राष्ट्रीय

बीजेपी MLA ने जवाहर लाल नेहरू के पंडित होने पर उठाए सवाल, कहा- 'वे गाय और सुअर का मीट खाते थे'

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 5:58 AM GMT
बीजेपी MLA ने जवाहर लाल नेहरू के पंडित होने पर उठाए सवाल, कहा- वे गाय और सुअर का मीट खाते थे
x
Get Latest Hindi News, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar, Today News in Hindi, Breaking News, Hindi News - Rewa Riyasat

नई दिल्ली: राजस्थान के अलवर (रामगढ़) से बीजेपी विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू को लेकर आपत्तिजनक बयान दिया है. बीजेपी विधायक ने नेहरू के पंडित होने पर ही सवाल खड़ा कर दिया है. न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में ज्ञानदेव आहूजा ने कहा, 'जवाहर लाल नेहरू पंडित नहीं थे, भला सुअर और गाय मांस खाने वाला पंडित कैसे हो सकता है. गाय से हिंदूओं की आस्था जुड़ी है तो सुअर से मुस्लिम परहेज करते हैं. जवाहर लाल नेहरू गाय और सुअर दोनों के मांस खाते थे. कांग्रेस ने उनके नाम में पंडित जोड़कर ब्राह्मणों को पार्टी से जोड़ा था.'

राजस्थान विधानसभा और अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव को देखते हुए सत्ता पक्ष और विपक्ष के नेता एक दूसरे को लेकर बयानबाजी में जुट गए हैं. ज्ञानदेव आहूजा पहले भी अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में रहे हैं. साल 2016 में भी ज्ञानदेव आहूजा ने पंडित नेहरू पर हमला बोला था.

उन्होंने कहा था कि कश्मीर समस्या पूर्व प्रधानमंत्री नेहरू की देन है, जो उन्होंने अपने सौतेले भाई अब्दुल्ला के साथ मिलकर देश को दी थी. उन्होंने कहा था कि कश्मीर के लोगों को दामाद की तरह हम खिला रहे हैं उसेक बावजूद भी पाकिस्तान जिन्दाबाद के नारे लगा रहे हैं. वे दो बार कश्मीर जा चुके हैं और वहां देखा कि लोग देशभक्त कम और देशद्रोही ज्यादा हैं. उन्होंने पीओके को भारत मेंमिलाकर अखण्ड भारत बनाने की बात कही और कहा कि बीजेपी सरकार इसकी तैयारी कर रही है. अहूजा ने कहा था कि धारा 370 को हटाने का वक्त आ गया है. नेहरु परिवार के कारण देश के 24 टुकड़े हुए हैं और इसलिए वे इंदिरा और नेहरू को स्वर्गीय नहीं कहते हैं नरकीय कहते हैं.

इसके अलावा ज्ञानदेव आहूजा कथित गोरक्षकों के हाथों मारे गए पहलू खां की हत्या पर कहा था कि वह गौतस्कर था. साथ ही उन्होंने गौ रक्षकों का समर्थन किया था. ज्ञानदेव आहूजा मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया के खिलाफ भी बयान दे चुके हैं. पिछले साल उन्होंने वसुंधरा की अगुवाई में सरकार के कामकाज के तरीके पर सवाल उठाए थे.

Next Story
Share it