कटनी

विंध्य: कंबल में बांधकर GIRLFRIEND ने तीन फिट के गड्ढे में दफना दिया था BOYFRIEND का शव

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:13 AM GMT
विंध्य: कंबल में बांधकर GIRLFRIEND ने तीन फिट के गड्ढे में दफना दिया था BOYFRIEND का शव
x
Get Latest Hindi News, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar, Today News in Hindi, Breaking News, Hindi News - Rewa Riyasat

सीधी। जिला मुख्यालय से 80 किलोमीटर दूर कुशमी थाना अंतर्गत पुलिस चौकी पोड़ी के ग्राम पंचायत कमछ करौंटी मे प्रमिका के द्वारा घर के अंदर दफनाए गए प्रेमी का शव सुरक्षा ब्यवस्था के बीच मंगलवार को निकाल लिया गया। शव को कब्र से बाहर निकालने के लिए पुलिस व राजस्व प्रशासन को करीब पांच घंटे तक मसक्कत करनी पड़ी, तब शव को निकालने मे पुलिस सफल हो पाई। शव को पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल कालेज रीवा भेजा गया है, पीएम रिपोर्ट सामने आने के बाद स्पष्ट हो पाएगा यह घटना आत्महत्या थी या फिर हत्या।

मामले में युवक की प्रेमिका रंजना सिंह (परिवर्तित नाम) पिता सूरजभान सिंह गोंड 25 वर्ष निवासी ग्राम पंचायत कमछ करौंटी ने बताया कि मेरी और मृतक मोहम्मद खान पिता रब्बान मोहम्मद खान उम्र 26 वर्ष निवासी हाकिम मिरगौती थाना रामनगर जिला सतना की पहचान अनचाही कॉल के दौरान हुई थी और फिर मोबाइल के माध्यम से एक दूजे से प्यार हो गइा था। इस बीच मृतक मुझे दो बार हैदराबाद ले गया था और वापस आने पर वह मेरे ही घर में रहता था। यह प्रेम कहानी फरवरी 2017 से अनवरत चल रही थी। इसी बीच 6 दिसंबर को हम दोनों के बीच रात्रि विवाद हुआ तथा 7 दिसंबर को मृतक दोपहर तकरीबन 2 बजे मेरी मां मवेशी चराने जंगल चली गई थी और मैं लकड़ी लेने गई थी। उसी दौरान प्रेमी फांसी लगा लिया। जब मैं जंगल से वापस आई तो प्रेमी के गले में फंदा लगा हुआ था और जमीन में दीवाल के सहारे टिका हुआ था। देखने पर पता चला कि प्रेमी की मौत हो गई है। बताया कि हंसिया से फांसी काटकर घर के अंदर एक छोटे से कमरे मे रात 11 बजे से गड्ढा खोदना शुरू किया तथा रात्रि तकरीबन 3 बजे उसी गड्ढे मे दफना दिया और मिट्टी से पाटकर ऊपर से कोदौ का पुआल डाल दिया।

आधार कार्ड में बदलवाया नाम मृतक द्वारा आधार कार्ड में अपना नाम बदलकर राजू सिंह पिता विनय सिंह सोंटिया के नाम से फर्जी आधार कार्ड बनवाया था। जबकि आधार कार्ड में मृतक का पता सही अंकित किया गया था। मृतक युवती से अपने आप को अनाथ होना बताया था।

सपने में सताया तो पहुंची मृतक के घर युवती ने बताया कि मृत्यु के बाद से मृतक की आत्मा मुझे सताने लगी और सपने में मृतक आकर रोज यही कहता था कि मैं फांसी लगाकर मर गया और तुम मेरा क्रियाकर्म मुस्लिम रीति रिवाज से नहीं किए हो और न ही मेरे घर वालों को ही सूचना दी हो। तुम मेरे गांव जाकर मेरे घर वालों को सूचना दे दो, नहीं तो मैं तुम्हें हमेशा परेशान करता रहूंगा। जिससे मैं परेशान होकर बीते 15 फरवरी को प्रेमी के पिता के नाम और गांव का पता करते हुए मृतक के घर पहुंची और बताया कि आपका लड़का फांसी लगाकर मर गया है। जिसे मैं गड्ढा खोदकर अपने ही घर में दफना दी हूं। चलकर अपने लड़के की लाश ले आओ। जिसकी सूचना थाना रामनगर जिला सतना को दी गई और लड़की को वापस उसके घर करौंटी भेज दिया गया।

एक दिन पहले रात में हुआ था झगड़ा मृतक की प्रेमिका ने बताया कि 6 दिसंबर को रात मेरे पैर में दर्द हो रहा था। जिसके कारण मैं पैर में सेंक कर रही थी तो मृतक बोला की सो जाओ रात हो गई है। जिस पर मैंने कहा कि मेरे पैर में दर्द हो रहा है मैं सेंक कर रही हूं, तुम सो जाओ मैं बाद में सो जाऊंगी। जिससे मृतक भड़क गया और आग जलाने वाली गोरसी को उठाकर पटक दिया और मेरा गला दबाने लगा तो मैं चिल्लाने लगी, तब डंडा लेकर मुझे मारने लगा। मुझे मारने के बाद मेरी मां को आवाज देकर बोलने लगा की मैं मर जाऊंगा और घर से भागने लगा तब मेरी मां समझा बुझाकर शांत कराई और घर वापस ले आई, सभी लोग घर में सो गए। सुबह 7 फरवरी को मां ने खाना बनाकर हम दोनों को खिलाया और मवेशियों को चराने जंगल चली गई और मैं लकड़ी लेने चली गई। उसी दौरान मृतक पटावदार घर में फांसी पर झूल गया।

