कटनी

कोरोना वायरस को लेकर अब तक 6 लोग आ चुके हैं विदेश से कटनी, मध्यप्रदेश प्रशासन अलर्ट

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:14 AM GMT
कोरोना वायरस को लेकर अब तक 6 लोग आ चुके हैं विदेश से कटनी, मध्यप्रदेश प्रशासन अलर्ट
x
Get Latest Hindi News, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar, Today News in Hindi, Breaking News, Hindi News - Rewa Riyasat

कटनी. कोरोना वायरस को लेकर जिला प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है। शुक्रवार को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को विदेश घूमने गए दंपति के शहर लौटने की सूचना मिली। बिना देर किए ही डॉक्टरों का एक दल दंपति के घर पहुंचा और उनकी जांच की। जिसमें किसी भी प्रकार का इंफेक्शन नहीं मिला। बतादें कि जिले में पिछले दो दिन के भीतर लगभग 6 लोग विदेश से कटनी आए हैं। सभी की जांच की गई, लेकिन किसी भी व्यक्ति में कोरोना वायरस को लेकर जो लक्षण बताए जा रहे हैं वे नहीं मिले। जिसके बाद डॉक्टरों ने राहत की सांस ली। दूसरी ओर कोरोना वायरस को लेकर लोग भयभीत न हो, इसके लिए कलेक्टर ने सीएमएचओ सभागार में पत्रकार वार्ता की।

कलेक्टर शशि भूषण सिहं ने कहा कि कोरोना वायरस से डरने की जरूरत नहीं है। स्वच्छता के साथ बचाव में सावधानी बरतें। शुक्रवार को हुइ्र्र पत्रकार वार्ता के दौरान डॉ. एसके निगम सहित अन्य डॉक्टर मौजूद रहे। जिला अस्पताल में की गई है अलग व्यवस्थाकोरोना वायरस को लेकर जिला अस्पताल प्रबंधन भी अलर्ट हो गया है। बचाव और उपचार के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। जिला अस्पताल कटनी में दो आइसोलेशन वार्ड में 4 बेड विशेष रूप से आरक्षित किए गए हैं। जिसमें वेंटीलेटर की व्यवस्था है। प्रोटोकॉल के तहत संक्रमित मरीजों को क्वारन्टाइन स्थल के रूप में उप स्वास्थ्य केन्द्र जुहला में 2 बेड का आइसोलेशन कक्ष बनाया गया है। कोरोना वायरस की जांच सुविधा भोपाल के अलावा जबलपुर में भी उपलब्ध है। जांच सैम्पल लेने के लिए आवश्यक किट और उपकरण भी जिला अस्पताल कटनी में उपलब्ध है। जिला अस्पताल में कोरोना वायरस से उपचार के लिए डॉ. समीर सिंघई को नोडल अधिकारी बनाया गया है। डॉ. एसपी सोनी को भी प्रकोष्ठ में शामिल किया गया है। बचाव के लिए ऐसे बरते सावधानी -खांसते, छींकते समय मुंह पर रुमाल या कोहनी को मोड़कर रखें। -टिश्यू पेपर का इस्तेमाल करें और उसे तुरंत डस्टबिन में डाल दें। -संक्रमित वस्तु के संपर्क में आते है तो अपने हाथों को पानी और साबुन से अच्छी तरह धोएं। -आंख, नाक और कान को छूने से बचे। -बीमार महसूस होने पर डॉक्टर को दिखाएं। -किसी से हाथ न मिलाए। हाथ मिलाने की जगह उस व्यक्ति से नमस्ते करें। -खुले और असुरक्षित खाद्य पदार्थ का सेवन न करें। -बीमार व्यक्ति के संपर्क में आने से बचे। तौलिया, भोजन, कप व दूसरे बर्तन किसी और को उपयोग न करने दें।

Next Story
Share it