राष्ट्रीय

गैंगरेप का विरोध कर रहीं लड़कियों से कलेक्टर ने कहा: पढने आती हो या राजनीती करने, अपने पापा का नंबर दो

गैंगरेप का विरोध कर रहीं लड़कियों से कलेक्टर ने कहा: पढने आती हो या राजनीती करने, अपने पापा का नंबर दो
x
Alwar Gangrape Case: छात्राएं मूकबधिर लड़की से हुए गेंग रेप के मामले में प्रदर्शन कर रही थीं और कलेक्टर ने उन्हें अजीब ज्ञान दे डाला

Alwar Gangrape Case: कुछ दिन पहले राजस्थान के अलवर में मुकबधिर लड़की से हुए गैंगरेप के विरोध में कई संगठन आंदोलन कर रहे हैं, लोगों का कहना है कि प्रशासन और पुलिस का इस घटना के प्रति रवैया बहुत ढीला है. शुक्रवार की अलवर कलेक्टर के पास कई छात्राएं गैंगरेप के विरोध में और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग को लेकर पहुंची। कलेक्टर ने लड़कियों की मांग सुनंने की जगह उन्हें ज्ञान देना शुरू कर दिया।

अलवर कलेक्टर ने लड़कियों से कहा तुम लोग पढाई करने के लिए आते हो या राजनीति करने के लिए आते हो? अपने पापा का नंबर दो अभी उनको फोन लगाता हूं. रायगढ़ की छात्रा मंजू मीणा से क्लेक्टर नन्नूमल पहाड़िया ने कहा कि अपने पापा को फोन लगाओ वहीं इसके बाद SDM सुनीता पंकज ने छात्रा से कहा अपने फोन से पिता को कॉल करो और उन्हें बताओ तुम क्या करने आई हो। और बाकी लड़कियों से भी कहो कि अपने पापा को फोन लगाए और पूंछे कि वो राजनीती करने के लिए आती हैं या पढाई करने के लिए।

न्याय की मांग करो तो राजनीती?

अलवर में मूकबधिर बालिका से हुई घटना के विरोध में BJP महिला कार्यकर्ता के साथ राजगढ़ स्कूल की छात्राएं भी न्याय की मांग करने के लिए अलवर कलेक्टर के पास पहुंची थीं. सबको यही लग रहा था कि कलेक्टर उनकी बात सुनेगें और कार्रवाई का आश्वाशन देंगे। कलेक्टर ने लड़कियों से कहा तुम बताओ तुम्हे कहां दिक्कत आती है? वहां पुलिस से कह कर मॉनिटरिंग करवा देंगे।

कलेक्टर के बयान से लोग खिसिया गए

कलेक्टर के इस बयान को लेकर लोग सोशल मीडिया में तरह-तरह के कमेंट कर रहे हैं, कोई कह रहा है कि कलेक्टर ने ठीक कहा तो किसी ने कहा विरोध करना और न्याय की मांग करना सबका अधिकार है. तो एक यूजर ने ये भी लिखा कि कलेक्टर साहब जब लड़कियां सुरक्षित रहेंगी तभी तो पढाई करेंगी।


Next Story