मृत्यु उपरांत दफनाने की देता था सलाह युवती ने बताया कि मृतक जीवित अवस्था में मृत्यु उपरांत शव को न जलाने तथा जमीन में दफनाने की सलाह दिया करता था। बताया कि मृतक कहा करता था कि जब मैं मर जाऊं तो तुम मेरे शव को जलाना मत मैं मुस्लिम हूं, मेरे समुदाय में शव को जलाया नहीं मिट्टी में दफनाया जाता है। इसलिए एक छोटी सी कोठरी में गड्ढा खोदकर दफन कर दिया था।

समुदाय की जानकारी से शुरू हुआ विवाद युवती ने बताया कि मृतक ने पहले अपने समुदाय का नाम छुपाते हुए आदिवासी बताया था। लेकिन कुछ दिनों बाद मुझे पता चल गया कि यह मुस्लिम समुदाय का है। जिसके बाद मैंने कई बार मना किया था कि तुम अब मेरे घर मत आना मुझसे जो गलती हुई तो हुई लेकिन अब और नहीं होगी तुम अपने जाति में शादी कर लेना और मैं अपनी जाति में शादी कर लूंगी। किंतु मना करने के बावजूद मृतक मेरे घर में आता रहा है और घर के काम खेती-बाड़ी आदि में मेरी मां का सहयोग करता था।

दो बार युवती कर चुकी है हैदराबाद की सैर युवती ने बताया कि मृतक हैदराबाद में ट्रक चलाया करता था। इन तीन वर्षों के दौरान मुझे दो बार हैदराबाद ले गया था और जगह बदलकर 15 दिन तक रखता था फिर वापस गांव में लाकर छोड़ देता था, खुद 15 दिन गांव में रुककर फिर हैदराबाद चला जाता था। तीन माह बाद फिर वापस आ जाता था। इस बीच किसी से भी गोंड जाति के न होने बात बताने का जिक्र किया करता था।

कटनी में हुई पहली मुलाकात युवती ने बताया कि पहले फोन के माध्यम से चार माह तक बात हुई फिर मृतक द्वारा मुझे कटनी बुलाया जाने लगा। जिस पर मैंने कहा कि मेरे घर में मेरी बूढ़ी नानी और मां के अलावा कोई नहीं है, इसलिए मैं नहीं आ पांऊगी। लेकिन मृतक द्वारा लगातार कटनी आने का दबाव बनाया जाने लगा और एक दिन ट्रेन से मैं कटनी पहुंच गई और वहीं मुलाकात हुई तथा वहीं से लेकर हैदराबाद चला गया, 15 दिन रहने के बाद दोनों लोग वापस आ गए।

मां बेटी ने निकाला शव प्रशासनिक अधिकारियों सहित परिजनों व सैकड़ों ग्रामीणों की उपस्थिति में बेटी गड्ढे की मिट्टी निकालकर तगाड़ी में मां को पकड़ाती गई और मां मिट्टी फेंकती गई, मिट्टी निकलने के बाद मृतक के परिजनों ने चादर में लिपटे हुए शव को बाहर निकाला, मृतक के शरीर में भी कपड़े थे। अत: शव ज्यादा सड़ा हुआ नहीं था। किंतु इतना सही भी नहीं है कि बिना पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मौत का कारण स्पष्ट हो सके। शव के साथ ही मृतक के अन्य कपड़े भी दफन कर दिए गए थे। उपस्थित जनसमुदाय ने मां बेटी के हिम्मत की तारीफ की शव निकालते समय दोनों के चेहरों पर सिकन तक नजर नहीं आई।

परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप मृतक के परिजनों द्वारा जहां हत्या का आरोप लगाया जा रहा है वहीं युवती और उसकी मां अभी भी अपने बयान पर कायम है। इनका कहना है कि युवक ने फांसी लगाकर जान दी है और युवती ने अकेले ही गड्ढा खोदकर, शव को घसीटकर दफना दिया है। इसमें किसी ने युवती का सहयोग नहीं किया है। फिलहाल एसडीओपी कुशमी अभिनव कुमार बांद्रे के मार्ग दर्शन पर पोड़ी चौकी प्रभारी आकांक्षा पांडेय के द्वारा मां बेटी से पूंछताछ की जा रही है। साथ ही हर पहलू पर कड़ी नजर रखी जा रही है। मृतक का टूटा हुआ मोबाइल फोन तथा सिम कार्ड भी युवती के घर से बरामद किया गया है।

पीएम रिपोर्ट आने के बाद मौत के कारणों का हो पाएगा खुलासा- नायब तहसीलदार कुशमी, फोरेन्सिक टीम व परिजनों तथा ग्रामीणों की उपस्थिति में शव को निकाला गया है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत का कारण स्पष्ट हो पाएगा। बीएन योगी नगर निरीक्षक, कुशमी

Next Story
Share it