लाइफस्टाइल

आपके स्मार्टफोन्स के ऐप्स आपकी बातचीत सुन सकते हैं? जानें क्या है सच्चाई

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 5:57 AM GMT
आपके स्मार्टफोन्स के ऐप्स आपकी बातचीत सुन सकते हैं? जानें क्या है सच्चाई
x
Get Latest Hindi News, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar, Today News in Hindi, Breaking News, Hindi News - Rewa Riyasat

क्या आपके स्मार्टफोन्स के ऐप्स आपकी बातचीत सुनते हैं? ये थ्योरी आपको परेशान जरूर करती होगी. इसे समस्या को जानने के लिए एक अमेरिकी यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर ने शोध किया है. हमने उनका इंटरव्यू किया है आप भी पढ़ें. अगर आपने हॉलीवुड की पॉपुलर फिल्म द डार्क नाइट देखी है तो याद होगा कि कैसे ब्रूस वेन अपने पावरफुल सिस्टम सेटअप से पूरे गौथम शहर के सभी सेल्यूलर डिवाइस को माइक्रोफोन में तब्दील कर देते हैं. ऐसी ही कॉन्स्पिरेसी थ्योरी हमेशा चलती है कि स्मार्टफोन्स में इंस्टॉल किए गए ऐप्स आपके स्मार्टफोन को माइक्रोफोन में तब्दील करके आपकी बातें सुन रहे हैं. ऐसा करके कंपनियां टार्गेटेड विज्ञापन भी देती हैं.

अमेरिका की नॉर्थइस्टर्न यूनिवर्सिटी के रिसर्च डेव कॉफनेस ने इस टॉपिक पर लगभग एक साल तक शोध किया है. उन्होंने कॉन्सपिरेसी थ्योरी पर शोध किया है कि स्मार्टफोन्स चुपके से माइक्रोफोन ऑन करके बातचीत रिकॉर्ड करते हैं और ज्यादा टार्गेटेड विज्ञापन देते हैं. डेव नॉर्थइस्टर्न यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर एंड इनफॉर्मेशन साइंस के प्रोफेसर भी हैं.

डेव ने यह शोध एक साल में इसे पूरा किया है और इस दौरान उन्होंने एंड्रॉयड के 17 हजार पॉपुलर ऐप्स की जांच की है. इस शोध से यह बात सामने आई है कि कंपनियों को आपकी बातचीत सुनने के लिए स्मार्टफोन को माइक्रोफोन में तब्दील करने की जरूरत ही नहीं है. क्योंकि ऐसा न करके भी वो टार्गेटेड विज्ञापन देने में सक्षम हैं.

हमने इन डेव कॉफनेस का इंटरव्यू किया है और जानने की कोशिश की है कि आखिर स्मार्टफोन को माइक्रोफोन में बदल कर आवाज रिकॉर्ड करने वाली थ्योरी के पीछे का लॉजिक क्या है.

Q: क्या हम इस थ्योरी को नकार सकते हैं कि कंपनियां सेलफोन के जरिए आपकी बातचीत रिकॉर्ड नहीं कर रही हैं?

डेव: पूरी तरह से तो नहीं, लेकिन हमने एंड्रॉयड के हजारों पॉपुलर ऐप्स को जांचा है जिसमें ऐसी कोई बात सामने निकल कर नहीं आई है. हम इस संभावना को भी नकार नहीं सकते हैं कि दूसरे ऐप्स आपकी बातचीत रिकॉर्ड कर रहे हैं. ये भी संभव है कि हमने जिन ऐप्स की टेस्टिंग की वो पहले ऐसा करते हों. लेकिन इस शोध के आधार पर हम उम्मीद करते हैं कि ऐप्स द्वारा आपकी बातचीत रिकॉर्ड करना आम बात नहीं है.

Q: आपने 17 हजार ऐप्स की टेस्टिंग की है. आपकी जांच के आधार पर कौन सी ऐसी बाते हैं जिनसे प्राइवेसी चाहने वाले लोगों के लिए परेशान करने वाली बात है.

डेव: अलग लोग अलग-अलग तरीके की प्राइवेसी समस्या से डरते हैं. मैंने यह पाया है कि बातचीत रिकॉर्ड करने या कैमरा का ऐक्सेस लेकर वीडियो या इमेज रिकॉर्ड करने से ज्यादा खतरनाक स्क्रीन रिकॉर्डिंग है. क्योंकि स्क्रीन रिकॉर्डिंग से आपके बारे में ज्यादा जानकारी मिलती है कि आप कैसे बिहेव करते हैं. स्क्रीन रिकॉर्डिंग के लिए ना तो किसी परमिशन की जरूरत होती है और न ही यूजर को इसका नोटिफिकेशन मिलता है.

Q: इस तरह की मॉनिटरिंग से बचने के लिए क्या करना चाहिए? कैसे सिक्योर रहा जा सकता है?

डेव: शॉर्ट में कहें तो इस समस्या का समाधान के लिए कोई सिल्वर बुलेट नहीं है. पहली चीज जो यूजर कर सकता है वो ये है कि जो ऐप्स स्मार्टफोन मे इंस्टॉल किए हुए हैं उसका रिव्यू करें और देखें कि वो क्या परमिशन ले रहा है. अगर जरूरत के नहीं हैं तो इन्हें हटा दें. कोई ऐप जरूरत से ज्यादा परमिशन मांग रहा है तो उससे परमिशन वापस लें.

हालांकि स्क्रीन रिकॉर्डिंग लीक को रोकना मुश्किल है, क्योंकि इसके लिए ऐप्स को किसी परमिशन की जरूरत नहीं होती है. हमारी टीम एक सॉफ्टवेयर तैयार कर रही है जो इस तरह की ऐक्टिविटी को डिटेक्ट करेगा. फिलहाल ये सभी के लिए उपलब्ध नहीं है, लेकिन बाद में हम इसका दायरा बढ़ाएंगे.

Q: आपके शोध के मुताबिक कौन सा ऐप प्लेटफॉर्म इस तरह की रिकॉर्डिंग और ट्रैकिंग के मामले में ज्यादा सिक्योर है. प्ले स्टोर या ऐप स्टोर?

डेव: इस सवाल के जवाब के लिए हमारे पास डेटा नहीं है. हालांकि इससे पहले की स्टडी में हमने पाया था कि सभी प्लेटफॉर्म पर एक तरह के लीक होते हैं. एक अंतर ये था कि Android ऐप्स के मुकाबले iOS ऐप्स ज्यादा लोकेशन लीक करते हैं. हालांकि यह डेटा तीन साल पहले का है, इसलिए हम अभी के रिजल्ट के बारे में कुछ नहीं कह सकते हैं.

Next Story
Share it