vindhyacoronabulletin/corona .jpg

REWA : गांवों में डेरा जमा रहा कोरोना संक्रमण, लापरवाही पड़ेगी महंगी

RewaRiyasat.Com
Saroj Kumar Tiwari
30 Apr 2021

रीवा। कोरोना संक्रमण अभी तक शहर में ही सीमित था अथवा कहीं-कहीं कस्बाई क्षेत्र में इक्का-दुक्का मरीज पाये गये हैं। लेकिन हमारी लापरवाही के कारण महामारी ने अब गांवों में भी अंदर तक दस्तक दे दी है। गांवों में इस खतरनाक वायरस ने ठिकाना बना लिया है। जांच के अभाव में अभी मामले सामने नहीं आ रहे हैं, वहीं लोग छिपाने का भी प्रयास कर रहे हैं। इस तरह की लापरवाही महंगी पड़ सकती है।

आपको बता दें कि हर गांव में दर्जनों लोग बीमार पड़े हैं। जिनकी कोराना जांच नहीं हो पाई है। शुरुआत में सर्दी, खांसी और बुखार आने पर ग्रामीणों ने इसे सामान्य समझकर गांव में ही इलाज करा रहे। जब हालात बिगड़ते हैं तभी शहर के अस्पतालों की ओर भागते हैं। लेकिन अभी तक शासन-प्रशासन का ध्यान गांवों की ओर नहीं गया है।

इन वजहरों से गांवों में फैल रहा कोरोना वायरस

देखा जा रहा है कि गांवों के लोग मेहनत मजदूरी करने दूसरे राज्यों में रह रहे थे वे सीधे अपने गांवों को लौट रहे हैं, उनकी न तो कोई जांच हो रही है और न ही कोई पूछताछ की जा रही है। सरपंच, सचिव, जीआरएस का कहीं कोई पता नहीं रहता। कोई भी कहीं आ-जा रहा है। दूसरे राज्यों दिल्ली, सूरत, मंुबई, पुणे, चेन्नई आदि से लोग सीधे गांव पहुंच रहे हैं। जहां गांवों में न तो क्वारेंटाइन की व्यवस्था न कोई रोक-टोक है, जिससे लोग सीधे घर में प्रवेश कर रहे हैं।

नहीं हो रहा शासन के नियमों का पालन

ग्रामीणों क्षेत्रों में कोरोना को लेकर शासन द्वारा बनाई गई गाइड लाइन का बिल्कुल पालन नहीं हो रहा है। जिन्हें इन सबके पालन की जिम्मेदारी वह खुद ही लापता रहते हैं। यदि गहराई से जांच की जाय तो हर गांव में दूसरे राज्यों में मेहनत मजदूरी करने गये लोग वापस पहुंच रहे हैं जिससे गांवों में संक्रमण फैल रहा है। कोरोना की दूसरी लहर में जमकर लापरवाही देखी जा रही है। जबकि गत वर्ष लोगों की जांच हो रही थी और उन्हें स्कूलों, आंगनवाड़ी भवनों में क्वारेंटाइन करने की कार्यवाही की जा रही थी लेकिन इस बार सब कुछ मनमानी चल रहा है।

SIGN UP FOR A NEWSLETTER