लखनऊ

Most Wanted Vikas Dubey / चौबेपुर के पूर्व SO विनय तिवारी और बीट प्रभारी केके शर्मा गिरफ्तार

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:25 AM GMT
Most Wanted Vikas Dubey / चौबेपुर के पूर्व SO विनय तिवारी और बीट प्रभारी केके शर्मा गिरफ्तार
x
कानपुर. चौबेपुर के पूर्व एसओ विनय तिवारी (Vinay Tiwari) और बीट प्रभारी केके शर्मा (KK Sharma) को गिरफ्तार (Arrest) कर लिया गया है. मुठभेड़ के

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) में विकरु गांव शूटआउट (Shootout) मामले में निलंबित (Suspended) किए गए चौबेपुर के पूर्व एसओ विनय तिवारी (Vinay Tiwari) और बीट प्रभारी केके शर्मा (KK Sharma) को गिरफ्तार (Arrest) कर लिया गया है. मुठभेड़ के समय पुलिस टीम की जान खतरे में डालने और मौके से फरार होने के साथ ही अपराधी विकास दुबे (Vikas Dubey) से संबंध में इन्हें गिरफ्तार किया गया है. आईजी मोहित अग्रवाल (IG Mohit Agarwal) और एसएसपी दिनेश कुमार पी (SSP Dinesh Kumar P) इनकी गिरफ्तारी की पुष्टि की है.

पूर्व SO विनय तिवारी की भूमिका मिली संदिग्ध

दरअसल अब तक की जांच में एसओ विनय तिवारी की भूमिका संदिग्ध मिली है. साथ ही यह बात भी साफ हो रही है कि उन्होंने 2/3 जुलाई की रात विकास दुबे के घर पर दबिश देने जा रही पुलिस टीम (Police Team) की इनफार्मेशन लीक की थी. पुलिस की ही मुखबिरी के बाद विकास दुबे ने अपने हथियारबंद गुर्गों के साथ मिलकर आठ पुलिसवालों को मौत के घाट उतार दिया था.

विकास दुबे गैंग के शार्प शूटर का एनकाउंटर हुआ, दिल्ली में सरेंडर करने की फिराक में मोस्ट वांटेड

पूरा थाना किया गया लाइन हाजिर

बता दें इस मामले में एसओ विनय तिवारी, दरोगा कुंवर पाल, केके शर्मा और सिपाही राजीव चौधरी पहले ही निलंबित किए जा चुके हैं. इतना ही नहीं एसएसपी ने पूरे थाने के बाकी 68 स्टाफ को भी लाइन हाजिर कर दिया है. सभी के खिलाफ जांच जारी है. अब चौबेपुर थाने में 55 नए पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है.

शहीद सीओ देवेंद्र मिश्रा ने की थी विनय तिवारी की शिकायत

गौरतलब है कि कानपुर हत्याकांड में शहीद हुए सीओ विल्ल्हौर देवेंद्र मिश्रा ने 14 अप्रैल को ही तत्कालीन एसएसपी अनंत देव त्रिपाठी को विभागीय चिट्ठी लिखकर एसओ विनय तिवारी और अपराधी विकास दुबे के सांठगाँठ की जानकारी दी थी. साथ ही किसी गंभीर गह्तना की आशंका जताई थी.

हालांकि तत्कालीन एसएसपी ने इस शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की. जिसके बाद मंगलवार को शासन ने उन्हें डीआईजी एसटीएफ के पद से हटाते हुए मुरादाबाद पीएसी भेज दिया. अब उनके खिलाफ भी जांच जारी है.

Elyments App / भारत में लांच हुआ सोशल मीडिया सुपर ऐप एलिमेंट्स, जानिए कैसे करता है काम

STF की जांच में हुआ मुखबिरी में खुलासा

इस हत्याकांड में अब तक की जांच में इस बात का खुलासा हो चुका है कि पुलिस विभाग ने ही मुखबिरी की. एसटीएफ के हाथ लगे ऑडियो से पता चला है कि चौबेपुर थाने में तैनात दरोगा केके शर्मा ने विकास दुबे से वारदात की रात से पहले शाम साढ़े पांच बजे विकास दुबे से बात की थी. उसके बाद दबिश से ठीक पहले रात 12.11 बजे सिपाही राजीव चौधरी ने विकास दुबे को दबिश और पुलिस फोर्स की संख्या बतायी. जिस पर विकास दुबे ने कहा कि आज वह पोलकी से निपट लेगा.

वायरल न्यूज़ के लिए : Ajeeblog.com विजिट करिये ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:
Next Story
Share it