनी तरह का एक नया रिकॉर्ड है।

सभी देशों के नाम कठंस्थ

ज्ञात हो कि यशस्वी अब न केवल विश्व के सभी देशों के नाम जानते हैं बल्कि उन्हे 195 देशों के नाम कठंस्थ हो गए है। इतना ही नहीं सभी देशों की राजधानियों के नाम भी बखूबी बता सकते हैं, साथ ही अब बढ़ती उम्र के साथ यशस्वी अन्य विषयों की जानकारी में भी दिनो-दिन इजाफा कर रहे हैं।

इन विषयों की ले रहे है जानकारी

बताया जाता है कि यशस्वी इन दिनों विज्ञान, भौतिकी, गणित, रसायन शास्त्र, ज्यमितीय, भाषा, इतिहास, विश्व भूगोल, और सामान्य ज्ञान से जुड़े विभिन्न पहलुओं की आरंभिक जानकारी ले रहे हैं। वर्तमान में यशस्वी इन सभी विषयों से जुड़े विभिन्न नाम, चित्र और वस्तु से जुड़े लगभग 1000 से ज्यादा फ्लैश कार्ड पहचानते हैं, जो कि स्वयं में इस उम्र में किसी बच्चे के द्वारा किया गया ऐसा कार्य है जो कि एक नया रिकार्ड कायम करने वाला है।

लिटिल गूगल ब्याय की ख्याति

16 माह की छोटी सी उम्र में देश दुनिया की जानकारी को याद करने वाले यशस्वी एस मिश्र अब लिटिल गूगल ब्याय के नाम से देश-दुनिया में ख्याति हासिल कर रहे हैं। वे रीवा निवासी संजय मिश्रा-शिवानी मिश्रा के पुत्र और अवनीश मिश्रा के पौत्र हैं.

आपको अगर यशस्वी की मेमोरी पॉवर पर विश्वास नहीं हो रहा है तो रीवा के गूगल बॉय का ये वाला वीडियो देख लीजिए



Next Story