राष्ट्रीय

PM मोदी को गर्व करना चाहिए वह जिस कुर्सी पर बैठे हैं उस पर कभी नेहरू बैठते थे : गहलोत

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 5:55 AM GMT
PM मोदी को गर्व करना चाहिए वह जिस कुर्सी पर बैठे हैं उस पर कभी नेहरू बैठते थे : गहलोत
x
Get Latest Hindi News, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar, Today News in Hindi, Breaking News, Hindi News - Rewa Riyasat
जयपुर: कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को गर्व करना चाहिए की जिस कुर्सी वो बैठे हैं उस पर कभी पंडित जवाहरलाल नेहरू बैठा करते थे. पीएम मोदी अब कभी दोबारा चुनाव नहीं जीत सकते. गहलोत ने आपातकाल को लेकर बीजेपी पर पलटवार करते हुए कहा कि अच्छा है मोदी जी आपातकाल को लेकर हमारी पब्लिसिटी कर रहे है, अच्छा होता प्रधानमंत्री जी उन बेहतरीन योजनाओं का भी जिक्र करते जिनकी शुरुआत इंदिरा जी ने की थी. गहलोत ने कहा कि देश के सामने झूठ आ गया है, अब चाहे कुछ भी कर लें मोदीजी दोबारा चुनाव नहीं जीत सकते. गहलोत ने कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बार-बार राजस्थान बुलाकर बेइज्जत कर रही हैं. यह राजे की फितरत रही है. गहलोत ने केन्द्रीय मानव संसाधन एवं विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर द्वारा गांधी परिवार पर लगाए गए आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि बीजेपी गांधी परिवार को लेकर बेबुनियाद आरोप लगा रही है. उनको मालूम होना चाहिए गांधी परिवार तीस साल से किसी संवैधानिक पद पर नहीं है.
'बीजेपी झूठे वादे करके भारी बहुमत से सत्ता में आई'
गहलोत ने कहा कि बीजेपी झूठे वादे करके भारी बहुमत से सत्ता में आई लेकिन जनता से किए वादों को पूरा नहीं करने से जनता आने वाले चुनाव में हिसाब चुकाएगी. प्रदेश की जनता बीजेपी सरकार को माफ नहीं करेगी चाहे कोई आकर जयपुर में बैठ जाए. राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को सलाह दी है कि वे पुरस्कार लेने में मुख्यमंत्री की कुर्सी की गरिमा का ध्यान रखें. मुख्यमंत्री पद की गरिमा होती है. गहलोत ने प्रदेश में किसानों द्वारा की गई आत्महत्याओं, बिगड़ी कानून व्यवस्था, रिफाइनरी, किसानों के कर्ज माफी, (रेता) को लेकर राज्य सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि मौजूदा सरकार के शासन में किसानों ने आत्महत्या की है. यह कलंक राजस्थान पर पहली बार लगा है. बजरी मुददे पर सरकार सुप्रीम कोर्ट में अपना पक्ष ठीक ढंग से रख पाने में विफल रहने के कारण पचास लाख मजदूर परिवारों पर संकट खडा हो गया है. सरकार और खनन माफिया की मिलीभगत के कारण यह हालात पैदा हुए है. उन्होंने राज्य सरकार द्वारा गो संवर्धन के लिए शराब पर लगाए गए सैस मुद्दे पर कहा कि सरकार कम से कम शराब से वसूल किए गए सैस को गायों पर खर्च नहीं करे. सरकार ने गाय को शराब से क्यों जोड़ा है. कम से कम ऐसा तो नहीं करे. उन्होंने आगामी विधान सभा चुनाव में कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री प्रोजेक्ट किए जाने के मुददे पर कहा कि यह आलाकमान तय करता है.
Next Story
Share it