जबलपुर

जबलपुर-नैनपुर के बीच बेपटरी हुई कोयले से भरी माल गाड़ी, डिब्बों को भारी नुकसान

Sandeep Tiwari
18 July 2021 6:37 PM GMT
जबलपुर-नैनपुर के बीच बेपटरी हुई कोयले से भरी माल गाड़ी, डिब्बों को भारी नुकसान
x
Jabalpur Railway News / जबलपुर रेलवे न्यूज़ : जबलपुर-नैनपुर रेलखंड (Jabalpur-Nainpur railway line) के घंसौर में शनिवार को बड़ा ट्रेन हादसा हो गया। ताप विद्युत घर के लिए ट्रेन कोयला लेकर जा रही थी। बताया जाता है कि ट्रैक पर खडी गाड़ी के डिब्बे पीछे से एक-एक कर उतरने लगे। अचानक हुए हादसे में ट्रैक की पटरी जहां उखड़ गई, वहीं ओएचई लाइन को भी नुकसान हुआ है। राहत के लिए दुर्घटना राहत गाडी मौके पर पहुंच कर कार्य शुरू कर दिया गया है।

Jabalpur Railway News / जबलपुर रेलवे न्यूज़ : जबलपुर-नैनपुर रेलखंड (Jabalpur-Nainpur railway line) के घंसौर में शनिवार को बड़ा ट्रेन हादसा हो गया। ताप विद्युत घर के लिए ट्रेन कोयला लेकर जा रही थी। बताया जाता है कि ट्रैक पर खडी गाड़ी के डिब्बे पीछे से एक-एक कर उतरने लगे। अचानक हुए हादसे में ट्रैक की पटरी जहां उखड़ गई, वहीं ओएचई लाइन को भी नुकसान हुआ है। राहत के लिए दुर्घटना राहत गाडी मौके पर पहुंच कर कार्य शुरू कर दिया गया है।

अचानक हुआ हादसा

जानकारी के अनुसार दक्षिण-मध्य-पूर्व रेलवे बिलासपुर जोन (South-Central-Eastern Railway Bilaspur Zone) के अधीनस्त जबलपुर नैनपुर रेल खंड (Jabalpur-Nainpur railway line) में घंसौर ताप बिद्युत के लिए कोयला लेकर जा रही मालगाडी पटरी से उतर गई। बताया जाता है कि मालगाडी ट्रैक पर खड़ी थी कि अचानक से मालगाडी के डिब्बे अपने आप पटरी से उतर गये। ट्रैक के धस जाने से यह हादसा हुआ। माना जा रहा है कि रेलवे ट्रैक कोयला लोड मालगाड़ी का वजन बर्दाश्त नहीं कर पाया और यह दुर्घटना हो गई। दुर्घटना राहत गाड़ी मौके पर पहुंचकर डिब्बों को हटाने का काम शुरू कर चुकी है।

अचानक हुए हादसे में जहां मालगाडी के डिब्बों को भारी नुकसान हुआ है तो वहीं काफी मात्रा में कोयला भी बर्बाद हुआ हैं जिससे भारी नुकसान होना बताया जा रहा हैं। वहीं बचान के लिए नैनपुर और गोंदिया से दुर्घटना राहत गाड़ी राहत दल के साथ रवान हो गई हैं। सुधार तथा बचाव का कार्य शुरू कर दिया गया है।

माना जारहा है कि बहुत जल्दी ही ट्रैक को खाली कर लिया जायेगा। गनीमत यह है कि इस समय ट्रैक पर सप्ताह में कुल चार ट्रेनें ही संचालित होती हैं। अन्यथा रेल परिवहन में भारी परेशानी का सामना करना पड़ता।

Next Story
Share it