मानवता हुई शर्मसार,मौत के बाद भी नहीं दिखाई सहानुभूति, मीडिया के दखल के बाद हड़कंप में आई पुलिस : REWA NEWS

Rewa
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

रीवा। विंध्य के सबसे बड़े अस्पतालऔर मेडिकल कॉलेज के गेट के सामने उपचार के अभाव में एक व्यक्ति ने दम तोड़ दिया। कई दिनों से बीमारी की हालत में अस्पताल के आसपास भटकते मरीज को मौत के बाद भी समय पर कंधा नसीब नहीं हुआ। घंटों बीच सड़क में पड़े रहने के बाद जब मीडिया कर्मियों ने दखल दिया, तब मौके पर पुलिस पहुंची और शव को उठवा कर मच्र्युरी में रखवाया। इस दौरान सड़क पर पड़े शव के आसपास से सैकड़ों अस्पताल के चिकित्सक, कर्मचारी और समाज के ठेकेदार निकलते रहे, लेकिन किसी ने रुक कर बीच सड़क में पड़े व्यक्ति का हाल जानने की कोशिश नहीं की, और अंत में तड़पते हुए दम तोड़ दिया। गुरुवार की सुबह से श्याम शाह मेडिकल कॉलेज के गेट के पास सेवा भाव की मूर्ति कही जाने वाली भगिनी निवेदिता की मूर्ति के सामने बीमारी हालत में पड़ा 50 वर्षीय अज्ञात व्यक्ति भूख और प्यास से तड़प रहा था।

तड़पते व्यक्ति को दुकानदारों ने पानी और बिस्किट देकर अपनी जवाबदारी से पल्ला झाड़ लिया। जबकि सुबह 6 बजे से शाम 3.30 बजे तक हजारों लोग उस मार्ग से गुजरते रहे। किसी ने न तो अस्पताल तक पहुंचाने की जहमत उठाई और न ही मौत के बाद शव के ऊपर एक चादर डाली।

जानवर से भी गई बीती जिंदगी : अगर किसी मोहल्ले में या दुकान के सामने किसी जानवर की मौत हो जाए तो गंध आने की डर से लोग तुरंत शव को उठाकर किनारे करते हैं, लेकिन गुरुवार को बीच सड़क पर घंटों एक मानव का शव पढ़ा रहा। श्याम शाह मेडिकल कॉलेज के गेट के चारों तरफ अतिक्रमण कर खुली दुकाने बदस्तूर चलती रहीं। दुकानदारों के पास आने वाले कस्टमर चाय नाश्ता कर शव के आसपास पीक मारते रहे, लेकिन किसी का जमीर नहीं जागा और न ही किसी ने शव को उठाने की पहल की। दुकानदारों ने बताया कि सुबह उनके द्वारा कई बार अस्पताल के सुरक्षाकर्मियों और अस्पताल के कर्मचारियों को जानकारी दी गई थी कि एक व्यक्ति गेट में पड़ा तड़प रहा है। फिर भी किसी ने ध्यान नहीं दिया। दुकानदारों ने बताया कि उनके द्वारा अस्पताल प्रबंधन या सुरक्षाकर्मियों से बात की जाती थी तो वे झुंझला कर उन्हें भगा देते थे। जिसके चलते उन लोगों ने सूचना देने के बाद किसी को नहीं बताया।

Facebook Comments