कटनी

कटनी जिले में पौने दो एकड़ में लहलहाती मिली अफीम की फसल : KATNI NEWS

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:13 AM GMT
कटनी जिले में पौने दो एकड़ में लहलहाती मिली अफीम की फसल : KATNI NEWS
x
Get Latest Hindi News, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar, Today News in Hindi, Breaking News, Hindi News - Rewa Riyasat

कटनी जिले को बदनाम करने में आबकारी विभाग की भूमिका सवालों के घेरे में हैं। विगत दो साल पहले भी शराब के कारोबार और टेंडर को लेकर कटनी जिले बदनामी में सुर्खियों में रहा वहीं सलैया प्यासी के छपरा हार में पौने दो एकड में अफीम की फसल लहलहाती रही और आबकारी मोहकमा सोता रहा। फसल की बोनी और रोपे के दौरान ही नशा कारोबारियों की गर्दन तक जिमेदारों के हाथ नहीं पहुंचे। गौरतलब हैं कि स्लीमनाबाद थाना अंतर्गत ग्राम सलैया प्यासी के छपरा हार में लगभग पौने दो एकड़ रकबे में लहलहाती मिली अफीम की खेती ने पुलिस के साथ ही आबकारी विभाग को भी कटघरे में खड़ा कर दिया है। खासकर जिला आबकारी अधिकारी सहित इस क्षेत्र के पर्यवेक्षण का कार्य देखने वाले आबकारी अधिकारी की लापरवाही मामले में खुलकर सामने आ रही है। अभी इस मामले में पुलिस, प्रशासन व आबकारी विभाग यह तक पता नहीं लगा सका है कि अफीम की खेती सही में जमीन का मालिक ही कर रहा था या उससे ठेके पर जमीन लेकर कोई और अफीम की खेती कर रहा था। जांच का विषय तो यह हैं कि अफीम की खेती किसकी प्रेरणा से हो रही थी और किसका संरक्षण था। जमीन मालिक फरार, पुलिस टीम को सरगर्मी से तलाश विभाग के अधिकारियों को मौके से फरार जमीन मालिक सुरेश चौधरी की तलाश है। जिसके बाद ही यह स्पष्ट होगा कि अफीम की खेती कौन व किसकी सरपरस्ती में कर रहा था। गौरतलब है कि मंगलवार की दोपहर बहोरीबंद एसडीएम रोहित सिसोनिया ने स्लीमनाबाद थाना अंतर्गत ग्राम सलैया प्यासी के छपरा हार में लगभग पौने दो एकड़ में लहलहा रही अफीम की फसल को पकड़ा था। पुलिस के साथ पहुंचे प्रशासनिक अधिकारी ने अफीम के फल और फूल लगी फसल को उखड़वाकर जप्त कराया था। पुलिस सूत्रों के अनुसार खेत से लगभग 7 ट्रक अफीम की फसल जप्त की गई है। पुलिस की माने तो मौके से खेत मालिक सुरेश चौधरी सहित पांच युवक फरार हो गए हैं।जिनकी तलाश की जा रही है।

सूत्रों की माने तो खेत मालिक सुरेश चौधरी की गिरतारी व उससे पूछताछ के बाद कई खुलासे होंगे। फसल फलने फूलने के बाद खेतों तक पहुंची पुलिस पुलिस सूत्रों की माने तो पौने दो एकड़ खेत में करीब तीन महीने पहले फसल बोए जाने का अनुमान लगाया गया है।

पुलिस द्वारा यह अनुमान फसल में आए फल और फूल को देखकर लगाया जा रहा है। कार्रवाई के दौरान मौके पर बहोरीबंद एसडीएम, स्लीमनाबाद टीआई सहित काफी संया में पुलिस बल मौजूद रहा है। इसके अलावा राजस्व विभाग के अधिकारी और कर्मचारी भी वहां पर उपस्थित थे।पुलिस दबिश के पहले खेत से भाग करीब पांच अज्ञात व्यक्तियों की जानकारी जुटाने का प्रयास पुलिस द्वारा शुरु कर दिया गया है। पुलिस को अज्ञात व्यक्तियों के संबंध में कोई जानकारी नहीं मिली है। इस मामले में पुलिस खेत मालिक सुरेश चौधरी से पूछताछ करेगी। पूछताछ के बाद ही इस बात की जानकारी मिलेगी कि किसके द्वारा मादक पदार्थ अफीम की खेती की जा रही थी। सुदूर ग्रामीण अंचल पुलिस की पहुंच से बाहर अफीम की कीमत अंतराष्टट्रीय बाजार में करोड़ों रुपए की बताई जा रही है।

अफीम की वास्तविक कीमत का पता फसल के पूरे आंकलन के बाद ही चल सकेगा। फिलहाल मामले की जांच पुलिस द्वारा की जा रही है।क्षेत्र में चल रहे अन्य अवैध कार्य सूत्रों की माने तो क्षेत्र में शासन व प्रशासन की नाक की नीचे सिर्फ अफीम बस की खेती नहीं हो रही है बल्कि क्षेत्र में अन्य कई तरह के अवैध कार्य किए जा रहे हैं।बताया जाता है कि स्लीमनाबाद थाना क्षेत्र के एक शातिर बदमाश के द्धारा जंगली क्षेत्र में कई तरह के अवैध कृत्य किए जा रहे हैं। छपरा हार में जब अफीम की खेती खुलेआम की जा सकती हैं तो ढीमरखेडा और बहोरीबंद के सुदूर ग्रामीण इलाके में खेतों में भी पुलिस आबकारी निगरानी रखे जहां सुनसान खेतों में भी नशा कारोबारी इस तरह की खेती कर सकते हैं।

Next Story
Share it