रीवा

Rewa Eco Park: बीहर नदी के टापू पर 25 करोड़ की लागत से बन रहा रीवा इको पार्क, चलिए जानते है A टू Z विस्तार से

Rewa Eco Park: बीहर नदी के टापू पर 25 करोड़ की लागत से बन रहा रीवा इको पार्क, चलिए जानते है A टू Z विस्तार से
x
Rewa Eco Park Pics: रीवा शहर की जीवन दायनी नदी बीहर पर रिवर फ्रंट और यहां मौजूद टापू को इको पार्क बनाने का काम जोरों पर है

Rewa Eco Park: एमपी के रीवा सिटी में रहने वाली पब्लिक को एक चीज़ का बेसब्री से इंतज़ार है. वो है बीहर रिवर फ्रंट (Bihar Riverfront) और नदी में मौजूद टापू में बन रहा इको पार्क (Eco Park Rewa). इस प्रोजेक्ट को शुरू होने और पूरा होने में थोड़ी देरी तो हुई मगर यहां सीन 'देर आए दुरुस्त आए' वाला है. ख़ुशी इसी बात की है कि कम से कम प्रोजेक्ट अब अपना अंतिम रूप ले रहा है. गुजरात के साबरमती रिवर फ्रंट से इंस्पायर्ड बीहर रिवर फ्रंट का काम जोरों से चल रहा है और इको पार्क तो लगभग बनकर तैयार है.

इको पार्क का निर्माण पूरा होने को है

Rewa City से गुजरने वाली बीहर नदी में एक छोटा का टापू यानी आइलैंड है. पहले यहां तक जाने के लिए कोई रास्ता नहीं था और यहां जाने का कोई मतलब भी नहीं था. फिर भी दूर से देखने पर भी यह आकर्षण का केंद्र था. रीवा शहर के BJP MLA और पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ल (Rewa MLA Rajendra Shukla) को एक आईडिया आया. और वो आईडिया बड़ा ही विजनरी था. उन्होंने बीहर नदी के तट को और खूबसूरत बनाने और इस आइलैंड को इको पार्क में तब्दील करने के लिए पूरा जोर लगा दिया। कई सालों की मेहनत के बाद जो परिणाम आया वह बड़ा खूबसूरत निकला।


टापू को इको पार्क बनाने में 25 करोड़ रुपए का बजट तैयार किया गया. आज से 8 साल पहले यानी 2014 में इको पार्क डेवलपमेंट के लिए मध्य प्रदेश सरकार से स्वीकृति मिली। लेकिन स्वीकृति मिल जाने और DPR तैयार होने भर से राह आसान नहीं हुई.


सब कुछ ठीक चल रहा था. नदी के तट से टापू तक 3 करोड़ रुपए ली लागत से एक झूला पुल का निर्माण किया गया था. जो अपने आप में ही एक बेहतरीन आर्किटेक्चर था. मगर 2016 में भयंकर बाढ़ आई और उसकी चपेट में वह हैंगिंग ब्रिज आ गया. उस दिन सिर्फ वह पुल नहीं टूटा था उन लोगों की उम्मीद भी टूट गई थी जो हमेशा से रीवा को एक खूबसूरत शहर बनाने के लिए काम करते थे. काम ठप पड़ गया. सब कुछ रुक गया.

नई सरकार आई तो प्रोजेक्ट टर्मिनेट कर दिया

साल 2019 में मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आई. रीवा जिले से पार्टी को एक भी सीट नहीं मिली। नतीजतन सरकार ने इस प्रोजेक्ट को टर्मिनेट कर दिया। लेकिन अगले ही साल सत्ता परिवर्तन हो गया. फिर क्या? 2021 में वापस प्रोजेक्ट का काम शुरू हुआ जो अब पूरा होने को है. जिसे मध्य प्रदेश इको पर्यटन विकास बोर्ड एंड रीवा लीजर प्राइवेट लिमिटेड कंट्रोल करेगा

रीवा इको पार्क में हैं क्या-क्या?

सबसे पहली चीज़ को खुद इको पार्क और चारों तरफ से बहती बीहर नदी की सौन्दर्यता है. इसके बाद यहां कैफेटेरिया, ट्री हॉउस, बच्चों के खेलने कूदने का बदोबस्त, एडवेंचर स्पोर्ट्स जैसे ज़िप लाइन, स्काई साइक्लिंग, रोप कोर्स और बहुत कुछ है भाई.

रीवा इको पार्क कब शुरू होगा

काम तो लगभग पूरा हो गया है. बस थोड़ा फिनिशिंग का काम बाकी है. कायदे से देखा जाए तो CCTV कैमरा भी लगने चाहिए। ऐसी उम्मीद है कि नई साल के आरंभ में इको पार्क का शुभारंभ हो जाएगा।

रीवा रिवर फ्रंट का क्या सीन है?

उसका काम भी चल रहा है. लेकिन अगले साल तक पूरा होगा या नहीं ये अपन आपको अगले आर्टिकल में बता डालेंगे कसम से...


Next Story