रीवा: दहेज़ में डायमंड रिंग नहीं मिली तो दहेज़ लोभियों ने रिश्ता ही तोड़ दिया

Rewa
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

रीवा। दहेज आज भी समाज के लिए अभिशाप बना हुआ है। दहेजलोभी खुलेआम दहेज की मांग कर रहे हैं। एक बार रिश्ता तय होने के बाद भी सौदेबाजी की जाती है। अगर लड़की पक्ष के लोग दहेज देने में समर्थ नहीं हुए तो रस्मो रिवाज पूरी होने के बाद भी मुकर जाते हैं। ऐसा ही मामला प्रकाश में आया है जहां लड़की पक्ष के लोगों का लाखों रुपए खर्च कराने के बाद हीरे की अंगूठी के लिए रिश्ता तोड़ दिया गया। पीडि़त ने पुलिस अधीक्षक से लड़के वालों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर खर्च किए गए लाखों रुपए की वसूली की मांग की है।

जानकारी के अनुसार विमलेश गिरी निवासी हिंदूपुर करछना जिला प्रयागराज उत्तरप्रदेश के बेटे विमलेश गिरी से अमहिया थाना क्षेत्र के द्वारिका नगर निवासी ने अपनी बेटी का विवाह तय किया था। रिश्ता तय होने के बाद लड़की पक्ष के लोगों ने इंयावन हजार रुपए बरीक्षा के रूप में दिया था, साथ ही लाखों रुपए विदाई और भोजन में खर्च किए। शादी तय होने के बाद इंगेजमेंट की रस्म पूरी हुई। जिसमें सोने की अंगूठी, 20000 रुपये का मोबाइल, करीब एक लाख की सामग्री और साठ हजार रुपए विदाई में खर्च किए गए।

लड़की पक्ष के लोगों ने लगभग 6 लाख रुपये रस्म में खर्च कर दिया और बारात के लिए तिथि निश्चित कर दी गई। इसी बीच लड़के पक्ष के लोगों ने 4 तोला सोना, 5 लाख नकद और एक डायमंड के अंगूठी की मांग रख दी। लेकिन लड़की वालों ने मांग पूरी करने में असमर्थता व्यक्त की तो दहेजलोभियों ने रिश्ता तोड़ दिया। इसके बाद लड़की के पिता ने विमलेश गिरी पिता गणेश गिरी, मां शोम कली, भाई कौशल, अविनाश, जीजा जितेंद्र गिरी के खिलाफ धोखाधड़ी, दहेज की मांग के साथ रिश्ता तोडऩे पर कानूनी कार्यवाही की मांग करते हुए खर्च हुए रुपयों की मांग करते हुए पुलिस अधीक्षक से शिकायत दर्ज कराई है। बताया जाता है कि विमलेश गिरी का किसी लड़की के साथ पहले से संबंध है और वह धोखे में रखकर विवाह करना चाहता था। पीडि़तों ने पुलिस अधीक्षक को दहेज मांगने और रिश्ता तोडऩे की ऑडियो और वीडियो की रिकॉर्डिंग की सीडी भी उपलध कराई। अमहिया पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।

Facebook Comments