रीवा

रीवा-गोविंदगढ़ मार्ग 15 अक्टूबर तक बंद रहेगा, इन रास्तों से गुजर सकेंगे वाहन

रीवा-गोविंदगढ़ मार्ग 15 अक्टूबर तक बंद रहेगा, इन रास्तों से गुजर सकेंगे वाहन
x
रीवा से गोविंदगढ़ तक यातायात बंद रखे जाने से रीवा से सीधी और शहडोल के मध्य वाहनों के परिचालन पर व्यापक रूप से असर पड़ेगा. सिलपरा टनल के नीचे होगा सड़क का निर्माण कार्य.

रीवा. सिलपरा टनल (Silpara Tunnel) के नीचे सड़क का निर्माण किये जाने की वजह से 15 अक्टूबर तक रीवा- गोविंदगढ़ मार्ग (Rewa Govindgarh Road) पर यातायात पूरी तरह बंद रहेगा, जिसका निर्माण कार्य भी अंतिम चरण पर है। कलेक्टर मनोज पुष्प ने गुरुवार को इस संबंध में आदेश जारी किया था। रीवा से गोविंदगढ़ तक यातायात बंद रखे जाने से रीवा से सीधी (Rewa to Sidhi) और शहडोल (Rewa to Shahdol) के मध्य वाहनों के परिचालन पर व्यापक रूप से असर पड़ेगा।

गौरतलब है कि सिलपरा में टनल के नीचे की सड़क का निर्माण (Rewa Silpara Tunnel Road Construction Work) किया जाना है, जो यातायात के चालू रहने से संभव नहीं है। यही वजह है कि सिलपरा टनल के नीचे किसी भी तरह के वाहनों के आवागमन को प्रतिबंधित किया जा रहा है।

प्रशासन से जुड़े सूत्रों की मानें तो दो दिनों में रीवा से गोविंदगढ़ के बीच वाहनों का आवागमन पूरी तरह बंद (Vehicular traffic completely closed between Rewa to Govindgarh) कर दिया गया है। कलेक्टर ने इस संबंध में वाहन चालकों से 15 अक्टूबर तक इस मार्ग से आवागमन न करने के लिये कहा है। हालांकि प्रशासन ने इस अवधि में वाहनों के आवागमन के लिये वैकल्पिक मार्ग (Rewa Govindgarh Alternative Routes) की व्यवस्था की है। लेकिन इस वैकल्पिक मार्ग से आवागमन करने पर वाहनों को गंत्वय तक पहुंचने के लिये अतिरिक्त दूरी तय करनी पड़ेगी।

मान नहीं रहें लोग, एसपी ने मार्ग तुरंत बंद करने की हिदायत दी

इस मार्ग में आवागमन प्रतिबंधित होने के बावजूद भी लोग जबरदस्ती वाहनों से आवागमन कर रहें हैं. हादसे की आशंका को देखते हुए रीवा एसपी नवनीत भसीन ने इस मार्ग को भी तत्काल बंद करवाने की हिदायत दी है. कलेक्टर के आदेश पर शनिवार को यातायात थाना प्रभारी दिलीप तिवारी, सूबेदार सुगम चतुर्वेदी के साथ एमपीआरडीसी व परिवहन विभाग के कुछ अधिकारी पहुंचे और नहर मार्ग बंद कराते हुए वाहन चालकों को समझाइश दी. कहा, सड़क निर्माण लगभग पूर्ण हो चुका है, जल्द ही चालू कर दी जाएगी. यह सड़क पूरी तरह उखड़ चुकी थी, जिससे आए दिन वाहन फंसते थे. कलेक्टर व एसपी ने उक्त मार्ग का निरीक्षण कर सड़क निर्माण करवाने का आदेश दिया था. इसके बाद से ही सड़क का निर्माण करवाया जा रहा है.

सिलपरा टनल के नीचे खस्ताहाल है सड़क

सिलपरा में टनल के नीचे की सड़क कई वर्षों से खस्ताहाल में है। टनल के नीचे इतने बड़े आकार के गड्ढे हैं कि दोपहिया वाहनों के पहिये गड़ों में समा जाते हैं। इतना ही नहीं बारिश के दौरान टनल के नीचे वाहनों की लम्बी कतार लग जाती है जिससे यहां जाम की स्थिति निर्मित हो जाती है। बताया गया है कि इस मार्ग से आवागमन करने वाले वाहन टनल के नीचे की जर्जर सड़क से काफी परेशान हैं।

50 मीटर में होगा सड़क का निर्माण

बताया गया है कि सिलपरा टनल के नीचे 30 मीटर लंबाई में सड़क जर्जर हालत में है। लेकिन एमपीआरडीसी शहडोल डिवीजन यहां 45 से 50 मीटर लंबी सड़क का निर्माण करेगा निर्माण के साथ-साथ सड़क की ऊंचाई भी बढ़ाई जाएगी जिससे टनल से रिसकर आने वाला पानी सड़क के ऊपर न पहुंचे। सड़क का निर्माण कार्य कांक्रीट से होगा।

हालांकि जब तक टनल से पानी का रिसाव होता रहेगा, स्थाई रूप से इस समस्या का समाधान संभव नहीं है। इस संबंध में MPRDC से जुड़े सूत्रों का कहना है कि सड़क का निर्माण इस तरह किया जाएगा कि कई वर्षों तक टनल के नीचे वाहनों के आवागमन में दिक्कत न आये।

यह होगा वैकल्पिक मार्ग

रीवा से गोविन्दगढ़ मार्ग के बंद होने के दौरान सीधी सिंगरौली और शहडोल से गोविन्दगढ़ के रास्ते रीवा की ओर आने वाले भारी वाहन गोविन्दगढ़ से बेला होते हुए रीवा पहुंचेंगे और प्रयागराज की ओर जाने के लिये बाईपास का उपयोग करेंगे। इसी तरह रीवा से सीधी सिंगरौली और शहडोल की ओर गोविन्दगढ़ के रास्ते जाने वाले भारी वाहन रतहरा बेला होते हुए गोविन्दगढ़ पहुंचेगे और फिर आगे की ओर रवाना होंगे।

इसके अलावा छोटे चार पहिया, दो पहिया एवं ऑटो का परिचालन गड्डी रोड से रीवा होते हुए किया जाएगा जो सीधी- शहडोल और सिंगरौली की ओर रवाना हो सकेंगे। सिलपरा टनल के नीचे निर्माण कार्य के दौरान दोनों ओर 200 मीटर में किसी भी प्रकार के वाहनों को प्रतिबंधित किया गया है।

Next Story