मध्यप्रदेश

ललितपुर-सिंगरौली रेल लाइन में किसानों की अधिग्रहीत जमीन के बदले नौकरी देने के मामले हीला हवाली पर सांसद ने जताई नाराजगी

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:44 AM GMT
ललितपुर-सिंगरौली रेल लाइन में किसानों की अधिग्रहीत जमीन के बदले नौकरी देने के मामले हीला हवाली पर सांसद ने जताई नाराजगी
x
सतना : ललितपुर-सिंगरौली ( lalitpur -Singrauli ) रेल लाइन में अधिग्रहीत की गई किसानों की जमीन के बदले नौकरी देने की कार्यवाही में हीलाहवाली प

ललितपुर-सिंगरौली रेल लाइन में किसानों की अधिग्रहीत जमीन के बदले नौकरी देने के मामले हीला हवाली पर सांसद ने जताई नाराजगी

सतना : ललितपुर-सिंगरौली ( lalitpur -Singrauli ) रेल लाइन ( rail line ) में अधिग्रहीत की गई किसानों की जमीन के बदले नौकरी देने की कार्यवाही में हीलाहवाली पर सांसद गणेश सिंह ने नाराजगी व्यक्त की है। उन्होंने कहा है कि पश्चिम मध्य रेलवे जबलपुर के द्वारा नौकरी देने जो अड़चन खड़ी की जा रही है तथा उनके अधिकारी-कर्मचारी अनावश्यक वार्तालाप कर रहे हैं वह उचित नहीं है। सांसद ले बताया कि रेल मंत्री, महाप्रबंधक पश्चिम मध्य रेलवे को दूरभाष पर अवगत कराया गया है कि नियम प्रक्रिया के तहत सभी प्रभावित किसानों के परिवार को नौकरी देने देने के लिये एक विशेष सेल गठित किये जाने की मांग की गई।

यह भी पढ़े :रीवा को रेलवे ने दी एक और नए ट्रेन की सौगात, लम्बे समय से थी मांग…

ललितपुर-सिंगरौली रेल लाइन में किसानों की अधिग्रहीत जमीन के बदले नौकरी देने के मामले हीला हवाली पर सांसद ने जताई नाराजगी  ललितपुर-सिंगरौली ( lalitpur -Singrauli ) रेल लाइन ( rail line )
ललितपुर-सिंगरौली ( lalitpur -Singrauli ) रेल लाइन ( rail line )

उन्होंने कहा कि समय-सीमा में इसका निराकरण किया जाय। बच्चे लगातार कार्यालयों का चक्कर लगाकर परेशान हो रहे हैं। सांसद गणेश सिंह ने कहा कि सतना-रीवा रेलखंड के ग्राम सकरिया के किसान इसी मांग को लेकर हड़ताल पर बैठे हैं। जबकि उनके प्रकरण को रेल मंत्री एवं समस्त वरिष्ठ अधिकारियों को काफी समय पहले अवगत कराया जा चुका है। लेकिन अभी तक कोई जवाब नहीं आया जो चिंताजनक है। सांसद ने कहा कि मामले का निराकरण तत्काल करें अन्यथा लोकसभा में मुद्दों को उठाया जाएगा।

यहाँ क्लिक कर RewaRiyasat.Com Official Facebook Page Like

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Next Story