रीवा

रीवा में जले ट्रांसफार्मर सुधरवाने अधिकारी मांग रहे रिश्वत, ग्रामीणों ने सुनाई आपबीती

Rewa MP News
x
Rewa MP News: रीवा जिले के ग्रामीण अंचल के ग्रामीण आज भी मूलभूत सुविधाओं के अभाव में अपना जीवन गुजार रहे हैं।

Rewa MP News: रीवा जिले के ग्रामीण अंचल के ग्रामीण आज भी मूलभूत सुविधाओं के अभाव में अपना जीवन गुजार रहे हैं। स्थिति यह है कि गांवो में आज भी बिजली, पानी और सड़क की समस्या बनी हुई है। इन समस्याओं के बीच जीवन गुजार रहे ग्रामीणों से जब अधिकारी समस्या निराकरण की मांग को लेकर पैसे मांगते हैं तो इन ग्रामीणों पर क्या बीतती होगी इसका सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है।

इसी परिप्रेक्ष्य में जिले के त्योंथर डिवीजन अंतर्गत कटरा विद्युत वितरण केन्द्र के सोहरवा गांव के निवासियों ने विभाग के अधिकारियों पर 10 हजार की रिश्वत मांगने का आरोप लगाया है। ग्रामीणों का आरोप है कि गांव में आधा दर्जन से अधिक ट्रांसफर जले हुए हैं। इन जले हुए ट्रांसफार्मर को सुधारने के लिए जब ग्रामीणों ने विभाग के अधिकारियों से संपर्क किया तो अधिकारियों द्वारा रिश्वत की मांग की गई। वर्तमान समय की स्थिति यह है कि न तो ग्रामीणों ने रिश्वत ही दी और न ही गांव में जले हुए ट्रांसफार्मर ही सुधारे गए।

अधिकारियों को हटाए जाने की मांग

सोहरवा गांव के निवासी जगत देव सिंह, राजबहोर पटेल, रामनरेश पटेल, अभिनेश पटेल ने बताया कि विभाग के अधिकारियों से ट्रांसफार्मर सुधरवाने के लिए कई बार आवेदन दिया गया, लेकिन अधिकारियों ने हमारी समस्या का निराकरण नहीं किया। विभाग में पदस्थ कनिष्ठ अभियंता, जेई, सहायक यंत्री और डिविजनल इंजीनियर बिना रिश्वत लिए काम करने को तैयार ही नहीं है। इन अधिकारियों के गैर जिम्मेदाराना कार्यप्रणाली के कारण ग्रामीण अंधेर में रहने को विवश है। ग्रामीणों ने संबंधित अधिकारियों को हटाने की मांग की है।

50 से अधिक ट्रांसफार्मर अनुपयोगी

ग्रामीणों का कहना है कि त्योंथर डिवीजन के अंतर्गत आने वाले विभिन्न गावां में 50 से अधिक ट्रांसफार्मर पूरी तरह से अनुपयोगी हो गए हैं। इन जले हुए ट्रांसफार्मरों को सुधरवाने की कवायद अधिकारियों द्वारा नहीं की जा रही। बताया गया है कि अगर शीघ्र ही अधिकारियों ने बिगडे़ हुए ट्रांसफार्मर सुधरवाने की कवायद नहीं की तो ग्रामीण आंदोलन का रूख अख्तियार कर सकते हैं।

Next Story