यहां परिंदे करते हैं राष्ट्रपति भवन की सुरक्षा, सेना या कमांडो नहीं, जाने ऐसा क्यों…

General Knowledge अन्य

यहां परिंदे करते हैं राष्ट्रपति भवन की सुरक्षा, सेना या कमांडो नहीं, जाने ऐसा क्यों…

G.K News Desk: आज तक ज्यादातर यह सुना और देखा गया है कि जितने बडे राष्ट्रपति भवन उतनी ज्यादा सुरक्षा।

लेकिन एक देश ऐसा है जहां राष्ट्रपति भवन जैसे महत्वपूर्ण स्थान की सुरक्षा के लिए परिदों को तैनात किया गया है।

AMAZON DEALS – UPTO 50% OFF

आइये हम आपको सबसे पहले यह बताते है कि वह कौन सा देश हैं जो राष्ट्रपति भवन की सुरक्षा किस पक्षी करवाते हैं। दरअसल, रूस के राष्ट्रपति भवन के साथ ही और भी कई सरकारी भवनों की सुरक्षा पक्षियों के हवाले है। इन पक्षियों में उल्लू और बाज को शामिल किया गया हैं। बाज और उल्लुओं की एक खास टीम प्रमुख सरकारी भवनों की सुरक्षा करती है।

यहां परिंदे करते हैं राष्ट्रपति भवन की सुरक्षा, सेना या कमांडो नहीं, जाने ऐसा क्यों...

1984 से तैनात है बाज और उल्लू की टीम

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इन शिकारी पक्षियों की इस खास टीम को 1984 में राष्ट्रपति भवन की कड़ी सुरक्षा के लिए गठित कर दिया गया था। बताया गया है कि टीम में 10 से ज्यादा बाज और उल्लू हैं। इनहे सुरक्षा पर नजर रखन के लिए विशेष प्रशिक्षकों द्वारा प्रशिक्षित किया जाता है। इसके बाद भवनों की सुरक्षा में लगा दिया जाता है।


पक्षी तैनात करने का मुख्य कारण

आज तक हमने कुत्तो को सुरक्षा के लिहाज से तैनात करने हुए सुना है। क्योंकि कहा जाता है कि कुत्ते सबसे ज्यादा वफादार होते हैं। लेकिन कुछ पक्षियों मे भी विशेष गुण पाया जाता हैं। बाज और उल्लू दोनो ही काफी घातक और दृष्टि के मामले में सबसे तेज माने जाते हैं। रूस के राष्ट्रपति भवन और वहां बनी बनी उंची सरकारी इमारतों में पक्षियो का डेरा बना लेते है।इसके लिए सरकार ने कई प्रयास किये। कर्मचारी तैनात किये लेकिन बात नही बनी। इसके बाद नये तरह के इस प्रयोग को आजमाया गया और वह सफल रहा। खास बात यह है कि आवरा पक्षियों के बीट गंदग तथा घोषलों से बचने के लिए बाज और उल्लू तैनात किया गया।

OTHER GK NEWS :

दुनिया को अंचभित करने वाली अमेरिका की 17 वर्षीय युवती ने बनाया सबसे लम्बे पैरो

यूनेस्को ने पन्ना टाइगर रिजर्व को बायोस्फीयर रिजर्व घोषित किया

आखिर टूथपेस्ट के ट्यूब में बनी अलग-अलग रंग की पट्टियों का क्या मतलब होता है?

भारत के इस गांव में सबसे पहले निकलता है सूरज। जानिये ..

क्या होगा यदि धरती से 5 सेकंड के लिए ऑक्सीजन गायब हो जाए?

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने बताया छत्तीसगढ़ भवन में ठहरने का अनुभव, पढ़िए पूरी खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *