रीवा

रीवा के सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल प्रबंधन पर भड़के पूर्व मंत्री और कलेक्टर, जानिए क्या थी वजह...

Aaryan Dwivedi
10 July 2021 10:51 AM GMT
रीवा के सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल प्रबंधन पर भड़के पूर्व मंत्री और कलेक्टर, जानिए क्या थी वजह...
x
रीवा. विंध्य वासियों को इलाज के लिए दूर न जाना पड़े इस वजह से पूर्व मंत्री एवं रीवा विधायक राजेंद्र शुक्ला द्वारा रीवा में सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल (Super Specialty Hospital, Rewa) की सौगात दी गई थी. जो सेवाएं देना शुरू कर चुका है. जहां इस अस्पताल की चौतरफा तारीफें हो रही है. वहीं अचानक से शुक्रवार को पूर्व मंत्री एवं कलेक्टर यहां की व्यवस्थाओं को लेकर प्रबंधन पर भड़क उठें.

रीवा. विंध्य वासियों को इलाज के लिए दूर न जाना पड़े इस वजह से पूर्व मंत्री एवं रीवा विधायक राजेंद्र शुक्ला द्वारा रीवा में सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल (Super Specialty Hospital, Rewa) की सौगात दी गई थी. जो सेवाएं देना शुरू कर चुका है. जहां इस अस्पताल की चौतरफा तारीफें हो रही है. वहीं अचानक से शुक्रवार को पूर्व मंत्री एवं कलेक्टर यहां की व्यवस्थाओं को लेकर प्रबंधन पर भड़क उठें.

दरअसल, शुक्रवार को पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ला, कमिश्नर अनिल सुचारी एवं कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी. द्वारा अस्पताल के क्रियान्वयन एवं सञ्चालन को लेकर एक आवश्यक बैठक की थी. इस बैठक के ठीक पहले कलेक्टर अस्पताल के औचक निरीक्षण पर निकल गए.

भर्ती प्रक्रिया में लेट लतीफी पर भड़कें पूर्व मंत्री

बैठक में पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ला ने अस्पताल में उपलब्ध उपकरणों के सम्बन्ध में जानकारी मांगी. इसके बाद उन्होंने प्रबंधन को अस्पताल में डॉक्टरों और स्टाफ की भर्ती प्रक्रिया में लेट लतीफी के सम्बन्ध में फटकार लगा दी. साथ ही अस्पताल में जल निकासी की व्यवस्था न शुरू होने पर भी उन्होंने नाराजगी व्यक्त की है.

रीवा विधायक ने प्रबंधन से कहा कि भर्ती प्रक्रिया में तेजी लाएं एवं जल निकासी की उचित व्यवस्था की जाय. साथ ही समय समय पर कार्यकारिणी समिति की बैठक आयोजित कराने के निर्देश श्री शुक्ल द्वारा दिए गए.

टूटा स्ट्रेचर देख नाराज हुए कलेक्टर

निरीक्षण के दौरान अस्पताल के मुख्य द्वार पर टूटा स्ट्रेचर देखकर कलेक्टर नाराज हो गए. उन्होंने फ़ौरन स्ट्रेचर बदलने और ऐसे स्ट्रेचर का उपयोग न करने की हिदायत अस्पताल प्रबंधन को दे डाली.

हांलाकि कलेक्टर द्वारा मरीज के परिजनों के बैठक सुविधा की तारीफें भी की गई. उन्होंने प्रबंधन को कहा कि मरीजों की सेवा में कोई भी कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी. कलेक्टर की फटकार के बाद फ़ौरन स्ट्रेचर बदल दिया गया और टूटे हुए स्ट्रेचर को रिपेरिंग के लिए भेज दिया गया.

कलेक्टर ने मेडिकल कॉलेज के पोस्ट ग्रेजुएट डॉक्टरों को जूनियर रेसीडेंट के तौर पर नियुक्त करने के निर्देश दिए हैं.

अन्य मेडिकल कॉलेजों से संपर्क साधें

बैठक में सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में डॉक्टरों के रिक्त पदों को भरने के लिए अन्य मेडिकल कॉलेजों में संपर्क करने की बात कही गई. कहा गया कि रिक्त पदों के भरने से मरीजों को और बेहतर इलाज का लाभ मिल सकेगा. वहीं बैठक में मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. मनोज इंदुलकर ने अस्पताल की व्यवस्थाओं से लेकर भर्ती प्रक्रिया के बारे में विस्तार से जानकारी दी.

शुक्रवार को हुई इस बैठक में रीवा विधायक राजेंद्र शुक्ला, संभागीय कमिश्नर अनिल सुचारी, कलेक्टर इलैयाराजा टी के अलावा मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ मनोज इंदुलकर, SGMH अधीक्षक डॉ एसडी गर्ग, सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के अधीक्षक डॉ अक्षय श्रीवास्तव, डॉ व्हीडी त्रिपाठी एवं अन्य अधिकारी मौजूद रहें.

Next Story
Share it