Coronavirus : Shahdol में चीनी लड़कियों का दर्द, बाहर निकलते ही…

शहडोल

शहडोल/मंडला/ कोरोना अब भारत में बेकाबू होता जा रहा है। लगातार कोरोना पीड़ितों की संख्या बढ़ती जा रही है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार देश में कोरोना पीड़ितों की संख्या 341 के पार पहुंच गई है, साथ ही छह लोगों की अभी तक मौत हुई है। ऐसे में विदेश से लौटने वाले सभी लोगों को संदिग्ध निगाहों से देखा जा रहा है।

चीन से लौटी कुछ छात्राओं ने अपनी आपबीती सुनाई है। अब उन्हें अपने घरों पर किन मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। अब मोहल्ले के लोग और पड़ोसी भी इनको देखने के बाद अपना दरवाजा बंद कर लेते है। ऐसे में इन छात्राओं को अब अपने के ही बीच परायेपन का सामना करना पड़ रहा है।

पड़ोसी बंद कर लेते दरवाजा

छात्राओं के अनुसार जब से उनका नाम सार्वजनिक हुआ है, तब से उनके घर से बाहर निकलते ही पड़ोसी दरवाजा बंद कर लेते हैं। दूध लेने जाओ तो दुकानवाला मना कर देता है। छात्राओं के अनुसार ऐसा व्यवहार का समाना करना मुश्किल होता जा रहा है। इधर आयरलैंड में फंसे मंडला के दो युवकों ने को वहां के जो हालात बताए वो स्तब्ध कर देने वाले हैं।

खाने के सामान नहीं थे

आयरलैंड के एथलॉन शहर में फंसे युवकों के अनुसार वे अपने घर से बाहर तक नहीं निकल सकते। खाने के लिए सामान नहीं है और घर में दवाइयां भी खत्म हो गई हैं। कोरोना अलर्ट के चलते उन्हें वहां घर से निकलने नहीं दिया जा रहा है। घर से छात्रों के परिजनों ने राज्यसभा सांसद से मदद की गुहार लगाई है।

क्यों है ये डर

दरअसल, भारत में अभी तक जो भी कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों के मामले सामने आए हैं, उनमें ज्यादातर पीड़ितों का ट्रैवेल रिकॉर्ड विदेश का रहा है। कोरोना वायरस का पहला मामला भी चीन से ही सामने आया था। इसलिए लोग ज्यादा भयभीत हैं। मध्यप्रदेश में जो चार पॉजिटिव केस मिले हैं, उनमें से तीन लोगों ने दुबई और एक ने स्वीटजरलैंड की यात्रा की थी।

Facebook Comments