दो गुटों के संघर्ष में एक मृत, कई लोग घायल : SATNA NEWS

सतना: बड़ी मशक्कत के बाद परिजनों को दाह संस्कार के लिए तैयार किया गया, स्थानीय विधायक की पहल से संभव हुआ

मध्यप्रदेश सतना

सतना: बड़ी मशक्कत के बाद परिजनों को दाह संस्कार के लिए तैयार किया गया, स्थानीय विधायक की पहल से संभव हुआ

सतना।। क्षेत्रीय विधायक सिद्धार्थ कुशवाहा की कड़ी मशक्कत के बाद सिंहपुर में चली गोली से मरने वाले मृतक का परिजनों ने दाह संस्कार कर दिया है। विधायक की पहल पर उनके आवास पर हुई बैठक में कलेक्टर व एसपी ने पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपये का चेक व एक लाख रुपये नकद सौंपा। साथ ही यह भरोसा दिलाया कि आरोपी को जल्द से जल्द गिरफ्तार कर उसके विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। कलेक्टर ने बताया कि पूरे मामले की मजिस्ट्रेटी जांच शुरू करा दी गई है।

मध्यप्रदेश में आदर्श आचार संहिता लागू , 3 नवम्बर को होंगे विधानसभा उपचुनाव, 10 को आएंगे नतीजे, पढ़िए

ज्ञात हो कि थाने में हुई मौत को लेकर परिजनों और ग्रामीणों में भारी आक्रोश है। परिवारजन राजपति कुशवाहा का शव तक लेने को राजी नहीं हो रहे थे। उधर जैसे-जैसे समय व्यतीत हो रहा था, शव खराब होने लगा था, उससे दुर्गंध आने लगी थी। इस पर गांव वालों और परिवार के लोगों का यहां तक कहना था कि अंतिम क्रिया भी पुलिस वाले ही कर दें।

इस बीच एसपी सतना धर्मवीर सिंह अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के साथ मृतक के गांव पहुंचे। उन्होंने हालात का न केवल जायजा लिया बल्कि एक बार पुनः सतना कंट्रोल रूम पहुंचकर परिवार को मनाने पर विचार विमर्श किया। हालांकि पुलिस राजपति की मौत को हत्या नहीं बल्कि आत्महत्या करार दे रही है। ऐसे में राजपति के परिजनों की शिकायत के आधार पर अब तक एफआईआर भी दर्ज नहीं की गई बल्कि हेड कांस्टेबल की शिकायत पर सिंहपुर थाने में जो एफआईआर दर्ज की गई है उसके अनुसार मृतक राजपति कुशवाहा ने थानेदार की सर्विस रिवाल्वर छीन कर खुद को गोली मार ली थी।

प्रदेश में 1 लाख से अधिक लोगो ने जीती कोरोना से जंग

उधर पुलिस व प्रशासनिक अमले ने सतना विधायक सिद्धार्थ कुशवाहा की मांग को खारिज कर दिया है। अफसरों का कहना है कि पूरे मामले की न्यायिक जांच हो रही है ऐसे में परिजनों एवं सतना विधायक सिद्धार्थ कुशवाहा की मांग पूरी नहीं की जा सकती।

बता दें कि परिवार के लोग ही नही बल्कि ग्रामीणों का आरोप है कि थाना प्रभारी ने ही नशे की हालत में राजपति पर गोली चलाई थी जिससे उसकी मौत हो गई। ऐसे में वो उनके विरुद्ध 302 का मामला पंजीबद्ध करने और सिंहपुर थाना प्रभारी रहे उपनिरीक्षक विक्रांत पाठक की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। विधायक ने भी परिजनों और ग्रामीणों की मांग का समर्थन किया था। लेकिन प्रशासन का कहना है कि जांच प्रक्रिया पूरी होने तक यह संभव नहीं हैं।

सनद रहे स्थानीय विधायक की पहल से मृतक के परिवारजनों ने दाह संस्कार करने को राजी हुए हैं।इसके लिए विधायक सिद्धार्थ कुशवाहा को कड़ी मसक्कत करनी पड़ी है।अब यह मामला राजनीतिक रूप ले चुका.

MP: टीवी एंकर ने DG की पत्नी पर दर्ज कराई शिकायत, कहा मेरी नौकरी दांव पर है…

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

FacebookTwitterWhatsAppTelegramGoogle NewsInstagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *