मध्यप्रदेश

एमपी के बिलाबांन्ग स्कूल के बस ड्राइवर ने साढ़े 3 साल की मासूम से दुष्कर्म किया, बच्ची बोली- अंकल प्राइवेट पार्ट में Bad Touch करते हैं

bhopal rape news
x
भोपाल के बिलाबांन्ग इंटरनेशनल स्कूल प्रबंधन ने जांच कर ड्राइवर को क्लीन चिट दे दी, मां की शिकायत के बाद ड्राइवर गिरफ्तार, पॉक्सो एक्ट में मामला दर्ज.

एमपी की राजधानी भोपाल में नर्सरी में पढ़ने वाली साढ़े तीन साल की बच्ची से दुष्कर्म का मामला सामने आया है. पीड़िता की मां का आरोप है कि नीलबड़ स्थित बिलाबॉन्ग हाई इंटरनेशनल स्कूल (Billabong High International School Bhopal Neelbad MP) की नर्सरी में पढ़ने वाली इस बेटी से स्कूल बस के ड्राइवर ने बस में ही दुष्कर्म किया. बच्ची घर लौटी तो उसके कपड़े बदले हुए थे. ये देख मां हैरान हुई. बाद में उन्हें बच्ची के प्राइवेट पार्ट्स पर खरोंच के निशान भी नजर आए. शक हुआ तो उन्होंने बच्ची से पूछा कि आपको कोई बैड टच करता है तो बच्ची ने बताया कि बस अंकल बुरे हैं, वो बैड टच (Bad Touch) करते हैं.

परिजनों ने स्कूल से संपर्क किया और बाद में पुलिस कमिश्नर से शिकायत की. महिला थाना पुलिस ने आरोपी ड्राइवर को गिरफ्तार किया है. दुष्कर्म और पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है. ड्राइवर की उम्र 32 साल है, उसके 7 और ढाई साल के 2 बेटे है. आया से भी पूछताछ चल रही है.

क्या लिखा है शिकायत पत्र में, आपको पढ़ना जरूरी है

"महोदय निवेदन है कि मैं बावड़ियाकलां भोपाल में निवास करती हूं. मेरी बेटी उम्र 3 साल 6 माह जो कि बिलाबॉन्ग स्कूल नीलबड़ भोपाल में नर्सरी में पढ़ती है. मेरी बेटी स्कूल की बस से आना-जाना करती है. बस पीले रंग की है जिस पर स्कूल का कोड नंबर 54 लिखा है. जिस बस से मेरी बेटी आना-जाना करती है जो बस चालक उस बस में आता है उसे मेरी बेटी अंकल कहकर बुलाती है और उसे पहचान लेगी. दिनांक 8 सितंबर 2022 को मेरी बेटी स्कूल बस से

स्कूल से 1:30 बजे घर आई और मेरे पिता मेरी बेटी को घर लेकर आए तो मेरी बेटी की ड्रेस बदली हुई थी. जब की बच्ची की टीशर्ट गंदी व गीली नहीं थी. फिर मैंने अपनी बेटी से पूछा कि आपकी ड्रेस किसने बदली तो बताया कि बस के अंकल ने बदली तो फिर मैंने बेटी के बैग को चेक किया तो बेटी की टीशर्ट पर ना तो उल्टी थी और ना ही वह गीली थी. फिर मैंने बेटी की क्लास टीचर पूजा चौहान को उसके मोबाइल नंबर पर फोन लगाया और पूछा कि मेरी बेटी की ड्रेस चेंज हुई है क्या बेटी की ड्रेस स्कूल में बदली गई है तो मैडम ने बताया कि आपकी बेटी स्कूल से ड्रेस में ही गई है. फिर मैंने यह बात अपने पति को बताई थी, फिर मेरे पति ने स्कूल के प्रशासन से बात किया. उन्होंने भी ड्रेस बदले वाली सही बात नहीं बता पाए. फिर मैंने और मेरे पति ने रात को 08 बजे के लगभग मेरी बेटी वॉशरूम गई तो हम दोनों ने बच्ची से पूछा कि आपको स्कूल या बस में कोई बेड टच करता है तो बेटी ने बताया कि बस अंकल बेड हैं, वह मुझे परेशान करते हैं और बैड टच करते हैं.

तो मेरे पति और मैंने बेटी से पूछा कि कहां टच करते हैं तो बेटी ने बताया कि मेरे लिप्स को चाटते हैं. मेरे सामने प्राइवेट पार्ट को फिंगरिंग करते हैं एवं चेस्ट को हाथ से टच करते हैं तथा मेरे चेहरे पर भी हाथ फेरते हैं. फिर 9 सितंबर 2022 में तथा मेरे पति बेटी के स्कूल में नीलबढ़ गए और स्कूल के प्रिंसिपल से बात किया और उन्हें यह घटना बताई तो उन्होंने दो मैडम को बुलाया तथा बस में जो दीदी जाती थी उन सभी को हमारे सामने बुलाया तथा उनसे पूछताछ किया एवं सीसीटीवी कैमरे के संबंध में पूछा तो उन्होंने बताया कि सीसीटीवी फुटेज हम तीन-चार दिन में डिलीट कर देते फिर मैंने उन तीनों में मेडमों से पूछा कि आप किस हालात में ड्रेस बदलते हो तो मैडम ने बताया कि अगर बच्चा उल्टी कर देता या पेशाब कर देता है या पॉटी करता है तो ड्रेस रहती है उसे बदल देते हैं तो मैंने तथा मेरे पति ने कहा कि यह तीनों हालात नहीं थे तो ड्रेस कैसे बदल दी

फिर मैंने और मेरे पति ने प्रिंसिपल से कहा की अगर ड्रेस बदली है तो मुझे तथा मेरे पति को क्यों नहीं बताया गया मैंने तथा मेरे पति ने प्रिंसिपल से कहा कि 2 हफ्ते पहले भी मेरी बेटी ने मुझे प्राइवेट पार्ट पर हाथ रख कर बताया था कि मुझे दर्द हो रहा है तो मैंने उस समय ध्यान नहीं दिया था लेकिन 8 सितंबर 2022 की घटना जब बेटी ने बताई की बस अंकल द्वारा मेरे लिप्स को चाटकर एवं उसके सामने प्राइवेट पार्ट के फिंगर करना तथा चेस्ट को हाथ से बुरी नियत से टच किया गया है अतः बिलाबॉन्ग स्कूल नीलबढ़ भोपाल के बस चालक के विरूद्ध कानूनी कार्रवाई करने की कृपा करें." (जैसा पीड़िता की मां ने पुलिस एफआईआर में दर्ज कराया.)

पानी पीने में गीले हुए थे कपड़े, आया दीदी ने बदले थे

पुलिस वेरिफिकेशन के बाद ही हम स्कूल में ड्राइवर को रखते है. बस में पानी पीने के दौरान कपड़े गीले होने पर आया दीदी ने बच्ची के कपड़े बदले थे, ड्राइवर ने नहीं. पुलिस की जांच में हम पूरा सहयोग कर रहे हैं. पुलिस जो जानकारी मांग रही है वह उपलब्ध कराई जा रही है. आगे भी सहयोग करेंगे. - आशीष अग्रवाल, प्रिंसिपल बिलाबांन्ग इंटरनेशनल स्कूल, नीलबड़

Next Story