मध्यप्रदेश

MP: अतिथि विद्वानों के साथ आई NSUI, घड़ियाली आंसू बहाने वाले कागज के शेरों को सबक सिखाएगी जनता

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:28 AM GMT
MP: अतिथि विद्वानों के साथ आई NSUI, घड़ियाली आंसू बहाने वाले कागज के शेरों को सबक सिखाएगी जनता
x
रीवा: अतिथि विद्वानों के साथ आई NSUI, घड़ियाली आंसू बहाने वाले कागज के शेरों को सबक सिखाएगी जनता रीवा:  मध्यप्रदेश NSUI के प्रतिनिधिमंडल

रीवा: अतिथि विद्वानों के साथ आई NSUI, घड़ियाली आंसू बहाने वाले कागज के शेरों को सबक सिखाएगी जनता

रीवा ( विपिन तिवारी) : मध्यप्रदेश NSUI के प्रतिनिधिमंडल ने आज अतिथि विद्वान संघ के प्रदेशाध्यक्ष देवराज सिंह से मुलाकात कर अतिथि विद्वानों की लड़ाई में उनका साथ देने की बात कही है।
NSUI के प्रदेश प्रवक्ता विवेक त्रिपाठी के नेतृत्व में NSUI के प्रतिनिधिमंडल ने आज अतिथि विद्वान संघ के प्रदेशाध्यक्ष देवराज सिंह के घर में मुलाकात कर अतिथि विद्वानों की लड़ाई में NSUI और कांग्रेस का समर्थन देकर साथ लड़ाई लड़ने की बात कही है।

रीवा की रहने वाली युवती की बनी पोर्न वेब सीरीज, 32 सोशल साइड्स पर अपलोड

NSUI प्रदेश प्रवक्ता विवेक त्रिपाठी ने कहा कि हम और हमारा पूरा संगठन अतिथि विद्वानों की लड़ाई में अतिथि विद्वान संघ के साथ है और हम इस लड़ाई को अंजाम तक पहुंचाने का काम करेंगे।
अतिथि विद्वान संघ के प्रदेशाध्यक्ष से मुलाकात के बाद मीडिया को मुखातिब होते हुए NSUI के प्रदेश प्रवक्ता विवेक त्रिपाठी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधते हुए कहा कि जब शिवराज सिंह विपक्ष में थे तब अतिथि विद्वानों के प्रदर्शन में शामिल होकर घड़ियाली आंसू बहाते थे लेकिन सत्ता में आते ही उन्हें अतिथि विद्वानों की पीड़ा दिखाई नही दे रही ये दुर्भाग्यपूर्ण है इसका जवाब आने वाले उपचुनाव में प्रदेश की जनता जरूर देगी।
श्री त्रिपाठी ने कहा कि विपक्ष में रहते हुए शिवराज सिंह जी और उनके सहयोगियों को अतिथि विद्वानों की बडी चिंता थी वो उनके हर कार्यक्रम में कांग्रेस को घेरने से नही चूकते थे लेकिन सत्ता में आते ही ये तथाकथित टाइगर शांत क्यों हो गया?

सीधी: कोतवाली में हुआ कोरोना बिस्फोट, जिले में 29 नए पॉजीटिव

ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधते हुए श्री त्रिपाठी ने कहा कि कमलनाथ सरकार के दौरान तो सिंधिया जी को अतिथि विद्वानों की बड़ी चिंता थी और वो सड़कों पर उतरने की बात करते थे लेकिन भाजपा में शामिल होते ही कागज का ये टाइगर फुस्स साबित हुआ है। उन्हें सिर्फ अपनी कुर्सी दिख रही है।
श्री त्रिपाठी ने कहा कि जिस प्रकार का छलावा भारतीय जनता पार्टी ने अतिथि विद्वानों के साथ किया है उसका जवाब अतिथि विद्वान और मध्यप्रदेश की जनता जरूर देगी। अतिथि विद्वान संघ के प्रदेशाध्यक्ष देवराज सिंह ने NSUI के समर्थन पर कहा कि हम कांग्रेस के साथ है और हमे पूरी उम्मीद है कि कांग्रेस ही प्रदेश के अतिथि विद्वानों का भला कर सकती है।
मुलाकात के दौरान सभी ने कल जबलपुर के शासकीय विज्ञान महाविद्यालय के पर्यावरण विभाग में पदस्थ अतिथि विद्वान डॉ अनूप सेन के दुःखद निधन पर श्रद्धांजलि अर्पित की और श्री सेन के बलिदान को जाया न जाने देने की बात कही।

रीवा: मेडिकल कालेज में सहायक प्राध्यापक के निलंबन पर कुर्मी, कुशवाहा समाज संगठनों ने उठाए सवाल, कमिश्नर-कलेक्टर को घेरा

[signoff]
Next Story